क्या आपको गर्भावस्था के दौरान सेक्स से दूर रहना चाहिए !

एक बार जब आपको पता चलता है कि आप मां बनने वाली हैं, तो आप अपनी वर्तमान जीवनशैली में कई बदलाव करने है। आप अपने विकासशील शिशु पर ज्यादा ध्यान देने लगती है। गर्भावस्था के दौरान एक बड़ा संदेह आपको परेशान करता है कि इस नाज़ुक दौर में अपने साथी के साथ सेक्स करना सुरक्षित है या नहीं? हालांकि गर्भावस्था के दौरान सेक्स करना बिल्कुल सुरक्षित है, लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि इस दौरान सेक्स करने से आपके भीतर भ्रूण को किसी भी तरह का कोई ना हो।सामान्य लो रिस्क प्रेगनेंसी में, इंटर-कोर्स और ना ही ऑर्गेज़म आपके और आपके शिशु के लिए जोख़िम का कारण बनता है। Sex During Pregnancy

चूंकि आपका नन्हा शिशु पूरी तरह एमिनोटिक द्रव से घिरा होता है और आपकी गर्भाशय की दीवार द्वारा सुरक्षित होता है और गर्भावस्था के दौरान मोटा म्यूकस प्लग सर्विक्स को बंद कर देता है और संक्रमण से सुरक्षा प्रदान करता है, स्वस्थ गर्भवती महिला के लिए गर्भावस्था के दौरान सेक्स करना पूरी तरह से सुरक्षित है। हालांकि, कुछ चिकित्सकीय स्थितियाँ गर्भावस्था के पहले और आखिरी तिमाही में सेक्स से दूरी बनाए रखने का सुझाव देती हैं या कभी पूरी गर्भावस्था के दौरान। आइए जानते हैं आठ कारण कि आपको गर्भावस्था के दौरान क्यो सेक्स से दूर रहना चाहिए।

गर्भाशय ग्रीवा में समस्या –

यह एक ऐसी स्थिति है जहां गर्भाशय ग्रीवा में पर्याप्त मज़बूती नहीं होती है और इसमें आपको सेक्स से दूर रहने की जरूरत पड़ सकती है ख़ासतौर पर तब जब आपका भ्रूण विकसित होता है और उसका भार आपके गर्भाशय ग्रीवा पर पड़ता है, आपकी गर्भाशय ग्रीवा को बढ़ते भ्रूण का भार उठाना ही पड़ता है।

गुप्तांग हर्पीज –

अगर आपके साथी में गुप्तांग हर्पीज का निदान किया जाता है, तो यह बहुत आवश्यक है कि आप गर्भावस्था के दौरान सेक्स से दूर रहें, चाहे आपके साथ में किसी तरह का लक्षण दिखे या ना दिखे। आपको ओरल सेक्स से भी दूर रहना चाहिए, अगर आपका साथी ओरल हर्पीज से पीड़ित हो।

किसी भी प्रकार के यौन संक्रमित रोग –

यह सुझाया जाता है कि अगर आपके साथी को यौन संक्रमित रोग हो तो आप किसी भी तरह के यौन संबंध से दूरी बनाए रखें।

प्लेसेंटा में समस्या –

अगर आप गर्भावस्था के आखिरी दो तिमाही में रक्तस्राव महसूस करें, तो इस बात की पूरी संभावना है कि आपको किसी प्रकार की प्लेसेंटल समस्या हो, जैसे प्लेसेंटल एब्रप्शन, प्लेसेंटल प्रीविया, प्लेसेंटल एक्रेटा। इस मामले में डॉक्टर आपको शिशु के जन्म तक सेक्स से दूर रहने का सुझाव देंगे।

योनि से रक्तस्राव –

एक अन्य मामला जब आपको गर्भावस्था के दौरान सेक्स से दूर रहने की सलाह दी जाती है, वह है योनि से रक्तस्राव होना। आपको अपने डॉक्टर से मिलकर एक बार यह ज़रूर जानना चाहिए कि रक्तस्राव का कारण क्या है। योनि से रक्तस्राव कई अलग-अलग कारणों से होता है, इनमें से कुछ में आपको गर्भावस्था के पहले और अंतिम तिमाही में सेक्स से दूर रहना पड़ता है और कभी पूरी गर्भावस्था के दौरान भी।

