शिशुओं में डायपर रैशेस के लिए घरेलू उपचार

0
4

Natural Remedies For Diaper Rash : बच्चों में डायपर से रैशेस पड़ना बहुत आम बात है। विशेष तौर पर जननांगों, नितंबों और बच्चों के डायपर पहने जाने वाली जगह लाल निशान या चकत्ते पड़ जाते हैं। यद्यपि बच्चों से जुड़ी यह एक आम परेशानी है, लेकिन इसके लिए उपचार की आवश्यकता होती है।

डायपर रैशेस से राहत दिलाने के लिए कई घरेलू उपाय हैं। यदि आपके शिशु को भी यह समस्या होती है और आप उसे इस तकलीफ से निजात दिलाना चाहती हैं तो आपको इन उपायों की जानकारी लेनी चाहिए ।

छोटे बच्चों की त्वचा बहुत सैंसटिव होने के कारण उनका आवश्यकता से ध्यान रखना जरूरी होता है। बच्चों में सबसे ज्यादा परेशानी नैपी रैशेस के कारण होती है। बहुत देर तक कॉर्मशियल डायपर नहीं बदलने की वजह से होता है।

ये भी पढ़िये – क्या आपका बच्चा भी बैठता है इस पोजिशन में? हो सकते हैं ये नुकसान

इसके अलावा, अगर आप घर पर ही बने डायपर का इस्‍तेमाल कर रहें हैं तो अगर उन्हें आप स्ट्रॉन्ग डिटरडेंट में धो रहे हैं और धोने के बाद भी नैपी से डिटरजेंट के कैमिकल्स नहीं निकल पा रहे तो बच्चे को उस डायपर को पहना देने से रैशेस का डर रहता है।

बच्चों को डायपर रैशेस से काफी तकलीफ होती है। इसलिए जरूरी है कि उन्हें इस समस्या से बचाया जाए। आइए जानते है कि घर पर किस तरह से बच्‍चों को डायपर की वजह से होने वाले रैशेस से कैसे राहत दिलाई जा सकती है।

Natural Remedies For Diaper Rash
Natural Remedies For Diaper Rash

प्राकृतिक उपचार :

गीले और गंदे डायपर शिशुओं में डायपर रैशेस का मुख्य कारण होते हैं। डायपर से होने वाले रैशेस का यदि कोई उपचार न किया जाए तो शिशुओं में बैक्टीरिया संक्रमण फैल सकता है, जिससे फफोले और खुजली से लेकर छोटी-छोटी फुंसियां और त्वचा के छिलने जैसी परेशानी का कारण बन सकता है।

आइए आपको डायपर से होने वाले रैशेस से शिशु को राहत दिलाने के लिए प्राकृतिक उपचार बताते हैं।

ये भी पढ़िये – बच्चों के आम रोगों में उपयोगी घरेलू नुस्ख़े

सिरका :

क्योंकि मूत्र क्षारीय प्रकृति का होता है, इसलिए अगर वही डायपर बच्चा बहुत लंबे समय तक पहने तो यह बच्चे की त्वचा को जला सकता है। नहाने के पानी में डेढ़ कप सिरका मिलाएं और अपने बच्चे के शरीर को इससे धोएं।

आप एक कप पानी में एक छोटा चम्मच सफेद सिरका मिलाकर इससे अपने बच्चे के निचले अंगों को पोंछ भी सकती हैं। जब भी डायपर बदलने का समय हो, आप इसका उपयोग कर सकती हैं।

नारियल का तेल :

नारियल तेल अपने एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरिअल गुणों के लिए जाना जाता है और बच्चों में डायपर से होने वाले रैशेस के लिए सबसे प्रभावी उपचारों में से एक है। अपने बच्चे के शरीर का डायपर वाला भाग हल्के गर्म पानी से धोएं और एक नरम तौलिए से सुखाएं।

Natural Remedies For Diaper Rash
Natural Remedies For Diaper Rash

इसके बाद, आधा चम्मच नारियल का तेल लें और इसे बच्चे को हुए रैशेस पर लगाएं। यीस्ट से होने वाले डायपर रैश के इलाज में भी नारियल तेल प्रभावी होता है ।

माँ का दूध :

डायपर के रैशेस पर माँ का दूध एक प्रभावी उपाय है। आपको बस रैशेस वाली जगह पर अपने दूध की कुछ बूंदें लगानी हैं, उन्हें अपने आप सूखने दें। अच्छे परिणामों के लिए इस उपाय को आजमाने के बाद बच्चे को नया डायपर पहनाएं ।

