सोने से भी कीमती है उबली हुई चायपत्ती, फेंकने की गलती कभी न करें

0
19

हेल्लो दोस्तों भारत जैसे देश में आधे से ज्‍यादा घर में सुबह होते ही चाय बनता है क्‍योंकि अधिकतर लोगों की आदत होती है कि वो अपने दिन की शुरुआत चाय से ही करते हैं क्‍योंकि कुछ लोगो को जब तक गर्मागर्म चाय नहीं मिलती तब तक उनकी सुबह ही नहीं होती। चाय पीने में कोई बुराई नहीं है लेकिन क्या आप भी चाय बनाने के बाद बची हुई चायपत्ती फेंक देते है। ऐसा करने से आप खुद का ही नुकसान करते हैं क्‍योंकि जिस चायपत्‍ती को आप बेकार समझकर फेंक देते हैं वो आपके बहुत काम आ सकती है। तो आइए जानते हैं कैसे? Benefits Of Boiled Tea Leaves

ये भी पढ़िए : चीटियों से छुटकारा पाने के लिए अपनाइए ये घरेलू उपाय

1. बालों के लिए है रामबाण :

अगर आपके भी बाल रूखे व बेजान हो चुके हैं और आप भी उनकी चमक वापस लाना चाहती है तो उसके लिए ग्रीन टी या ब्लैक टी बैग्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले एक बर्तन में पानी को उबालना होगा और उसमें कुछ टी-बैग्स भी डाल दें। 15 मिनट तक पानी के उबलने के बाद इसे ठंडा होने के लिए रख दें। फिर इस पानी को बालों में लगाकर कुछ देर के लिए छोड़ दें। इसके बाद किसी शैंपू से अपने बालों को धो डालें।

2. सनबर्न को करें दूर :

हमें रोज किसी ना किसी काम से बाहर निकलना होता है फिर चाहे वो कोई घरेलु काम हो या ऑफिस का काम, हर किसी को तीखी धूप का सामना करना ही पड़ता है इससे लोगों में सनबर्न की समस्‍या सामने आने लगती है और इसके लिए लोग काफी महंगे सनस्क्रीन लोशन या क्रीम भी इस्‍तेमाल करते हैं लेकिन सब फेल हो जाता है। इसे दूर करने के लिए आप टी-बैग्स का इस्तेमाल करें। कुछ टी-बैग्स को ठंडे पानी में डुबो दें उसके बाद उन्हें हल्के हाथों से दबाकर चेहरे पर रखकर कुछ देर के लिए रखकर लेट जाए। इससे आपकी सनबर्न की प्रॉब्लम झट से दूर हो जाएगी।

Benefits Of Boiled Tea Leaves
Benefits Of Boiled Tea Leaves

3. कीट-पतंगा काटने पर :

दोस्तों कीड़ा मकोड़ा का काटना आम बात है लेकिन परेशानी तब होती है जब इसमें जलन होती है अगर आपको कभी कोई कीडा काट लें जो आपको खुजली करने में मजबूर कर देते हैं तो इस जलन और दर्द को दूर करने के लिए आप टी बैग का प्रयोग कर सकते हैं। चाहे वह मच्छर ही क्यों न हो, सही और इफेक्टिव जगह पर ठंडे टी-बैग्स रखने से बहुत जल्दी फायदा होता है।

4. डार्क सर्कल को भगाए दूर :

चेहरे पर डार्क सर्कल होना सभी के लिए शर्मसार कर देता है अगर आपके चेहरे पर डार्क सर्कल न पड़े तो आप ठंडे टी-बैग्स का इस्तेमाल करना शुरू कर दें यह आपको बहुत फायदा होगा और इसमें मौजूद कैफीन आंखों के नीचे के काले घेरों को दूर करने में मदद करता है।

ये भी पढ़िए : बालों की मेहंदी में क्या मिलाएं और बालों में मेहंदी कैसे लगाएं?

5. पैरों की बदबू को करें दूर :

अक्‍सर कई लोगों के पैरों से बदबू आने लगती है जिसकी वजह से उन्‍हें सबके सामने शर्मिंदा भी होना पड़ता है। इडके लिए सबसे पहले आप चायपत्ती को पानी में डालकर उबाल लें। जब यह पानी ठंडा होने पर इसे किसी टब में डाल दें। अब पैरों को कुछ देर तक इसमें डुबोकर रख दें। इससे पैरों की बदबू दूर हो जाएगी।

6. जख्मों को भरने के लिए :-

उबली चाय चायपत्ती में एक ऐसा गुणकारी तत्व पाया जाता है जो व्यक्ति के बड़े से बड़े घाव को भर देता है. यदि आपके शरीर पर घाव हो गया है तो अप उबली हुई चाय पत्ती लगा ले. आपका घाव जल्द ठीक हो जायेगा. चाय में विशेष औषधि होती हैं जो घावों को जल्दी ठीक करती है.

Benefits Of Boiled Tea Leaves
Benefits Of Boiled Tea Leaves

7. शीशे चमकाने के लिए :-

घर के शीशों को साफ करने के लिए भी उबली हुई चाय-पत्ती का इस्तेमाल किया जा सकता है. घर के शीशों को चमकाने के लिए सबसे पहले चाय-पत्ती को अच्छी तरह से उबाल लें और उबालने के बाद जो पानी बचे उसको स्प्रे बोतल में भरकर शीशों को अच्छी तरह से साफ कर लें.

8. पौधे की खाद :-

हर किसी को घर में पौधा लगाना अच्छा लगता है. उन पौधों की देखभाल करना भी जरुरी होता है. समय पर खाद पानी मिलता रहे तो वह कभी मुरझाता नहीं है. इस स्थिति में यदि आप उबली चायपत्ती का इस्तेमाल खाद के रूप में करेंगे तो पौधे स्वस्थ रहने के साथ जल्दी बढ़ने लगेंगे. यह आपके पौधों के लिए अमृत समान है.

ये भी पढ़िए : 99% लोग नही जानते हिन्दू धर्म में अगरबत्ती जलाना क्यों है मना

9. फर्नीचर को करें साफ :-

फर्नीचर साफ करने के लिए भी हम उबली हुई चायपत्ती का इस्तेमाल कर सकते है. फर्नीचर साफ करने के लिए चायपत्ती को दो बार अच्छी तरह से धो लें, फिर उस पानी से फर्नीचर को साफ करें. आप देखेंगे आपका फर्नीचर चमक उठेगा. ऐसा आप महीने में एक बार जरुर कर सकते हैं इससे आपका फर्नीचर नया रहेगा.

अस्वीकरण : आकृति.इन साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here