डाइलेटिड सर्विक्स –

इस स्थिति में भी गर्भावस्था के दौरान सेक्स से दूर रहने की सलाह दी जाती है।

समय से पूर्व प्रसव का इतिहास –

अगर आपका भी समय से पूर्व प्रसव पहले हो चुका है, तो डॉक्टर आपको अक्सर गर्भावस्था के आखिरी हफ्तों में सेक्स से दूर रहने की सलाह देंगे। जब वीर्य गर्भवती महिला के पेल्विक क्षेत्र के संपर्क में आता है या गर्भवती महिला को आर्गेजम होता है या निप्पल में उत्तेजना होती है, तो इन सभी गतिविधियों से समय पूर्व प्रसव हो सकता है।

लगातार गर्भपात होने का इतिहास –

अक्सर, आप कुछ कारणों की वजह से लगातार गर्भपात के बाद गर्भवती होती है। इस तरह के मामले में भी, डॉक्टर आमतौर पर दंपति को सुझाव देते हैं कि उन्हें गर्भावस्था के दौरान सेक्स से दूर रहना चाहिए।

शांत रहिए, सिर्फ सेक्स करना ही एक-दूसरे को प्यार जताने का एकमात्र तरीका नहीं है। अगर आपको अपने और अपने शिशु के स्वास्थ्य के लिए सेक्स से दूर रहने का सुझाव दिया गया है तो आगे बढ़े और इस बात को सुनिश्चित करें कि आप इसका पालन शिशु को जन्म देने तक ज़रुर करे। हालांकि आप करीब आने के कुछ अलग तरीके अपना सकते हैं, जैसे चूमना, गले लगना या मालिश करना, यह देखा गया है कि फोरप्ले, ओरल सेक्स भी उतना ही आनंद प्रदान करते हैं।

इस बात का ध्यान रखें की आप अपने साथी से खुलकर और ईमानदारी से अपनी ख़्वाहिश जाहिर करें। इससे आपका रिश्ता मजबूत होगा और प्यार बढ़ेगा। अगर आपको कुछ असहज लगे या आपको उससे तकलीफ़ हो तो भी अपने साथी से खुलकर बात करें, वह आपको समझेंगे और आपका साथ देंगे।

Share

Recent Posts

अब कोई चाय पीने से आपको रोके तो ये खबर उसे ज़रूर पढ़ाएं

नियमित रूप से चाय पीने वाले लोगों के दिमाग का प्रत्येक हिस्सा चाय नहीं पीने वालों की तुलना में बेहतर… Read More

September 2, 2019

नूर जहानी कोफ्ता बनाने की विधि

नूर जहानी कोफ्ता एक वेजिटेरियन रेसिपी है जो कि अवध की रसोईं से आई है। यह एक बहुत ही क्रीमी… Read More

September 1, 2019

गणेशोत्सव 2019 : ‘बप्पा मोरया’ के घर आगमन पर इन 10 बातों का रखें ध्यान

प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी 2 सितंबर, सोमवार से गौरी-पुत्र श्री गणेश जी हमारे मध्य पूरे दस दिनों के लिए विराजमान… Read More

August 30, 2019

हरतालिका तीज पर डायबिटीज के मरीज व्रत रखने से पहले ये 7 बातें जान लें

हिन्दु धर्म की मान्यताओं में सुहागिन महिलाओं का मुख्य व्रत हरितालिका तीज माना जाता है।हरतालिका तीज व्रत भाद्रपद शुक्ल पक्ष… Read More

August 29, 2019

हरे धनिया की खस्ता मठरी बनाने की विधि

हरे धनिये की खस्ता मसाला मठरी साधारण मठरी के मुकाबले बहुत ही स्वादिष्ट बनती है, साधारण मठरी सिर्फ अजवायन डालकर… Read More

August 28, 2019

आलू के छिलकों में भी छिपे है सेहत और सौंदर्य के गुण, जाने इसे खाने या लगाने के फायदे

आलू ऐसी सब्जी है जिसका इस्‍तेमाल तकरीबन हर सब्‍जी में होता है। आलू से बनी हर चीज खाने में जायकेदार… Read More

August 27, 2019