ये भी पढ़िये – समय से पहले पैदा हुए शिशु के लिए रखें इन 7 बातों का ध्यान

डायपर की सफाई :

डायपर रैशेस वास्तव में गीले डायपर से पैदा होते हैं। सुनिश्चित करें कि आप अपने बच्चे के निचले पृष्ठ भाग को रगड़ें नहीं और हल्के हाथ से पोंछते हुए सुखाएं । उसे नहलाते समय सौम्य साबुन का प्रयोग करें और बच्चे के लंगोट को हलके हाथों से साफ करें। डायपर को समय पर बदलना याद रखें और अल्कोहल-आधारित वाइप्स का उपयोग न करें।

कॉर्नस्टार्च :

बच्चे के निचले अंगों को सूखा रखने और नमी को अवशोषित करने में कॉर्नस्टार्च अच्छा काम करता है। सबसे पहले अपने बच्चे के शरीर के निचले हिस्से को गुनगुने पानी से धो लें और फिर उसे एक साफ कपड़े से सुखा लें । प्रभावित जगह पर थोड़ा कॉर्नस्टार्च लगाएं और एक नया डायपर पहनाएं । रैशेस ठीक होने तक ऐसा प्रतिदिन करें।

ओट्स के आटे से स्नान :

ओट्स का आटा शिशुओं में डायपर से होने वाले रैशेस के लिए एक आजमाया और परखा हुआ उपाय है। इससे दर्द से राहत मिलती है। एक बड़ा चम्मच ओट्स का आटा लेकर इसे स्नान के पानी में मिलाएं ।

अपने बच्चे को 5-10 मिनट के लिए स्नान करने दें। फिर उसकी त्वचा को हल्के हाथों से सुखाएं । शिशु की त्वचा को रगड़ें नहीं क्योंकि इससे स्थिति बिगड़ सकती है। यदि डायपर रैशेस गंभीर हैं तो दिन में 2 बार इस उपाय का इस्तेमाल करें ।

ये भी पढ़िये – बच्चों के दांत निकलें तो इन बातों का रखें ख्याल , नहीं तो होगी परेशानी

कुछ देर डायपर के बिना रखें :

शिशुओं में डायपर रैशेस का मुख्य कारण उनके निचले अंगों के हवा न लगना भी होता हैं। इसलिए अपने बच्चे कुछ समय बिना डायपर के रहने दें। डायपर बदलने के बीच के समय में उसे थोड़ी देर डायपर-मुक्त रखें । हवा लगने से रैश बहुत तेजी से ठीक हो जाएंगे।

पेट्रोलियम जेली :

शिशु अपने डायपर को बार-बार गंदा कर लेते हैं, जिससे उनके रैशेस और भी बदतर हो जाते हैं। रैशेस का इलाज करने के लिए अपने बच्चे के निचले अंगों को धोकर, एक सूती तौलिए से सुखाएं और प्रभावित जगहों पर पेट्रोलियम जेली की एक पतली परत लगा दें।

पेट्रोलियम जेली प्रभावित क्षेत्र को मूत्र और मल के कारण होने वाले नुकसान से सुरक्षित रखेगी और इस प्रकार डायपर रैशेस से बचाव होगा ।

अपने बच्चे के डायपर को समय पर बदलें और पेट्रोलियम जेली का उपयोग तब तक करें जब तक कि रैशेस गायब न हो जाएं ।

Natural Remedies For Diaper Rash
Natural Remedies For Diaper Rash

कैमोमाइल चाय और शहद :

कैमोमाइल चाय और शहद का मिश्रण डायपर रैशेस के इलाज में एंटीसेप्टिक के रूप में काम करता है। यह रैशेस को खत्म करता है और त्वचा को ठीक करता है। लगभग दो कप कैमोमाइल चाय को एक चम्मच शहद के साथ मिलाएं और इसे रैशेस पर प्रतिदन स्प्रे करें।

एलोवेरा :

यदि आपके बच्चे को डायपर रैशेस के साथ सूजन आती है तो आपको एलोवेरा का उपयोग करना चाहिए। आप पत्तियों से निकाला हुआ ताजा एलोवेरा या डिब्बाबंद एलोवेरा किसी का भी उपयोग कर सकती हैं – दोनों प्राकृतिक हैं। इससे आपके बच्चे को राहत मिलेगी।

