मानसून में फंगल इंफेक्शन का कारण और इससे बचने के घरेलू उपचार

बेशक सभी मौसमों की अपनी स्किनकेयर रूटीन होती हैं लेकिन मॉनसून में स्किनकेयर अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है। और इसका कारण हमेशा गीला, आर्द्र मौसम है जो समय पर ध्यान नहीं दिए जाने पर कई प्रकार की त्वचा संबंधी समस्याओं को जन्म देता है। त्वचा रोग विशेषज्ञ कहते हैं फंगल संक्रमण बारिश के मौसम की सबसे आम शिकायतें हैं। अपनी त्वचा को लंबे समय तक गीला न रखें। गुनगुने पानी से स्नान करना और एंटी-फंगल क्रीम, साबुन और पाउडर का उपयोग करना फंगल इंफेक्शन से निपटने में प्रभावी साबित होगा। इनमें से कुछ सामान्य संक्रमण एथलीट फुट, दाद, या गीले नम कपड़ों के कारण होने वाली खुजली हैं। यहाँ मानसून में फंगल इंफेक्शन से बचाव के कुछ सुझाव दिए गए हैं. Fungal Infection During Monsoon

Read : बारिश के पानी में नहाएंगे तो सेहत को होंगे ये फायदे

बरसात का मौसम किसे अच्छा नहीं लगता है, हर व्यक्ति बारिश के पानी में भीगना चाहता है। मानसून हमारे चारों ओर हरियाली लाता है इसके अलावा बरसात कई प्रकार के रोग और बिमारियों को भी अपने साथ लाती हैं। मानसून में फंगल इन्फेक्शन होना आम बात है और अधिकांश लोग इस समस्या से परेशान रहते हैं। फंगल संक्रमण एक आम प्रकार का संक्रमण है। फंगल इंफेक्शन होने का मुख्य कारण नमी का होना होता हैं। बरसात के पानी के कारण हमारे शरीर में नमी बनी रहती है जिसके कारण हमारी स्किन पर फंगल इंफेक्शन हो जाता है। फंगल इंफेक्शन को सामान्यतः सभी लोग दाद के रूप में जानते हैं।

मानसून का मौसम भले ही मन को बेहद सुहाना लगता हो, लेकिन यह अपने साथ कई तरह की समस्याएं लेकर आता है। किसी भी वक्त बारिश होने और जगह−जगह पानी भरने से अक्सर त्वचा गंदे पानी के संपर्क में आती है, जिससे फंगल इंफेक्शन होने की संभावना काफी बढ़ जाती है। लेकिन अगर आप चाहते हैं कि आपके साथ ऐसा कुछ न हो तो इसके लिए आप कुछ जरूरी टिप्स अपनाएं।

Fungal Infection During Monsoon

फंगल इन्फेक्शन क्या है :

फंगल इन्फेक्शन मानव शरीर को प्रभावित करने वाला एक कवक संक्रमण है। यह तब होता है, जब कवक की अधिक मात्रा शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर देती है। जिससे कवक से प्रभावित त्वचा में लाला धब्बे, दाद, खुजली और त्वचा में घाव आदि लक्षण दिखाई देने लगते है। हानिकारक कवक ही फंगल संक्रमण का कारण बनते हैं। यदि इस संक्रमण का सही समय पर निदान और उपचार ना किया जाये, तो ये अधिक जोखिम दायक होते है।

फंगल इन्फेक्शन के लक्षण :

  • प्रभावित क्षेत्र पर लाली या छाले पड़ना
  • त्वचा में पपड़ी निकलना
  • संक्रमित क्षेत्र में खुजली या जलन होना
  • योनि के आसपास खुजली और सूजन
  • सफेद दाग आना और अत्यधिक खुजली होना
  • पेशाब करने या संभोग करने के दौरान जलन या दर्द होना
  • त्वचा रूखी हो जाना तथा दरारें पड़ जाना

