Mothers Day
Mothers Day
ad2

कब है मदर्स डे 2022, मदर्स डे क्यों मनाया जाता है, मदर्स डे महत्त्व, मातृ दिवस 2022 की तारीख, Mother’s Day in 2022, mother’s day recipes, mother’s day lunch ideas, mothers day 2022 wishes, Happy Mothers Day, Mothers Day date, Mothers Day history, Mothers Day Significance, Mother’s day gifts, Mother’s day gift ideas, Mother’s day 2022 kab hai, Mother’s day 2022 Quotes sms

हेल्लो दोस्तों दुनिया भर में मई महीने के दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाया जाता है. इस साल यह मई के दूसरे रविवार यानी 8 मई को मनाया जा रहा है. लगभग पूरा देश मदर्स डे को त्योहार की तरह मनाता है। देश के कई हिस्सों में यह मार्च में भी मनाया जाता है। मां एक ऐसी शख्सियत है जिसे भुलाया नहीं जा सकता। उन्हीं के कारण पृथ्वी पर जीवन का अस्तित्व है। तो, आइए हम दुनिया की सभी माताओं का सम्मान करें और इसे एक साथ मनाएं। इस दिन विभिन्न उपहार प्रस्तुत किए जाते हैं, अभियान आयोजित किए जाते हैं, मां को विशेष महसूस कराने के लिए बधाई देने के लिए कई फोन किए जाते हैं। COVID-19 लॉकडाउन के कारण, पिछले साल यह समारोह घर पर हुआ था।

हमारे जीवन में माताओं के महत्व को किसी पुनरावृत्ति की आवश्यकता नहीं है। हमारा जीवन उनकी उपस्थिति से जुड़ा हुआ है, दृश्य और अदृश्य दोनों। उनका सम्मान करने और उन्हें मनाने के लिए हर साल सिर्फ उनके लिए एक दिन समर्पित किया जाता है। जबकि एक दिन माँ को श्रद्धांजलि देने और सम्मान करने के लिए पर्याप्त नहीं है, यह दिन लोगों को हर उस चीज़ के समर्थन और स्वीकृति के लिए प्रोत्साहित करता है जो एक माँ दिन-ब-दिन करती है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि पहली बार मदर्स डे कब मनाया गया, किसने मनाया, कैसे मनाया गया? उत्सव के पीछे का इतिहास क्या है? आइए एक नजर डालते हैं!

यह भी पढ़ें – मातृ-दिवस : माँ हमारी पहली टीचर होती है और दोस्त भी

मदर्स डे (मातृ दिवस) 2022 कब है

Mother’s Day 2022 Date in India

मदर्स डे (मातृ दिवस) विश्व स्तर पर मनाया जाता है। जबकि हर साल तारीखें अलग-अलग होती हैं, यह बड़े पैमाने पर हर साल मई महीने के दूसरे रविवार को मनाया जाता है। इस वर्ष, यह 8 मई को मनाया जाएगा। लगभग पचास देश एक ही दिन मातृ दिवस मनाते हैं लेकिन यह उत्सव का अंतर्राष्ट्रीय दिवस नहीं है। इस दिन सन्तान अपनी माता के त्याग के प्रति आदर प्रकट करने के लिए उन्हें विशेष उपहार देते हैं।

यह अन्य देशों में अलग तरह से मनाया जाता है। यूके (यूनाइटेड किंगडम) में, क्रिश्चियन मदरिंग संडे पर मदर चर्च (मदर चर्च या मैट्रिस एक ऐसा शब्द है जो ईसाई चर्च को आस्तिक को पोषण देने और उसकी रक्षा करने के कार्यों में एक मां के रूप में दर्शाता है) की याद में मार्च के चौथे रविवार यानी ईस्टर संडे से ठीक तीन हफ्ते पहले को आयोजित किया जाता है। ग्रीस में, यह 2 फरवरी को मनाया जाता है। कई अरब देशों में यह दिन 21 मार्च को मनाया जाता है। हालाँकि, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे अधिकांश देश भारत सहित मई के दूसरे रविवार को दिन मनाते हैं।

माँ जैसी कोई नहीं :

