NCC Day 2021
ad2

हेल्लो दोस्तों विश्व का सबसे बड़ा वर्दीधारी युवा संगठन राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) रविवार को अपना 73वां स्थापना दिवस मनाएगा. एनसीसी दिवस (NCC Day 2021) हर साल नवंबर माह के चौथे रविवार को मनाया जाता है। इस अवसर पर दिल्ली में अमर जवान ज्योति इंडिया पर माल्यार्पण समारोह, किसी समसामयिक विषय पर व्याख्यान एवं साहसिक अभियान जैसे विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। NCC की फुल फॉर्म ‘राष्ट्रीय कैडेट कोर’ (National Cadet Corps) है। इसकी स्थापना 16 अप्रैल 1948 में कुंजरु समिति ने की ​थी। यह एक त्रि-सेवा संगठन है, इसका आदर्श वाक्य “एकता और अनुशासन” है। पहला एनसीसी दिवस 1948 में तत्कालीन प्रधानमंत्री स्वर्गीय पंडित जवाहर लाल नेहरू के निर्देशों के तहत मनाया गया था। उन्होने एनसीसी दिवस मनाने का प्रावधान शुरू किया था।

ये भी पढ़िए : आखिर हर साल 5 सितम्बर को ही क्यों मनाया जाता है शिक्षक दिवस, जानें इतिहास और महत्व

एनसीसी का मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। इस मुख्यालय को कमांड करने वाला अधिकारी डायरेक्टर जनरल एनसीसी कहलाता है जो लेफ्टिनेंट पद का अफसर होता है। यह सीधे भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय के प्रति उत्तरदायी होता है। महानिदेशक के अधीन भारत के विभिन्न राज्यों में उप महानिदेशक एनसीसी कार्यरत हैं, जो ब्रिगेडियर के समकक्ष पद के अफसर होते हैं। इनका मुख्यालय राज्य की राजधानी या राज्य के किसी बड़े शहर में स्थित होता है।

एन सी सी क्या है :

NCC (एनसीसी) भारत का एक सैन्य कैडेट कोर है जो स्कूल और कॉलेज के छात्रों को सेना, नौसेना और वायु सेना के लिए उपयुक्त सैन्य प्रशिक्षण प्रदान करता है. यह 3 साल का एक कोर्स टाइप होता है जिसे पूरा करने पर योग्यता अनुसार सर्टिफिकेट भी मिलता है. ये मानिए कि इसे ज्वाॅइन करने वाला छात्र फौजी ही बन जाता है.

इसके झंडे में तीन रंग है: लाल.. सेना के लिए, गहरा नीला.. नौसेना के लिए और हल्का नीला.. वायु सेना के लिए है। NCC के छात्र अलग-अलग तरह की वर्दी पहनते है- खाकी.. सेना के लिए, सफेद.. नौसेना के लिए और हल्की नीली.. वायु सेना के लिए। काॅलेज में NCC और NSS दोनों इकट्ठी भी ज्वाॅइन की जा सकती है।

NCC Day 2021
NCC Day 2021

कैसे करें ज्‍वॉइन :

एनसीसी ज्‍वॉइन करने के लिए आपका भारतीय नागरिक होना पहली और अनिवार्य शर्त है.

इसके अलावा नेपाल के नागरिकों को भी एनसीसी ज्‍वॉइन करने की छूट है.

किसी मान्यता प्राप्त स्कूल, कॉलेज या यूनिवर्सिटी का छात्र होना जरूरी.

छात्रों को मानसिक तथा शारीरिक रूप से फिट होना जरूरी है.

एनसीसी ज्‍वॉइन करने के लिए न्यूनतम आयु 12 साल और अधिकतम आयु 26 वर्ष है.

