प्रेगनेंसी के दौरान मैटरनिटी बेल्ट के फायदे जानकर चौंक जाएंगे आप

किसी भी महिला के गर्भावस्था का वक़्त सुखद तो होता ही है लेकिन क़ाफी चुनौतीपूर्ण भी होता है क्यूंकि इस दौरान महिला में ना सिर्फ शीरीरिक बल्कि मानसिक बदलाव भी होते हैं। जब कोई महिला प्रेग्नेंट होती है तो उसे अपने स्वास्थ्य के साथ-साथ अपने कंफर्ट का भी पूरा ख्याल रखना पड़ता है। इस दौरान महिला को शारीरिक तौर पर कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है क्यूंकि प्रेगनेंसी के दौरान उठने-बैठने और झुकने तक में परेशानी होती है और प्रेगनेंसी के दौरान होने वाली मुश्किलों को ध्यान में रखते हुए ही मैटरनिटी बेल्ट का निर्माण किया गया है। Benefits of Maternity Belt During Pregnancy

जिन्हें मैटरनिटी बेल्ट के बारे में नहीं पता उनकी जानकारी के लिए हम बता दें कि मेटरनिटी बेल्ट एक तरह का बेल्ट होता है जो की प्रेग्नेंट महिलाओं के आराम के लिए बनाया गया है जो गर्भवती महिलाओं के पेट और कमर को सहारा देता है। इसे पहनने से सूजी हुई मांसपेशियां वापस अपने पुराने शेप में आ जाती हैं। यह गर्भ के दूसरे और तीसरे तिमाही चरण में महिला को बहुत सहायता करती है। आज इस ब्लॉग के ज़रिये हम आपको इस बेल्ट के कुछ फ़ायदे बताने जा रहे हैं।

1. दर्द होता है कम

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर में काफ़ी दर्द रहता है, ख़ासकर बढ़ते वज़न के चलते उनके कमर, जोड़ों, पीठ में काफ़ी दर्द रहता है और इसलिए उन्हें रोज़मर्रा की कार्यो में भी बहुत परेशानी होती है। लेकिन मैटरनिटी बेल्ट उनके गर्भ और पीठ को सहारा देता है और वो बिना किसी परेशानी और दर्द के अपने काम कर सकती है।

2. रोज़मर्रा के कार्यों में मदद

प्रेगनेंसी के दौरान महिला को रोज़मर्रा के कार्यों में काफ़ी परेशानी आती है और कभी-कबि उन्हें घूमने टहलने में भी कई समस्या होती है लेकिन इस दौरान यह बेल्ट लगाने से उनके बेबी बंप को सहारा मिलता है और वो रोज़मर्रा के कार्यों को आसानी से कर सकती हैं।

3. हार्निया की समस्या में है लाभदायक

महिलाएं जो हार्निया की परेशानी से गुज़रती हैं वो अगर गर्भावस्था के दौरान यह बेल्ट लगाए तो उन्हें काफ़ी फायदा मिलेगा।

4. शरीर के पॉस्चर को रखता है सही

यह बेल्ट पहनने से आपके पीठ और कमर को सहारा मिलता है जिस कारण आपके शरीर का पॉस्चर सही रहता है क्यूंकि गर्भावस्था के दौरान कई बार रीढ़ की मासपेशियाँ खिंच जाती हैं और मैटरनिटी बेल्ट इन मासपेशियों को खिंचचने से रोकती है और गर्भवती महिला के शरीर को झुकने से बचाती है और सीधा रखती है।

5. दबाव भी है ज़रूरी

अगर पुरे दिन के काम के दौरान अगर पेट में हल्का-हल्का दबाव पड़े तो इससे गर्भाशय को सहारा मिलता है और चलने-फिरने में भी परेशानी कम होती है और यही फायदा पहुंचाता है मैटरनिटी बेल्ट लेकिन ध्यान रहे की यह दवाब ज़्यादा ना हो इसलिए बेल्ट को ज़्यादा कसकर ना बांधें नहीं तो इससे पेट में खून के बहाव में असर पड़ेगा इसलिए इसे अपने सहूलियत के हिसाब से ही बांधे।

इन सबके अलावा अगर आप मैटरनिटी बेल्ट बाँधने का सोच भी रही हैं तो एक बार इसके बारे में अपने डॉक्टर से भी बात कर ले और इसे कितना टाइट बांधना है और कब से पहनना शुरू करना है और कब-कब बांधना है उसके बारे में भी अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछ लें।

Share
Nidhi

I am a freelancer content writer, and I am writing contents for many websites since very long time.

Recent Posts

मिल्क पाउडर गुजिया बनाने की विधि

गुजिया होली की खास मिठाई है. यह अनेक तरह की स्टफिंग और आकार में बनाई… Read More

February 23, 2020

शिशुओं में डायपर रैशेस के लिए घरेलू उपचार

Natural Remedies For Diaper Rash : बच्चों में डायपर से रैशेस पड़ना बहुत आम बात… Read More

February 22, 2020

फाल्गुन अमावस्या 2020 में कब है, जानिए शुभ मुहूर्त, महत्व, पूजा विधि और कथा

फाल्गुन अमावस्या को साल की आखिरी अमावस्या माना जाता है, इस दिन किसी पवित्र नदीं… Read More

February 22, 2020

मूंग दाल की मंगौड़ी बनाने की विधि

दोस्तों आज हम बेहद कुरमुरी ज़ायकेदार स्वास्थ्य के हिसाब से लाभकारी एक प्रमुख व्यंजन मंगौड़ी… Read More

February 20, 2020

भगवान शिव के उपवास में भूलकर भी न करें इन व्यंजनों का सेवन

हिन्दू धर्म में महाशिवरात्रि का पर्व बहुत श्रद्धा से मनाया जाता है. यह भगवान शिव… Read More

February 20, 2020

स्वादिष्ट मूली का अचार बनाने की विधि

मूली का अचार खाने में बहुत ही बढ़िया लगता है और ठंड में तो इसे… Read More

February 19, 2020