प्राचीन काल से आजतक आपने माँ की ममता के अंसख्यों किस्से पढ़ें और देखें होंगे और ये गवाही देते हैं कि माँ का प्यार औलाद के लिए सबसे लड़ जाने और जान पर खेलकर भी सन्तान को सुख देने के लिए कभी पीछे नहीं हटा। विश्वप्रसिद्ध है कि बल्ब जैसी अद्भुत चीज़ों के आविष्कारक, थॉमस अल्वा एडिसन को स्कूल वालों ने मन्द बुद्धि कहकर निकाल दिया था। यह बात उनकी माँ ने उनसे हमेशा छुपाई और स्वयं घर पर उन्हें शिक्षित किया। वे इस बात को कभी नही जान पाये कि स्कूल से उन्हें क्यों निकाला गया था। बहुत समय पश्चात, कई आविष्कारों के बाद उन्हें स्कूल की डायरी मिली जिसमे लिखा था कि आपका बेटा मंदबुद्धि है वह हमारे स्कूल के लायक नहीं।

Mothers Day
Mothers Day

मदर्स डे क्यों मनाया जाता है ?

Mother’s Day Kyo Manaya Jata Hai

1908 में, अन्ना जार्विस नाम की एक महिला ने अपनी माँ के लिए एक स्मारक रखा, जिसकी मृत्यु 1905 में वेस्ट वर्जीनिया के ग्राफ्टन में सेंट एंड्रयू मेथोडिस्ट चर्च में हुई थी। यह वह थी, जिसने संयुक्त राज्य अमेरिका में मातृ दिवस को अवकाश के रूप में मान्यता देने के लिए एक अभियान शुरू किया था। उनकी मां, एन रीव्स जार्विस एक शांति कार्यकर्ता थीं, जिन्होंने अमेरिकी गृहयुद्ध में घायल सैनिकों की देखभाल की और मदर्स डे वर्क क्लब की संस्थापक थीं जिन्होंने सार्वजनिक स्वास्थ्य के मुद्दों को हल करने में मदद की।

समाज में उनके योगदान के कारण, जिस दिन को शुरू में अस्वीकार कर दिया गया था, अंततः 1911 में सभी अमेरिकी राज्यों द्वारा छुट्टी के रूप में मनाया गया था। उनके समर्पण और अपनी मां के प्रति अन्ना के सम्मान ने 1941 में अमेरिकी राजनेता और वकील वुडरो विल्सन द्वारा मातृ दिवस को राष्ट्रीय अवकाश के रूप में घोषित किया।

हालाँकि, महिलाओं के योगदान को कभी नहीं भुलाया जा सकता क्योंकि यह हमारे परिवार का पोषण करती है, यह वे व्यक्ति है जो घर और बाहर भी हर चीज का ख्याल रखती है। इसमें कोई शक नहीं कि उसकी नौकरी 24×7 है। शायद माताओं को श्रद्धांजलि देने के कई तरीके हैं और न केवल इस दिन बल्कि हमें हर दिन, हर साल और साल में उनका सम्मान करना चाहिए। उसे हमारे समाज में सम्मान मिलना चाहिए और हम सभी को इसके बारे में सोचना चाहिए।

रविवार को ही क्यों मनाया जाता है ?

मदर्स डे की नींव एना जॉर्विस ने रखी थी लेकिन मदर्स डे की औपचारिक रूप से शुरुआत 9 मई 1914 से हुई थी. अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति वुड्रो विल्सन थे, जिन्होंने ना केवल मदर्स डे मनाने के लिए प्रत्यक्ष रूप से स्वीकृति दी थी बल्कि अमेरिकी संसद में कानून पास कर इस दिन को मई महीने के दूसरे रविवार को मनाने का एलान भी किया था. ये दिन अमेरिका, यूरोप और भारत सहित कई देशों में मनाया जाता है. तब से मदर्स डे रविवार को ही मनाया जाने लगा.

घर पर मदर्स डे को कैसे बनाएं खास

इस एक दिन में उपहार देने की परंपरा को हटाकर हम जब माँ का चश्मा टूटे उसे बनवा दें, जिस दिन माँ अधिक थकी हो पैर दबा दें, किसी दिन काम में उनका हाथ बटाएं, उनके साथ बैठें और बातें करें। माँ की आंखें वो आईना हैं, जहां औलाद कभी बूढ़ी नहीं होती। आप अपनी मां को आज ही “जीने की राह” नामक पुस्तक दे या उन्हें ऑडियो बुक से ज्ञान समझाए।

  • मां को बिस्तर पर नाश्ता कराएं।
  • फूल देकर उनका सम्मान करें।
  • माँ को पूरे दिन का आराम दें।
  • पूरा दिन मां के साथ बिताएं।
  • माँ को कोई प्यारा सा तोहफा दो।
  • माँ को खुश रखो।