ये भी पढ़िए : आखिर 1 अप्रैल को ही क्यों मनाया जाता है मूर्ख दिवस, जानिए वजह

क्‍या हैं NCC के सर्टिफिकेट :

एनसीसी लड़के और लड़कियों दोनों के ही लिए है और इसलिए ही इसमें 4 तरह की डिविजन हैं जिसमें से 2 डिविजन लड़कियों के लिए और 2 डिविजन लड़कों के लिए हैं. लड़कों की डिविजन को Junior Division (JD) और Senior Division (SD) कहते हैं और लड़कियों की डिविजन को Junior Wing (JW) और Senior Wing (SW) कहा जाता है.

1. A Certificate (NCC) – ये सर्टिफिकेट जूनियर डिविजन के उन कैडेट्स को दिया जाता है जो अपनी 2 साल की ट्रेनिंग को पूरा कर चुके होते हैं.

2. B Certificate (NCC) – ये सर्टिफिकेट सीनियर डिविजन के छात्रों को मिलता है. ये भी दो साल की ट्रेनिंग पूरी करने के बाद ही मिलता है.

3. C Certificate (NCC) – ये सर्टिफिकेट सीनियर डिविजन के उन छात्रों को मिलता है जिन्‍होंने 3 साल की ट्रेनिंग पूरी कर ली होती है. एनसीसी B औ C सर्टिफिकेट के लिए यह जरूरी नहीं है आपके पास एनसीसी ए सर्टिफिकेट भी होना चाहिए.

NCC Day 2021
NCC Day 2021

भारत में एनसीसी के कितने निदेशालय :

भारत में एनसीसी के 17 निदेशालय है। हर साल 5 जनवरी से गणतंत्र दिवस शिविर (RDC) गैरीसन परेड ग्राउंड, दिल्ली छावनी में आयोजित किया जाता है। इसमें देश भर के लगभग 1700 कैडिटों के साथ सभी 17 निदेशालय एवं युवा आदान-प्रदान कार्यक्रम के अंतर्गत कुछ मित्र राष्ट्रों के कैडिट भी भाग लेते हैं। वर्तमान में एनसीसी कैडिट्स की स्वीकृत संख्या कुल 13 लाख है। देश के सभी जिलों के 8410 स्कूलों तथा 5251 कॉलेजों में एनसीसी है। इनको प्रशिक्षित करने के लिए देश में 91 ग्रुप हैडक्वार्टस, 763 आर्मी बिग यूनिट्स (टेक्नीकल एवं गर्ल्स सहित),58 नेवल विंग यूनिट्स तथा 58 एअर स्क्वाड्रन कार्यरत हैं। राष्ट्रीय कैडिट कोर का नेटवर्क केंद्र शासित अंडमान निकोबार एवं लक्षदीप, उत्तर में लेह, पश्चिम में कच्छ तथा पूर्व में कोहिमा तक फैला हुआ है।

राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC) भारतीय सैन्य कैडेट कोर है, इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। इसकी स्थापना 1948 के नेशनल कैडेट कोर अधिनियम के तहत की गयी थी। इसका आदर्श वाक्य ‘एकता और अनुशासन’ है। यह एक त्रि-सेवा थल सेना, वायु सेना तथा नौसेना का संगठन है। इसमें भारतीय स्कूलों, महाविद्यालयों तथा विश्वविद्यालयों से छात्रों को स्वैच्छिक आधार पर भर्ती किया जाता है। उन कैडेट्स को आधारभूत सैन्य प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। कोर्स पूरा करने के बाद उन पर सक्रीय सैन्य सेवा देने की बाध्यता नहीं होती।

ये भी पढ़िए : जानिए विश्व गैर सरकारी संगठन 27 फरवरी को ही क्‍यों मनाते हैं ‘विश्व एनजीओ दिवस’

NCC गान के रचयिता :

