सुशांत की आखिरी फिल्म में हीरोइन को था थाइराइड कैंसर, जानिए इसके लक्षण और उपचार

0
290

हेलो फ्रेंड्स, आज हेल्थ सेक्शन में हम बात करेंगे थायराइड कैंसर (Thyroid Cancer Symptoms) की, जैसा की आप जानते है “दिल बेचारा” 24 जुलाई 2020 को डिज्नी+ हॉटस्टार पर रिलीज़ हुई है। फिल्म आप सभी को बेहद पसंद आ रही होगी। जॉन ग्रीन के 2012 के उपन्यास “द फॉल्ट इन ऑउर स्टार्स” पर आधारित यह फिल्म, इसके मुख्य अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की आखिरी फिल्म है, जिनका निधन 14 जून 2020 को, इस फ़िल्म के रिलीज़ के पहले ही हो गया था।

यह भी पढ़े – गले के कैंसर के लक्षण और भूलकर भी न करें इसे नज़रअंदाज़

प्रोडक्शन में देरी और फिर भारत में COVID-19 महामारी के कारण फिल्म की रिलीज़ को कई बार टाल दिया गया। सुशांत की आखिरी झलक इस फिल्म में देखने को मिली। इस फिल्म में अभिनेत्री संजना संघी (Sanjana Sanghi) ने थायराइड कैंसर (Thyroid Cancer) से पीड़ित बीमारी का रोल किया है।

आज हम आपको थायराइड कैंसर के बारे में बताने जा रहे हैं कि आखिर यह कैंसर क्या है, इसके लक्षण और उपचार क्या हैं?

क्या है थायराइड कैंसर ? – What is Thyroid Cancer

कैंसर यानी शरीर में कोशिकाओं का असामान्य रूप से बढ़ना। शरीर के जिस हिस्से में कोशिका बढ़ती है, उसे उसी कैंसर के नाम से जाना जाता है। उदाहरण के रूप में मुंह की कोशिकाएं बढ़ने से मुंह का कैंसर होता है। वहीं, जब थायराइड ग्रंथि की कोशिकाएं असमान्य रूप से बढ़ती हैं, तो उसे थायराइड कैंसर कहा जाता है।

अगर इस कैंसर का समय से उपचार नहीं कराया गया, तो यह गंभीर रूप धारण कर लेता है। थायराइड कैंसर से शरीर का पूरा हार्मोन असंतुलित हो जाता है। महिलाओं को पुरुषों की तुलना में थायराइड कैंसर होने की संभावना अधिक होती है।

यह भी पढ़ें – ये 5 फूड्स बन रहे हैं ब्रैस्ट कैंसर का कारण, हो जाएं सावधान

थायराइड कैंसर के लक्षण – Symptoms of Thyroid Cancer

  • ठंड न होते हुए भी खांसी की समस्या होना
  • खाना निगलने में परेशानी
  • कर्कश आवाज
  • गर्दन में गांठ पड़ना
  • गर्दन में सूजन होना
  • गला बैठना या फिर आवाज में परिवर्तन
Thyroid Cancer Symptoms
Thyroid Cancer Symptoms

कुछ अन्य लक्षण :

  • थायराइड कैंसर
  • बालों और स्किन का ड्राई होना
  • आंखों से संबंधी समस्याएं होना
  • बोलने और सोचने की क्षमता पर असर होना।
  • वजन घटना या फिर बढ़ना
  • याददाश्त क्षमता कमजोर होना

यह भी पढ़ें – कैसे पता चलेगा कि आप थायरॉइड का शिकार हो रहे हैं ?

थायराइड कैंसर होने का कारण – Causes of Thyroid Cancer

यह किसी व्यक्ति को अनुवांशिक तौर में मिल सकता है। यानी कि परिवार की पिछली पीढ़ियों में किसी को यह बीमारी रही हो। इसे कम्यूटर थायराइड कार्सिनोमा नाम से भी जाना जाता है। एडिएशन के कारण या आयोडीन की कमी के कारण भी थायराइड कैंसर की संभावना बढ़ जाती है।

थायराइड कैंसर से बचाव के उपाय – How to Prevent Thyroid Cancer

Thyroid Cancer Symptoms
Thyroid Cancer Symptoms
  • अधिकांश मामलों में थायराइड कैंसर का कारण निर्धारित नहीं होता है, इसका मतलब है कि ज्यादातर लोगों में इसे रोकने का कोई ज्ञात तरीका नहीं है।
  • यह माना जाता है कि मेडयुलरी थायराइड कैंसर अनुवांशिक होता है। अगर आपके परिवार में किसी को यह कैंसर है या कभी हुआ है, तो अपने चिकित्सक को बताएं। आपके डॉक्टर आपको एक आनुवंशिक सलाहकार के पास भेज सकते हैं जो यह निर्धारित कर सकते हैं कि आपको यह कैंसर होने का कितना जोखिम है।
  • जो लोग परमाणु ऊर्जा संयंत्रों के पास रहते हैं, उन्हें थायराइड कैंसर विकसित करने का अधिक जोखिम होता है। अपने डॉक्टर से पोटेशियम आयोडीन दवाओं के बारे में बात करें यदि आप ऐसे क्षेत्र में रहते हैं। अपने स्वस्थ की वार्षिक जांच कराएं और अपने चिकित्सक को अपने लक्षणों के बारे में बताएं।

यह भी पढ़ें : थायराइड से बढ़े हुए वजन को कैसे करें कंट्रोल?

थायराइड कैंसर का इलाज – Treatment of Thyroid Cancer

इस कैंसर के लिए सबसे जरूरी है कि इसके लक्षणों की पहचान जल्द से जल्द कर लेना। अगर इस बीमारी का देर से पता चलता है, तो इलाज करने में काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है। अगर समय से इसके लक्षणों की पहचान कर ली जाए, तो व्यक्ति जल्द ही ठीक हो सकता हैं।

कई बार अधिक कठिनाई होने पर थायराइड ग्रंथि को निकाल दिया जाता है। इस स्थिति में आर्टिफिशियल थायराइड ग्रंथि का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा थायराइड कैंसर का इलाज रेडियोधर्मी आयोडीन की मदद से भी की जाती है। मरीज को दोबारा यह कैंसर ना हो, इसके लिए उन्हें खुद पर पूरा ध्यान देना होता है।

अस्वीकरण : आकृति.इन साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here