Read : बारिश में नवजात शिशु की देखभाल कैसे करें

फंगल इन्फेक्शन के प्रकार :

फंगल संक्रमण के सभी सामान्य प्रकारों में निम्नलिखित स्थितियां शामिल हैं जो कि आपको बरसात के मौसम में हो सकती हैं।

एथलीट फुट –

एथलीट फुट एक सामान्य फंगल संक्रमण है, जिसमें कवक गर्म और नम वातावरण में अपनी वृद्धि करते है। इस प्रकार के संक्रमण को टिनिया पेडीस के नाम से भी जाना जाता है, जो सामान्यतः व्यक्तियों के पैरों को प्रभावित करता है। यह इन्फेक्शन पैर की उंगलियों के होता है।

Fungal Infection During Monsoon

दाद –

दाद एक फंगल इन्फेक्शन का ही प्रकार है। यह त्वचा संक्रमण जॉक इच और एथलीट फुट का कारण बनता है। टिनिया कॉर्पोरेट या दाद एक त्वचा संक्रमण है जो मृत ऊतकों जैसे त्वचा, बाल और नाखूनों पर कवक के पाये जाने के कारण होता है।

यीस्ट इन्फेक्शन –

यीस्ट संक्रमण, कैंडिडा अल्बिकन्स नामक यीस्ट के कारण होता है। यह एक सामान्य योनि यीस्ट संक्रमण है। यह संक्रमण योनि में कैंडिडा के बढ़ने से बैक्टीरिया और कुछ यीस्ट (खमीर) के संतुलन में परिवर्तन होने के कारण उत्पन्न होता है, इस स्थिति में खमीर कोशिकाएं आपस में वृद्धि करती हैं। यह संक्रमण योनी में तीव्र खुजली, सूजन और जलन का कारण बनता है। यह संक्रमण कुछ एंटीबायोटिक्स , तनाव और हार्मोन असंतुलन या खराब खाने के कारण हो सकता है।

Read : वेजाइना को स्वस्थ और साफ रखने के तरीके

नाखून कवक –

नाखून कवक मुख्य रूप से विकृत, भंगुर (टूटने योग्य) और मोटे नाखून के रूप में जाना जाता है। यह हाथ के नाखूनों या पैर के नाखूनों को प्रभावित करने वाला फंगल इन्फेक्शन है। यह इन्फेक्शन सामान्यतः अधिक उम्र के व्यक्तियों या बुजुर्ग व्यक्तियों में आम है।

फंगल इन्फेक्शन के कारण :

फंगल संक्रमण होने के कई कारण हो सकते हैं। और यह किसी भी मौसम में हो सकता हैं लेकिन बरसात के मौसम में फंगल इन्फेक्शन होने की संभावना अधिक बढ़ जाती हैं। बरसात के मौसम में हवा में नमी रहती है और पानी भी गिरता है जिसके कारण हमारे शरीर पर भी नमी आ जाती हैं। हमारी त्वचा पर यह नमी कवक को जन्म देती हैं। जो कि फंगल इन्फेक्शन का कारण बन जाता हैं। इसके अलावा फंगल संक्रमण एक पर्यावरणीय दशाओं के कारण होने वाला रोग है। अतः इसका मुख्य कारण मिट्टी, हवा और पर्यावरण में मौजूद कवक होते हैं। इसलिए कोई भी व्यक्ति इस प्रकार की समस्याओं को ग्रहण कर सकता है।

घरेलू उपाय :

यदि आप बरसात के मौसम में होने वाले फंगल इन्फेक्शन से बचना चाहते है तो आप निम्न उपायों को अपनाएं-