एनसीसी (NCC) गान के रचयिता सुदर्शन फाकिर (Sudarshan Faakir) है। राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC) का राष्ट्रीय गीत ‘हम सब भारतीय हैं’ लिखने वाले अज़ीम शायर सुदर्शन फाक़िर का जन्म पूर्वी पंजाब के फिरोजपुर में 19 दिसंबर, 1934 को हुआ था। बहुत ही सीधे सरल शब्दों में बातों के कह देने में माहिर सुदर्शन फ़ाकिर को एक विशिष्ट शायर का दर्जा प्राप्त था। जालंधर के डीएवी कॉलेज से बीए करने के बाद राजनीति शास्त्र तथा अंग्रेजी में एमए किया। उनका निधन 18 फरवरी, 2008 को हुआ।

एनसीसी गीत –

हम सब भारतीय हैं, हम सब भारतीय हैं।
अपनी मंज़िल एक है, हा हा हा एक है, हो हो हो एक है।
हम सब भारतीय हैं।
कश्मीर की धरती रानी है, सरताज हिमालय है,
सदियों से हमने इस को अपने खून से पाला है।
देश की रक्षा की खातिर हम शमशीर उठा लेंगे,
हम शमशीर उठा लेंगे।
बिखरे-बिखरे तारे हैं हम, लेकिन झिलमिल एक है,
हा हा हा एक है, हो हो हो एक है,
हम सब भारतीय है।
मंदिर, गुरूद्वारे भी हैं यहाँ, और मस्जिद भी है यहाँ,
गिरिजा का है घड़ियाल कहीं मुल्ला की कहीं है अजां
एक ही अपना राम हैं, एक ही अल्लाह ताला है,
एक ही अल्लाह ताला हैं।
रंग बिरंगे दीपक हैं हम, लेकिन जगमग एक है,
हा हा हा एक है, हो हो हो एक है.
हम सब भारतीय हैं, हम सब भारतीय हैं।

NCC Day 2021
NCC Day 2021

NCC का मोटो :

इसका मोटो एकता और अनुशासन (Unity and discipline) है। एनसीसी एक अन्तर्सेवा संगठन है। पंडित हृदयनाथ कुंजरू समिति की सिफारिश के आधार पर 1948 के 31वें एनसीसी अधिनियम के तहत 16 जुलाई 1948 को नेशनल कैडेट कोर (National Cadet Corps-NCC) की ​स्थापना की गई। एनसीसी का झंडा तीन रंग की, तीन समान खड़ी पट्टियों में बँटा हुआ होता है। इसमें सबसे पहले दाहिने लाल रंग की पट्टी, बीच में गहरी नीले रंग की पट्टी तथा बायें आसमानी रंग की पट्टी है जो कि क्रमशः थल सेना, नौ सेना और वायु सेना का प्रतीक है। झंडे के बीच में 16 पंखुड़ियों का बना एक चक्र है इसी चक्र के बीच में ‘NCC’ शब्द लिखा है। इसी के नीचे हिंदी भाषा में एनसीसी का आदर्श वाक्य ‘एकता और अनुशासन’ लिखा हुआ होता है।

वर्तमान में एनसीसी कैडिट्स की स्वीकृत संख्या कुल 13 लाख है। देश के सभी जिलों के 8410 स्कूलों तथा 5251 कॉलेजों में एनसीसी है। इनको प्रशिक्षित करने के लिए देश में 91 ग्रुप हैडक्वार्टस, 763 आर्मी बिग यूनिट्स (टेक्नीकल एवं गर्ल्स सहित),58 नेवल विंग यूनिट्स तथा 58 एअर स्क्वाड्रन कार्यरत हैं। राष्ट्रीय कैडिट कोर का नेटवर्क केंद्र शासित अंडमान निकोबार एवं लक्ष्यद्वीप, उत्तर में लेह, पश्चिम में कच्छ तथा पूर्व में कोहिमा तक फैला हुआ है।

ये भी पढ़िए : 14 सितंबर को क्यों मनाया जाता है ‘हिंदी दिवस’, जानिए इसकी खास बातें

NCC का उद्देश्य – (Aims of NCC) :