ये भी पढ़िये – तेज़ दिमाग़ के लिए बच्चों को जरूर खिलाएं ये 6 फूड्स

बेकिंग सोडा :

बेकिंग सोडा पी.एच. स्तर को संतुलित करने में मदद करता है और बच्चे की त्वचा से अवांछित बैक्टीरिया और फंगस को हटाता है।

गुनगुने पानी में दो बड़े चम्मच बेकिंग सोडा मिलाएं और इस घोल से अपने बच्चे के रैशेस को नियमित रूप से धोएं । इसे हवा में सूखने दें। यह उपाय एक चमत्कार की तरह काम करेगा।

टी ट्री ऑयल :

टी ट्री ऑयल के एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरिअल गुण इसे शिशुओं में डायपर से होने वाले रैशेस के लिए एक उत्कृष्ट उपाय बनाते हैं। इस तेल की लगभग तीन बूंदें लें और इसे नारियल तेल या इसकी तरह किसी तेल के साथ मिलाएं । तेल के इस मिश्रण को रैशेस पर धीरे से लगाएं और उन्हें ठीक होता देखें।

Natural Remedies For Diaper Rash
Natural Remedies For Diaper Rash

एसेंशियल ऑयल स्प्रे :

एसेंशियल ऑयल का मिश्रण भी शिशु में डायपर से होने वाले रैशेस को दूर करने का काम करता है। बादाम का तेल, टी ट्री ऑयल और लैवेंडर जैसे एसेंशियल तेल को थोड़े से पानी के साथ मिलाएं और इसे स्प्रे वाली बोतल में भर लें। प्रभावी परिणाम के लिए रैशेस से प्रभावित हिस्सों पर इस स्प्रे का उपयोग करें।

दही :

दही डायपर रैशेस और सूजन के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। प्रभावित हिस्से पर प्रतिदिन दही लगाएं, कुछ ही दिनों में आपको असर दिखने लगेगा।

ये भी पढ़िये – नवजात शिशुओं के कब्ज की समस्या का समाधान

आप जैसे डायपर से हुए रैशेस पर क्रीम का उपयोग करती हैं उसी तरह दही लगाएं । शिशु के लिए सामान्य तापमान के दही का उपयोग करें और फिर डायपर पहना दें ।

कपड़े के डायपर :

बच्चों की स्किन इतनी कोमल होती है कि डिस्पोजेबल डायपर पहनने से रैशेस होने का खतरा रहता है। वहीं कपड़े के डायपर सूती कपड़े से बने के कारण नरम होता है जिससे गीला होते ही इसे बदला जा सकता है।

बच्चों की स्किन सेंसिटिव होने के कारण खुजली या रैशेस का डर रहता है, लेकिन कपड़े के डायपर से किसी भी तरह की एलर्जी का भी कोई डर नहीं है।

Natural Remedies For Diaper Rash

सेंधा नमक :

सेंधा नमक में मैग्नीशियम की बहुत मात्रा होती है और यह सूजन कम करने के गुणों के लिए जाना जाता है। एक टब में गुनगुना पानी लेकर उसमें आधा कप सेंधा नमक मिलाएं और अपने बच्चे को 10 से 15 मिनट के लिए उसमें बिठा दें । इसके बाद बच्चे को नहलाएं। रैशेस को दूर करने के लिए सप्ताह में दो से तीन बार इस उपाय का इस्तेमाल करें ।

डायपर से रैशेस का इलाज घर पर किया जा सकता है। घरेलू उपचार आमतौर पर शिशुओं में डायपर से रैशेस के लिए अच्छी तरह से काम करते हैं।

इन उपायों को आजमाएं आपका बच्चा जल्द ही बेहतर महसूस करेगा। हालांकि, अगर डायपर रैशेस गंभीर हैं यानि, आप उपरोक्त लक्षणों को देखती हैं और एक सप्ताह के भीतर वे गायब नहीं होते हैं, तो बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श करें।

Keywords : Home Tips For Diaper Rash, Home Tips Treating Diaper Rash, Shishuon Mein Diaper Rash Ke Gharelu Upchaar, Diaper Rash Tips , Home Remedies for Diaper Rash, Tips for Diaper Rash Treatment, Effective Home Remedies for Diaper Rash in Babies, Natural Remedies For Diaper Rash

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here