गर्भवती महिलाएं ध्यान दें, ज़रूरी नहीं आपका ये दर्द लेबर पेन ही हो !

क्या यह वास्तविक प्रसव पीड़ा है या मिथ्य प्रसव पीड़ा? क्या संकुचन और दोनों ही स्थितियों में अन्य कुछ सामान्य लक्षणों के कारण वास्तविक प्रसव पीड़ा और मिथ्य प्रसव पीड़ा का अंतर कर पाना मुश्किल है। इसलिए मिथ्य प्रसव पीड़ा को पहचानना जरूरी ताकि जब भी आपको यह हो, आप घबराएं नहीं या इसके भ्रम में आप वास्तविक प्रसव पीड़ा को अनदेखा ना कर दें। हम आपको इसके बीच के अंतर को पहचानने में मदद करेंगे। Signs of Labour Pain

मिथ्य प्रसव पीड़ा क्या है?

मिथ्य प्रसव पीड़ा दर्दनाक और अनियमित संकुचन की स्थिति है, साथ ही ब्रेक्सटन हिक्स संकुचन भी कहा जाता है। यह चौथे महीने की शुरुआत में हो सकते हैं लेकिन प्रसव की तारीख निकट आने के समय अधिक होते हैं। यह संकुचन मिथ्य प्रसव पीड़ा का संकेत है क्योंकि इसमें दर्द होता है लेकिन गर्भाशय ग्रीवा का फैलाव नहीं होता है।

हालांकि, मिथ्य प्रसव पीड़ा हर गर्भवती महिला को नहीं होती है। लेकिन अगर आपको प्रसव की तिथि से पहले संकुचन हो, तो यह जानना बेहतर होगा की वह मिथ्य प्रसव पीड़ा है या नहीं।

मिथ्य प्रसव पीड़ा के संकेत क्या है?

यह है मिथ्य प्रसव पीड़ा को पहचानने के कुछ संकेत:

  • अनियमित संकुचन
  • पेट में कसावट
  • वाटर ब्रेक ना होना। अगर आप अमोनिया की गंध वाले किसी द्रव के रिसाव को देखती हैं तो यह मूत्र है, ना की एमिनोटिक द्रव (यह गंधरहित होता है)।
  • यह दिन में कुछ एक बार होता है, और बाद के स्तर पर, यह हर दस से बीस मिनट में हो सकता है।
  • रक्तस्राव ना होनाजैसा की पहले ही बताया जा चुका है की हर महिला मिथ्य प्रसव पीड़ा से नहीं गुजरती है, लेकिन कुछ निश्चित मामलों में, आपको इसका अनुभव करने की संभावना अधिक होती है।

मिथ्य प्रसव पीड़ा के कारण क्या है?

मिथ्य प्रसव पीड़ा अक्सर निम्न कारणों से शुरू होती है:

  • शारीरिक गतिविधि जैसे सीढ़ियां चढ़ना
  • संभोग के कारण
  • भरा हुआ मूत्राशय, जब आप सुबह उठे
  • अगर आप डिहाइड्रेटिड हों या आपको बुखार हो
  • आपका बच्चा गर्भाशय में गतिविधि करे।

ब्रेक्सटन हिक्स या मिथ्य प्रसव संकुचन कैसा महसूस होता है?

ब्रेक्सटन हिक्स संकुचन आपकी पेट की मांसपेशियों को कसने या कमर के निचले हिस्से और श्रोणि में दबाव व हलचल की तरह महसूस होता है। यह संकुचन लम्बे समय तक नहीं चलते है, यह समय के साथ ना ही मजबूत होते हैं और ना ही निकट आते हैं। अगर यह संकुचन आपकी गर्भावस्था के आखिरी हफ्तों में महसूस होता है, तो यह दर्शाता है की आपका वास्तविक प्रसव अधिक दूर नहीं है।

वास्तविक प्रसव संकुचन कैसे महसूस होते हैं?

