आंखों से लेकर पेट की समस्याओं में रामबाण है ‘दूब’ घास, फायदे जानकर रह जाएंगे दंग

हेल्लो दोस्तों मैं हूँ आकांक्षा एक बार फिर स्वागत करती हूँ आप सभी का आपकी अपनी वेबसाइट aakrati.in पर ! आज हेल्थ सेक्शन में मैं बताने वाली हूँ ‘दूब’ घास के बारे में.  ‘दूब’ घास का प्रयोग हिन्दू संस्कारों और कर्मकांडों में किया जाता है ये तो हम सब जानते हैं पर हम से बहुत लोग ये नहीं जानते हैं कि इसका इस्तेमाल सेहत के लिए भी बेहद फायदेमंद होता है। जी हां, पूजन के दौरान भगवान गणेश को अर्पित की जाने वाली कोमल दूब वास्तव में एक आयुर्वेदिक औषधि होती है। Benefits Of Grass Doob

औषधीय गुणों से भरपूर दूब का उपयोग यौन रोगों के साथ लीवर और पेट की समस्याओं में रामबाण माना जाता है। पतंजलि आयुर्वेद हरिद्वार के आचार्य बाल कृष्ण के अनुसार सदियों से आयुर्वेद में दूब का उपयोग अनेक असाध्य रोगों के उपचार के लिए किया जा रहा है.. आज हम आपको दूब के इस्तेमाल से होने वाले ऐसे कुछ चमत्कारी लाभों के बारे में बताने जा रहे हैं।

आयुर्वेद के अनुसार दूब में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, पोटाशियम जैसे पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं जो कि पित्त और कब्ज जैसे विकारों को दूर करते हैं .. ऐसे में इसका सेवन पेट की समस्याओं, यौन रोगों और लीवर के रोगों में लाभदायी होता है।

सिर और आंखो के लिए है फायदेमंद

आयुर्वेद के विद्वानों के अनुसार दूब और चूने को बराबर मात्रा में पानी के साथ पीसकर माथे पर लेप करने से सिरदर्द में तुंरत लाभ होता है। वहीं अगर दूब को पीसकर पलकों पर लगाया जाए तो इससे आंखो को फायदा पहुंचता है और नेत्र सम्बंधी रोग दूर होते हैं ।

गुदा रोग में लाभकारी है दूब

गुदा रोग में दूब बेहद लाभकारी साबित होता है। दूर्वा को पीसकर बवासीर पर लेप करने से लाभ होता है.. साथ ही घृत को दूब स्वरस में भली-भांति मिलाकर अर्श के अंकुरों पर लेप करें इससे रक्तस्त्राव शीघ्र रुक जाएगा।

नकसीर में आराम

अगर किसी को नकसीर की परेशानी रहती है तो अनार पुष्प स्वरस को दूब के रस के साथ के साथ मिलाकर उसकी 1 से 2 बूंद नाक में डालने से नकसीर में काफी आराम मिलता है और नाक से खून आना तुंरत बंद हो जाता है।

पथरी का इलाज

दूब को लगभग 30 मिली पानी में पीसकर उसमें मिश्री मिलाकर सुबह-शाम पीने से पथरी में शीघ्र ही लाभ होता है।

मुंह के छालों का इलाज

आयुर्वेद गुरू बालकृष्ण के अनुसार दूर्वा क्वाथ से कुल्ले करने से मुंह के छालों में लाभ होता है।

उदर रोगों में लाभदायक

आयुर्वेद के जानकारों के अनुसार दूब का ताजा रस पुराने अतिसार और पतले अतिसारों में बेहद उपयोगी होता है। इसके लिए दूब को सोंठ और सौंफ के साथ उबालकर पीने से आराम मिलता है।

मूत्ररोग का उपचार

दूब के रस को मिश्री के साथ मिलाकर पीने से पेशाब के साथ खून आना बंद हो जाता है.. साथ ही 1 से 2 ग्राम दूर्वा को दुध में पीस छानकर पीने से मूत्रदाह मिटती है।

रक्तप्रदर और गर्भपात में लाभदायी

दूब का प्रयोग रक्तप्रदर और गर्भपात में भी उपयोगी है.. दूब के रस में सफेद चंदन और मिश्री मिलाकर पीने से रक्तप्रदर में शीघ्र लाभ मिलता है। इसके साथ ही प्रदर रोग, रक्तस्त्राव और गर्भपात जैसी योनि की समस्याओं में इसके सेवन करने से आराम मिलता है और रक्त बहना तुरंत रूक जाता है.. साथ ही दूब के सेवन से गर्भाशय को शक्ति और पोषण मिलती है।

Share
Leave a Comment

Recent Posts

राई के दाने भी पलट सकते हैं आपकी किस्मत, जानें इसके अचूक टोटके

क्या आपको पता है कि भोजन में स्वाद बढ़ाने वाली राई का इस्तेमाल आपको बुरी… Read More

May 25, 2020

बैंक खाते में 31 मई तक रखिये 342 रुपये, मिलेगी 4 लाख की सुरक्षा

दोस्तों, जैसा की हम सभी जानते है की इस समय देश एक भयंकर संकट से… Read More

May 24, 2020

फिल्म रेडी के ‘छोटे अमर चौधरी’ ने छोटी उम्र में किया दुनिया को अलविदा

कॉमेडियन एक्टर मोहित बघेल (Mohit Baghel) ने 27 वर्ष की उम्र में दुनिया को अलविदा… Read More

May 23, 2020

रुई जैसे सॉफ्ट पकोड़े वाली कढ़ी बनाने की विधि

हेलो दोस्तों , हम आपको पकोड़े वाली कढ़ी की रेसिपी बता रहे है। यह बहुत… Read More

May 22, 2020

आटा केक बनाने की विधि

हेलो फ्रेंड्स , आज हम आपको बता रहे है। आटा केक की रेसिपी। इसको बच्चे… Read More

May 20, 2020

मटका कुल्फी बनाने की विधि

हेलो दोस्तों , गर्मी का मौसम शुरू हो गया है इसलिए आज हम आपको मटका… Read More

May 17, 2020