एलोवेरा –

एलोवेरा मानसून से होने वाले फंगल इन्फेक्शन से बचाने में बहुत ही अच्छा होता है। एलोवेरा के असंख्य औषधीय लाभ हैं, यह त्वचा के साथ-साथ हमारी हेल्थ को भी कई प्रकार की समस्याओं से दूर रखता है। यह आसानी से त्वचा पर होने वाले फंगल इन्फेक्शन के चकत्ते और संक्रमण को ठीक कर सकता है। इसका प्रयोग करने के लिए आप थोड़ा सा ताजा एलोवेरा जेल लें और उसे प्रभावित क्षेत्र लगायें। फिर इसे आधे घंटे के लिए छोड़ दें, उसके बाद आप इसे ठंडे पानी से धो लें। कुछ समय तक आप एलोवेरा प्रयोग करें, यह फंगल इन्फेक्शन से आपको दूर रखने में मदद करेगा।

Read : चेहरे से पिम्पल्स की छुट्टी कर देंगे ये घरेलू नुस्खें

एप्पल साइडर विनेगर –

एप्पल साइडर सिरका एलर्जी सहित त्वचा की कई समस्याओं के लिए एक बहुत अच्छा उपचार है। यदि आप मानसून के मौसम में फंगल इन्फेक्शन से बचना चाहते है तो आपको इसका प्रयोग अवश्य करना चाहिए। इसका फंगल संक्रमण के उपचार के लिए आप पानी के साथ एप्पल साइडर सिरका की एक छोटी मात्रा को पतला करें और इसे कपास की गेंद का उपयोग करके प्रभावित क्षेत्र पर धीरे से लागू करें। इसमें मौजूद शक्तिशाली एंटीसेप्टिक, जीवाणुरोधी और एंटी फंगल गुण हमारी त्वचा पर होने वाले फंगल इन्फेक्शन और त्वचा के लाल दानों को ठीक करने में मदद करते है।

Fungal Infection During Monsoon

नीम –

बरसात में होने वाले फंगल इन्फेक्शन से बचने के लिए नीम बहुत ही लाभदायक होती हैं। नीम के पत्तों में पाया जाने वाले एंटी-फंगल, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण आपको मानसून में होने वाले वाले फंगल इन्फेक्शन से दूर रखता हैं। नीम के पत्तों का आयुर्वेद में एंटी-फंगल गुणों के कारण महत्वपूर्ण स्थान है। नीम के पत्ते त्वचा के दाने सहित विभिन्न बीमारियों का इलाज कर सकते हैं। बरसात के कारण होने वाले फंगल इन्फेक्शन से बचने और इसे ठीक करने के लिए आप एक मुठ्ठी नीम के पत्ते लेकर इसे 10 मिनट तक उबाल लें। अब इस नीम के पानी को छानकर नहाने वाले पानी की बाल्टी में मिला लें और इससे स्नान करें। नीम की पत्तियों के रोगाणुरोधी गुण त्वचा में मौजूद अशुद्धियों और विषाक्त पदार्थों को दूर करेंगे।

Read : इन घरेलू उपाय से ब्लैकहेड्स से पा सकते है छुटकारा

नारियल का तेल –

नारियल का तेल एक फैटी तेल है। जिसमें एंटीफंगल गुणों सहित कई स्वास्थ्य लाभ पाए जाते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि नारियल का तेल कैंडिडा अल्बिकन्स के लिए प्रभावी उपचार है। नारियल के तेल का उपयोग करके बरसात के मौसम में नमी के कारण होने वाले खमीर संक्रमण का इलाज करने में बेहद मदद मिलती है। आप नारियल के तेल को सीधे प्रभावित क्षेत्र में लगा सकते हैं।

कोल्ड कंप्रेस –

यदि आपको बरसात के मौसम में पानी की वजह से होने वाले फंगस इन्फेक्शन के कारण त्वचा पर होने वाले चकत्ते फफोले में विकसित हो जाते हैं, तो आप कोल्ड कंप्रेस अर्थात ठंडी सिकाई की कोशिश करें। यदि आपके पास घर पर कोल्ड कंप्रेस नहीं है, तो आप इसे कुछ ही देर में आसानी से तैयार कर सकते हैं। घर पर कोल्ड कंप्रेस बनाने के लिए आप एक प्लास्टिक की थैली में बर्फ के टुकड़े भर दें और इसके चारों ओर ठंडे पानी में धोया गया एक वॉशक्लॉथ लपेट दें। फिर आप लगभग 10-15 मिनट के बाद फंगल इन्फेक्शन से प्रभावित स्थान पर इस होममेड कोल्ड कंप्रेस को धीरे से थपथपाएं। ध्यान रखें कि आप इसे अपनी त्वचा पर बहुत लंबे समय तक नहीं रखेंगे क्योंकि इससे सुन्नता हो सकती है।