मदर्स डे का महत्व

Importance of Mothers Day

मदर्स डे एक विशेष दिन है जो एक माँ के योगदान और निस्वार्थ प्रेम का सम्मान करने के लिए मनाया जाता है। इस बात से कोई इंकार नहीं है कि एक मां अपने बच्चे की खुशी के लिए बहुत कुछ त्याग देती है और उसे स्पेशल फील कराने के लिए यह दिन सबसे अच्छा होता है। उसे उपहार देने से लेकर बिस्तर पर नाश्ता करके उसे सरप्राइज देने और फिल्में देखने तक, ऐसे कई काम हैं जो बच्चे इस दिन अपनी मां के लिए करते हैं और अनगिनत यादें बनाते हैं।

कहते हैं दुनिया में माँ की मोहब्बत का कोई वार पार नही है। जब दवा काम न आये तब नजर उतारती हैं, ये माँ हैं साहब हार कहाँ मानती हैं। मां का आँचल अपनी संतान के लिए कभी छोटा नहीं पड़ता। माँ का विश्वास और प्रेम अपनी संतान के लिए इतना गहरा और अटूट होता है कि माँ अपने बच्चे की खुशी के खातिर सारी दुनिया से लड़ सकती है। वो एक अकेली बहुत होती है बुरी नजरों और दुनिया के स्वार्थ से अपनी संतान को बचाने के लिए।

Mothers Day
Mothers Day

मदर्स डे पर भेजे माँ को यह सन्देश

Mothers Day Messages

सब लोग मदर्स डे वाले दिन अपनी माँ के लिए कुछ न कुछ सरप्राइज जरुर रखते है | और कुछ बच्चे ग्रीटिंग कार्ड भी बनाते है | आप अपने सन्देश के जरिए भी अपनी मां के प्रति प्यार और सम्मान जता सकते हैं।

मां के बिना जिंदगी वीरान होती है
तनहा सफर में हर राह सुनसान होती हैं।
जिंदगी में मां का होना जरूरी है
मां की दुआओं से ही हर मुश्किल आसान होती है।।
हैप्पी मदर्स डे

उसके रहते जीवन में कोई गम नहीं होता।
दुनिया साथ दे ना दे पर मां का प्यार कभी कम नहीं होता ।।
हैप्पी मदर्स डे

जी चाहता हैं वक्त से कुछ और पलो को चुरा लूँ ।
मां की गोद में सर रखकर कुछ पल सुकून के बिता लूँ ।।
दुनिया के संग भागते भागते थक गया हूं मैं ।
तेरी ममता की छांव तले थोड़ी देर निराशा को मिटा लूँ ।।
तेरी मूरत को इन आंखों में सदा के लिए बसा लूं ।
तुझे किए हर एक वादे को मैं जिंदा रहते निभा लूँ ।।
तेरे चरणों की धूल को जरा माथे पर में लगा लूँ ।
अपनी खुशियों के फूलों को तेरी राहों में बिछा लूँ ।।
Happy Mother’s Day

ज़िन्दगी की पहली ‪शिक्षक ‎माँ, ज़िन्दगी की पहली ‪दोस्त माँ।
‪ज़िन्दगी भी माँ ‎क्योँकि ‎ज़िन्दगी देने वाली भी माँ।।
।हैप्पी मदर्स डे।

ऊपर जिसका अंत नहीं उसे आसमां कहते हैं।
इस जहां में जिसका अंत नहीं उसे मां कहते हैं।।
।हैप्पी मदर्स डे।

हजारो फूल चाहिए, एक माला बनाने के लिए।
हजारों दीपक चाहिए, एक आरती सजाने के लिए।।
हजारों पानी की बुँदे चाहिए, समुद्र बनाने के लिए।
पर “माँ “अकेली ही काफी है, बच्चो की जिन्दगी को स्वर्ग बनाने के लिए।।
Happy Mothers Day

रिलेटेड पोस्ट

Related Post

ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए कृप्या आप हमारे फेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम और यूट्यूब चैनल से जुड़िये ! इसके साथ ही गूगल न्यूज़ पर भी फॉलो करें !

Previous articleइस मदर्स डे पर माँ के लिए बनाएं आलू का हलवा, जाने पूरी रेसिपी | Aloo halwa recipe in hindi
Next articleगंगा सप्तमी के दिन ज़रूर करें ये 5 चमत्कारी उपाय | Ganga Saptami Upay
Akanksha
मेरा नाम आकांक्षा है, मुझे नए नए टॉपिक पर आर्टिकल्स लिखने का शौक पहले से ही था इसलिए मैंने आकृति वेबसाइट पर लिखने का फैसला लिया !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here