ad2

सिंघाड़े के आटे का भारतीय त्योहारों में खाने की अहम भूमिका रहती है, आप सिंघाड़े के आटे को हलवा बनाकर ट्राई कर सकते है। यह एक बहुत अच्छा आप्शन है और इसे आप कभी भी बनाकर खा सकते हैं। Singhare Ke Aate Ka Halwa Recipe

ये भी पढ़िए : पक्के केले के बर्फी बनाने की विधि

यह व्रत और खासकर नवरात्रि के पर्व पर अधिक बनाया जाता है। नौ दिनों तक चलने वाले इस उत्सव में कई लोग देवी दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए उपवास रखते हैं। इस व्रत को पूरा करने के लिए लोग अपने घर में तरह-तरह के पकवान बनाते हैं। आज हम आपको इन सब से हटकर सिघाड़े के आटे का हलवा बनाने की विधि बताने जा रहें हैं। जो स्वादिष्ट होने के साथ-साथ हमारे लिए स्वास्थ्यवर्धक भी हैं। आइए जानते हैं सिघाड़े के आटे का हलवा बनाने की विधि के बारे में।

आवश्यक सामग्री :

सिघाड़े आटा – 1 कटोरी

घी – 2 चम्मच

चीनी – 1 कटोरी

इलाइची पीसी – 4

सूखा नारियल (कद्दूकस करा हुआ) – ½ कप

काजू, बादाम (बारीक कटे) – 1-1 चम्मच

Singhare Ke Aate Ka Halwa Recipe
Singhare Ke Aate Ka Halwa Recipe

बनाने की विधि :

  • सिंघाड़े के आटे को छान के अलग रख ले, फिर किसी कढाई में घी डाल कर गरम कीजिये इसमें सिघाड़े का आटा डाल कर हल्का गुलाबी होने तक भूनिये.
  • इसके बाद भुने हुये आटे में 3 कटोरी पानी और चीनी मिलाकर कलछुल से लगातार चलाते जाइये.
  • जब मिश्रण में उबाल आ जाये तो गैस धीमी करके 4-5 मिनिट तक या हलवे के गाढ़ा होने तक पकाइये.
  • कटी हुई आधी मेवा और पिसिस इलाइची मिला दीजिये.
  • अब एक थाली में घी लगा कर उसको चिकना कीजिये और इसमें हलवे डालकर पतला पतला दीजिये.
  • अब बाकी बची हुई मेवा भी उसके ऊपर फैला और ठंडा होने दीजिये.
  • जब यह ठंडा हो जाये तो चाकू से अपने मनपसन्द आकार में काट लीजिये.
  • सिंघाड़े का हलवा तैयार है इसको आप व्रत में खा सकती है
  • हलवा को बिना जमाये ऐसे भी गरम गरम खा सकते है, दोनों तरह से ही हलवा अच्छा लगता है.

ये भी पढ़िए : सिंघाड़े के आटे की कढ़ी बनाने की विधि

नोट:

सिंघाड़े के आटे का हलवा बनाने के लिये आटा भूनते समय और पानी डालने के बाद भी लगातार चलाते रहें वरना आटा तली में लग सकता है

अगर हलवे को आप बर्फी के रूप में काटना चाहते हैं तो पहले से एक थाली में घी लगा कर रखें और जैसे ही हलवा बन कर तैयार हो उसे थाली में पलट लें और हथेलियों की मदद से एकसार फैला लें

ये भी पढ़िए : नवरात्रि व्रत के लिए साबूदाना के वडे बनाने की विधि

काजू और बादाम के टुकड़े डालने की बजाय कद्दूकस किया हुआ नारियल डालें , ठण्डा हो जाने पर बर्फी के आकार में काट लें

Previous articleनवरात्रि का व्रत कर रहे हैं तो यह 13 काम बिलकुल ना करें
Next articleलीवर की कमजोरी कारण लक्षण और दूर करने के उपाय
Akanksha
मेरा नाम आकांक्षा है, मुझे नए नए टॉपिक पर आर्टिकल्स लिखने का शौक पहले से ही था इसलिए मैंने आकृति वेबसाइट पर लिखने का फैसला लिया !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here