दही –

दही को प्रोबियोटिक माना जा सकता है क्योंकि इसमें लैक्टोबैसिलस नामक बैक्टीरिया पाया जाता है। जो कि बरसात के मौसम में फंगल इन्फेक्शन से बचाता है। दही शरीर में असंतुलन के कारण उत्पन्न समस्याओं का इलाज करने में मदद कर सकता हैं।

विटामिन सी –

विटामिन सी एक प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार कर सकता है। एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर को संतुलन करने में महत्वपूर्ण योगदान निभाती है। विटामिन सी में एंटीमिक्राबियल घटक होते हैं, जो फंगल संक्रमण के इलाज में अपना योगदान देते है। आप बरसात के मौसम में विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

इन्फेक्शन से बचने के टिप्स –

Read : भूलकर भी चेहरे के साथ न करें ये काम, बिगड़ सकती है ख़ूबसूरती

त्वचा को साफ करें :

त्वचा को दिन में तीन से चार बार नॉन-सोप फेस वॉश से साफ करना चाहिए। यह त्वचा के छिद्रों से अत्यधिक तेल और गंदगी को साफ करने और सांस लेने में मदद करता है।

त्वचा की टोनिंग :

त्वचा के पीएच संतुलन को बनाए रखने के लिए दिन में दो बार त्वचा को टोन करने के लिए गैर-अल्कोहल त्वचा टोनर का उपयोग किया जाना चाहिए। टोनिंग त्वचा को पुनर्जीवित करता है और इसे एक निर्मल चमक देता है।

मॉइस्चराइज्ड त्वचा :

यदि आपकी त्वचा सूखी दिखती है, तो एक अच्छे मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें। बिस्तर पर जाने से पहले गुलाब जल, ग्लिसरीन या बादाम का तेल लगाने से लाभ होता है और त्वचा कोमल और स्वस्थ रहती है।

तैलीय त्वचा को साफ रखें :

यदि आपकी त्वचा तैलीय है और आपके पास व्हाइटहेड्स या ब्लैकहेड्स हैं, तो पानी आधारित मॉइस्चराइज़र, क्लीन्ज़र का उपयोग करके और साइट्रस फेस पैक लगाकर त्वचा से तेल स्राव को कम करने का प्रयास करें। बहुत सारा पानी पीने से तेल उत्पादन को कम करने में भी मदद मिलती है।

अपनी त्वचा को ढालें :

सिर्फ इसलिए कि यह मौसम बादलदार है, इसका मतलब यह नहीं है कि आपकी त्वचा धूप से सुरक्षित है। आपकी त्वचा को सूरज की हानिकारक यूवी किरणों से बचाना बेहद ज़रूरी है, इसलिए हमेशा उच्च एसपीएफ कारक वाले अच्छे सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें। स्किन पर एक अच्छे मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें।

डेड स्किन :

मृत त्वचा कोशिकाओं को दैनिक रूप से हटा दिया जाना चाहिए। उन मृत कोशिकाओं से छुटकारा पाने के लिए और अपनी त्वचा को चमकदार बनाने के लिए एक अच्छे स्किन स्क्रब का उपयोग करें।

Read : होंठों का कालापन दूर करने के घरेलू उपाय

पर्याप्त पानी पियें :

त्वचा के जलयोजन को बनाए रखने के लिए कम से कम सात से आठ गिलास पानी पिएं, क्योंकि पसीने के कारण त्वचा बहुत पानी खो देती है।

