डिलीवरी के बाद बैली फैट को कम करने के तरीके

डिलीवरी के बाद बैली फैट को कम करना या वजन को कम करना महिलाओं के सामने बहुत बड़ी चुनौती है जिसे कुछ महिलाएं स्वीकार करके बैली फैट को कम करना शुरू कर देती हैं तो वहीं कुछ यह मान लेती हैं कि बच्चे के जन्म के बाद उनका बढ़ा हुआ पेट पूरी जिंदगी ऐसे ही रहेगा। वैसे ऐसी महिलाओं को निराश होने की जरूरत नहीं है। आज हम आपको कुछ ऐसे आसान तरीके बनाएंगे जिसकी मदद से आप अपने बैली फैट को कम कर सकती हैं। Lose Belly Fat After Pregnancy

पेट का मोटापा काफी पेचीदा किस्म का होता है। यह बहुत परेशान करता है साथ ही यह जल्दी बढ़ता है इसलिए यह लोगों में एक निराशा का कारण बनता है। बच्चे के पैदा होने के बाद अधिकतर मम्मियां पेट के मोटापे को कम करने के प्रति चिंतित रहती हैं क्यों कि गर्भावस्था के दौरान खास तौर पर पेट का मोटापा बढ़ जाता है।

पेट का मोटापा दो तरह का होता है, एक तो आंतरिक मोटापा और दूसरा त्वचा के नीचे का मोटापा। आंतरिक मोटापा आपके आंतरिक अंगों के पास होता है जिसे आप देख नहीं सकते लेकिन वास्तव में यह बहुत खतरनाक होता है। त्वचा के नीचे का मोटापा आपकी त्वचा के नीचे होता है जो कि आपको पूर्णतया दिखाई देता है। आंतरिक मोटापा आपके पेट को मोटा कर देता है और यदि आपमें दूसरे प्रकार का मोटापा भी होता है तो आपका पेट और मोटा हो जाता है और यह तोंद जैसा दिखाई देने लगता है।

अपने बच्चे को स्तनपान कराइए

स्वास्थ्य मंत्रालय और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यू.एच.ओ.) की माने तो डिलीवरी के बाद माताओं को छह महीने तक शिशु को स्तनपान कराना चाहिए। इससे मां के साथ बच्चे का स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है।

स्तनपान या ब्रेस्टफीडिंग से न केवल आपके बच्चे की इम्यूनिटी के निर्माण में मदद मिलती है, बल्कि इससे बैली फैट को कम करने में भी सहायता मिलती है। इसके लिए अपने डॉक़्टर से बात करें और बैली फैट से छुटकारा पाने के लिए स्तनपान शुरू करें।

टहलना है जरूरी

अपनी सेहत को बेहतर बनाने के लिए, चुस्त-दुरुस्त रहने के लिए, वजन नियंत्रित करने के लिए या फिर बीमारी के बाद फिर से स्वस्थ होने के लिए टहलना बहुत जरूरी है। यह बहुत ही आसान व्यायाम है। यह एक ऐसा व्यायाम है जिसे हर उम्र के लोग कर सकते हैं। प्रेग्नेंसी के बाद महिलाओं को टहलने की आदत डालनी चाहिए। यह उनके बैली फैट को कम करने में सहायता करता है।

जब आप लगातार शरीर में दर्द, सिरदर्द और पीड़ा से उबर रही हैं, तो यह विशेष रूप से आपके लिए फायदेमंद है। आप सुबह शाम कभी भी ठहलने का समय निकालें। यदि आपने अपने वजन को कंट्रोल कर लिया तो आप अपनी बॉडी में बदलाव देखेंगी।

सही आहार का सेवन

यदि आप प्रेग्नेंसी के बाद बैली फैट को कम करना चाहती हैं तो आप अपनी डाइट में अच्छे और पौष्टिक खाद्य पदार्थ को शामिल करें। यह वजन कम करने के लिए बहुत ही जरूरी चीज है।

इसके अलावा जब आप पौष्टिक आहार लेती हैं तो आपके बच्चे को भी फायदा मिलता है। ये ध्यान दीजिए कि आपकी डाइट सूक्ष्म पोषक तत्वों से समृद्ध होना चाहिए जो नवजात शिशु के चयापचय चक्र को बनाए रखने में मदद करते हो और उसके विकास को सुनिश्चित करते हों।

बैली फैट कम करने के लिए वर्कआउट है जरूर

खुद को स्वस्थ रखने के लिए आजकल सभी जमकर वर्कआउट करते हैं। वर्कआउट करना सेहत के लिए फायदेमंद है और वर्कआउट के जरिए ही आपकी कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान भी कर सकते हैं। प्रेग्नेंसी के बाद महिलाएं भी अपने बैली फैट को कम करने के लिए वर्कआउट कर सकती हैं।

उन्हें रोज 20 से 30 मिनट अपने कार्डियों व्यायाम के लिए निकालना होगा।आप व्यायाम करने से पहले एक बार डॉक्टर से जरूर राय लें। ताकि आपको यह पता चल जाए कि आपको कौन सा व्यायाम नहीं करना है।

ज्यादा भोजन करने से बचें

जरुरत से ज्यादा खाने की आदत के कारण मोटापा बढ़ सकता है। इसे हम ओवरईटिंग की आदत भी कहते हैं। इससे कई हेल्थ प्रॉब्लम भी हो सकता है। इसलिए गर्भावस्था के बाद यदि आप अपने बैली फैट को कम करना चाहती हैं तो ओवरईटिंग करने से बचें। इसके अलावा आप उन आहारों से बचें जिसमें ट्रांस वसा ज्यादा है। साथ ही आप जंक फूड और तली हुई चीजों को खाने से बचें।

पूरी नींद लीजिए

नींद पूरी हो तो हम शारीरिक और मानसिक रूप से किसी भी कार्य को करने के लिए योग्य हो जाएंगे। इसके अलावा नींद लेने से वजन कम करने या बैली फैट को कम करने में भी मदद मिलती है।

Share
Nidhi

I am a freelancer content writer, and I am writing contents for many websites since very long time.

Recent Posts

मिल्क पाउडर गुजिया बनाने की विधि

गुजिया होली की खास मिठाई है. यह अनेक तरह की स्टफिंग और आकार में बनाई… Read More

February 23, 2020

शिशुओं में डायपर रैशेस के लिए घरेलू उपचार

Natural Remedies For Diaper Rash : बच्चों में डायपर से रैशेस पड़ना बहुत आम बात… Read More

February 22, 2020

फाल्गुन अमावस्या 2020 में कब है, जानिए शुभ मुहूर्त, महत्व, पूजा विधि और कथा

फाल्गुन अमावस्या को साल की आखिरी अमावस्या माना जाता है, इस दिन किसी पवित्र नदीं… Read More

February 22, 2020

मूंग दाल की मंगौड़ी बनाने की विधि

दोस्तों आज हम बेहद कुरमुरी ज़ायकेदार स्वास्थ्य के हिसाब से लाभकारी एक प्रमुख व्यंजन मंगौड़ी… Read More

February 20, 2020

भगवान शिव के उपवास में भूलकर भी न करें इन व्यंजनों का सेवन

हिन्दू धर्म में महाशिवरात्रि का पर्व बहुत श्रद्धा से मनाया जाता है. यह भगवान शिव… Read More

February 20, 2020

स्वादिष्ट मूली का अचार बनाने की विधि

मूली का अचार खाने में बहुत ही बढ़िया लगता है और ठंड में तो इसे… Read More

February 19, 2020