वास्तविक प्रसव पीड़ा के संकुचन में कमर या पेट के निचले हिस्से में दर्द या असहजता होती है। आप पेल्विक एरिया में दबाव महसूस करेंगे। कुछ गर्भवती महिलाओं में, दर्द जांघों में महसूस होता है। यह नियमित अंतराल में होता है और समय के साथ अधिक मजबूत होता है और निकट आता है। प्रत्येक संकुचन 30-70 सेकेंड के लिए होता है।

मिथ्य प्रसव पीड़ा को शांत करने के उपाय:

असुविधा को दूर करने में आपकी सहायता करने के लिए कुछ उपाय इस प्रकार है:

  • सेर पर जाएं
  • लेटने के दौरान स्थिति बदलें
  • आराम करें
  • पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं
  • शरीर को आराम देने के लिए गर्म पानी से नहाएं
  • शरीर की मालिश करें

इन आसान उपायों से दर्द कम हो जाना चाहिए। हालांकि, अगर संकुचन नियमित रूप से हो रहे हैं और आपके प्रयोसों के बाद कम नहीं होते हैं, तो डॉक्टर से परामर्श लें।

डॉक्टर से कब संपर्क करें?

डॉक्टर से परामर्श लेना आवश्यक है अगर आप आप यह देखें:

  • योनि से गाढे लाल रंग का रक्तस्राव
  • लगातार द्रव का रिसाव या वाटरब्रेक
  • संकुचन हर पांच मिनट बाद एक घंटे से अधिक महसूस हो
  • शिशु की गति-विधि में विशेष बदलाव, जैसे की एक घंटे में 6-10 कम गतिविधियाँ
  • संकुचन के कारण चलने में असमर्थता

अगर आप 37 हफ्तों से पहले इस तरह का संकुचन महसूस करें, तो आपको समय पूर्व प्रसव की संभावना से बचने के लिए फौरन डॉक्टर को संपर्क करना चाहिए। अन्यथा, आप क़रीबी से समय पूर्व संकेतों पर निगरानी रख सकते हैं। अगर आप संकुचन के प्रकार को लेकर सुनिश्चित ना हो, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें और अपनी स्थिति स्पष्ट बताएं।

Share
Nidhi

Hello Friends, I am a freelancer content writer, and I am writing contents for many websites since very long time.

Recent Posts

गणेशोत्सव 2019 : ‘बप्पा मोरया’ के घर आगमन पर इन 10 बातों का रखें ध्यान

प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी 2 सितंबर, सोमवार से गौरी-पुत्र श्री गणेश जी हमारे मध्य पूरे दस दिनों के लिए विराजमान… Read More

August 30, 2019 4:56 pm

हरतालिका तीज पर डायबिटीज के मरीज व्रत रखने से पहले ये 7 बातें जान लें

हिन्दु धर्म की मान्यताओं में सुहागिन महिलाओं का मुख्य व्रत हरितालिका तीज माना जाता है।हरतालिका तीज व्रत भाद्रपद शुक्ल पक्ष… Read More

August 29, 2019 4:29 pm

हरे धनिया की खस्ता मठरी बनाने की विधि

हरे धनिये की खस्ता मसाला मठरी साधारण मठरी के मुकाबले बहुत ही स्वादिष्ट बनती है, साधारण मठरी सिर्फ अजवायन डालकर… Read More

August 28, 2019 4:45 pm

आलू के छिलकों में भी छिपे है सेहत और सौंदर्य के गुण, जाने इसे खाने या लगाने के फायदे

आलू ऐसी सब्जी है जिसका इस्‍तेमाल तकरीबन हर सब्‍जी में होता है। आलू से बनी हर चीज खाने में जायकेदार… Read More

August 27, 2019 1:57 pm

01 नहीं, 02 सितंबर को मनाई जाएगी हरतालिका तीज, ये है वजह

हर वर्ष भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को हरतालिका तीज का व्रत रखा जाता है। हरतालिका तीज 1… Read More

August 26, 2019 1:24 pm

रानू मंडल : रेलवे स्‍टेशन से इंटरनेट सेंसेशन बनने तक का सफर

इंसान वही जो अपनी तकदीर बदल दे। कल क्या होगा उसकी कभी ना सोचो, क्या पता कल वक्त, खुद अपनी… Read More

August 25, 2019 5:33 pm