बालों को बार-बार धोएं :

बालों को बार-बार धोएं जो आप आमतौर पर मानसून में करते हैं क्योंकि सभी नमी और पसीने से यह जल्दी गंदा हो जाता है और इससे धूल और प्रदूषण फैलता है। क्योंकि सिर नमी और पसीने से यह जल्दी गंदा हो जाता है जो कि फंगल इन्फेक्शन का कारण है।

आर्टिफिशियल ज्वेलरी से बचें :

जिन लोगों की त्वचा बहुत संवेदनशील होती है, उनके लिए पूरी तरह से भारी ज्वैलरी पहनने से बचना सबसे अच्छा होता है। जब यह किसी भी नमी के संपर्क में आता है तो नमी आपकी त्वचा को तोड़ सकती है। इसलिए अपनी गर्दन और कलाई के आसपास के आर्टिफिशियल ज्वेलरी और गहनों को पहनने से बचें और अपनी त्वचा को सांस लेने दें।

त्वचा को शुष्क रखें :

बरसात में अपने त्वचा को शुष्क रखें। यदि आपकी त्वचा पर नमी नहीं रहेगी तो फंगल इन्फेक्शन होने का खतरा कम हो जाता हैं।

एक बोनस टिप :

रासायनिक छिलके एक चमकदार त्वचा को तरोताजा करने का एक शानदार तरीका है। कई प्रकार के छिलके उपलब्ध हैं – संवेदनशील त्वचा के लिए छिलके, आंखों के नीचे के काले घेरे के लिए आर्गिनिन के छिलके आदि, बेशक, ये सभी बाहरी प्रयास व्यर्थ होंगे यदि आप अंदर से स्वस्थ नहीं हैं। इसलिए सब्जियां और फल खाएं और सुनिश्चित करें कि आपको पर्याप्त आराम मिले और अपेक्षाकृत तनाव मुक्त रहें।

आप इस मानसून में फंगल संक्रमण से सुरक्षित रहें और सभी आवश्यक सावधानियों के साथ इस बारिश के मौसम का आनंद लें।

This post was last modified on August 18, 2019 5:41 AM

Share
Nidhi

I am a freelancer content writer, and I am writing contents for many websites since very long time.

Published by

Recent Posts

लंच या डिनर का मेन्यू बनाएं स्पेशल ‘मटर कोफ्ते’ के साथ

वैसे तो आजकल मटर हर मौसम में मिल जाती है पर जो स्वाद हरी ताज़ी मटर में होता है वो… Read More

January 25, 2020

मौनी अमावस्या पर क्यों रहते हैं मौन? जानिए क्या है शुभ मुहूर्त

मौनी अमावस्या पर मौन रहकर स्नान और दान करने का विशेष महत्व है. इस दिन पूरी तरह से मौन रहें… Read More

January 23, 2020

हरी मटर का निमोना बनाने की विधि | Matar Nimona Recipe In Hindi

सर्दियों की शान मटर आपकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। मटर में पाए जाने वाले विटामिन K ,… Read More

January 21, 2020

अमरूद खाने से मिलेंगे अनेक फायदे | Health Benefits Of Guava in Hindi

अमरूद के औषधीय गुण है जो सामान्य मिलने वाले फल अमरूद में प्रोटीन, विटामिन और फाइबर भरपूर होता है जबकि… Read More

January 20, 2020

चना दाल लड्डू बनाने की विधि | Chana Dal Laddu Recipe in Hindi

किचन डेस्क : चने की दाल से बनी चीजें खाना पसंद करते हैं तो सिर्फ नमकीन चीजें ही क्यों, इससे… Read More

January 19, 2020

पीरियड्स के दिनों में धोती है बाल तो जान लें नुकसान | Hair Wash During Periods In Hindi

पीरियड्स हर माह लड़कियों व महिलाओं को होने वाली एक आम प्रक्रिया है। इस दौरान महिला के प्राइवेट पार्ट से… Read More

January 18, 2020