एनसीसी का उद्देश्य (Aims of NCC) कैडेट्स में अनुशासन की भावना, ड्रेस पहनना, चलना फिरना सीखना, मिल जुलकर कार्य करना, आदेशों को मानने की आदत डालना, कमांड कंट्रोल सीखना व आत्मबल का विकास करना है। पंडित हृदयनाथ कुंजरू समिति की सिफारिश के आधार पर 1948 के 31वें एनसीसी अधिनियम के तहत 16 जुलाई 1948 को नेशनल कैडेट कोर (National Cadet Corps-NCC) की ​स्थापना की गई। इसका मोटो एकता और अनुशासन (Unity and discipline) है। राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC) का मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।

राष्ट्रीय कैडिट कोर ‘एनसीसी’ के उद्देश्य (Aims of NCC) हैं–

देश के युवाओं में चरित्र, साहचर्य, अनुशासन, नेतृत्व, धर्मनिरपेक्षता, रोमांच, स्पोर्ट मैनशिप, तथा नि:स्वार्थ सेवा-भाव का संचार करना।

संगठित, प्रशिक्षित एवं प्रेरित युवकों का एक मानव संसाधन तैयार करना। जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में नेतृत्व प्रदान करना एवं देश की सेवा के लिए सदैव तत्पर रहना।

सशस्त्र सेना में जीविका (कैरियर) बनाने के लिए युवाओं को प्रेरित करने हेतु उचित वातावरण प्रदान करना।

NCC Day 2021
NCC Day 2021

वर्तमान में एनसीसी कैडिट्स की स्वीकृत संख्या कुल 13 लाख है। देश के सभी जिलों के 8410 स्कूलों तथा 5251 कॉलेजों में एनसीसी है। इनको प्रशिक्षित करने के लिए देश में 91 ग्रुप हैडक्वार्टस, 763 आर्मी बिग यूनिट्स (टेक्नीकल एवं गर्ल्स सहित),58 नेवल विंग यूनिट्स तथा 58 एअर स्क्वाड्रन कार्यरत हैं। राष्ट्रीय कैडिट कोर का नेटवर्क केंद्र शासित अंडमान निकोबार एवं लक्ष्यद्वीप, उत्तर में लेह, पश्चिम में कच्छ तथा पूर्व में कोहिमा तक फैला हुआ है।

NCC के फायदे – Benefits of NCC :

छात्रों के लिए एनसीसी के कई सारे लाभ है. NCC तीन साल की होती है, पहले साल ‘A’, दूसरे साल ‘B’ और तीसरे साल ‘C’ grade का certificate मिलता है. एनसीसी में शामिल होने से छात्रों को मेडिकल, उच्च शिक्षा से लेकर आर्मी के GD की और NDA की लिखित परीक्षा तक में छूट मिलती है. यदि आपके शरीर में छोटी-मोटी कमी है तो NDA medical में एनसीसी सर्टिफिकेट से मिलता है. लेकिन आप बड़े फाॅल्ट से नही बच सकते. जैसे:- घुटना आपस में नही सटना चाहिए, दाँतो का ज्यादा प्रॉब्लम ना हो, और आँखों और पैर में ज्यादा प्रॉब्लम नही होनी चाहिए.

एनसीसी का सर्टिफिकेट (Certificate) होने पर आपको उच्च शिक्षा में अलग से कोटा मिलता है. Ncc का ‘C’ Certificate होने से आपको आर्मी के GD की और NDA की लिखित परीक्षा नही देनी पड़ती और कई जगह छूट (‘A’ certificate को 5%, ‘B’ certificate को 8% और ‘C’ certificate को 10%) भी मिलती है।

Previous articleसर्दियों में लें शकरकंद की रबड़ी का मज़ा, नहीं भूल पाएंगे स्वाद
Next articleघर पर इस तरह बनाएं साउथ इंडियन डिश रिबिन पपड़ी, ये है आसान की विधि
Akanksha
मेरा नाम आकांक्षा है, मुझे नए नए टॉपिक पर आर्टिकल्स लिखने का शौक पहले से ही था इसलिए मैंने आकृति वेबसाइट पर लिखने का फैसला लिया !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here