ad2

मौजूदा दौर में अनियमित दिनचर्या और तेजी से बदलती जीवनशैली आपके बीमार होने का प्रमुख कारण है। आपके बीमार पड़ने के पीछे कई वजह हो सकती हैं। दरअसल जब आपका शरीर बीमारी पैदा करने कीटाणुओं से नहीं लड़ पाता तो आप बार-बार बीमार पड़ने लगते हैं और लंबे समय तक बीमार रहना आपको किसी गंभीर या फिर लाईलाज बीमारी का शिकार बना सकता है। बार-बार बीमार होना आपके इम्यून सिस्टम की कमजोरी को भी बयां करता है और इसे मजबूत बनाए रखना विटामिन डी के महत्वपूर्ण कार्यों में से एक है। Symptoms of Vitamin D Deficiency

Read : व्रत में क्‍यों खाया जाता है सेंधा नमक जानिए इसका कारण

कई अध्ययनों में जुकाम, ब्रोंकाइटिस व निमोनिया और विटामिन डी की कमी के बीच की कड़ी को साबित किया जा चुका है। अगर आप भी बार-बार बीमार पड़ते हैं तो समझ लीजिए आपमें विटामिन डी की कमी है इसलिए हम आपको विटामिन डी से जुड़े कुछ फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके साथ आप खुद को बीमार होने से बचा सकते हैं और कई चीजों में सुधार कर सकते हैं।

थकान को दूर करता है :

विटामिन डी की कमी से शरीर में एनर्जी लेवल कम हो जाता है और थकावट महसूस हो सकती है। थकावट होने से किसी काम में मन नहीं लगता, जिसके कारण लोगों को अपने काम के कारण घर, ऑफिस जैसे स्थानों पर लोगों की बातें सुननी पड़ सकती हैं, इसलिए अपनी डाइट में विटामिन डी का इस्तेमाल करें और थकान को दूर भगाएं।

Read : गले के कैंसर के लक्षण और भूलकर भी न करें इसे नज़रअंदाज़

हड्डियों को मजबूत बनाता है :

हड्डियों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में विटामिन डी कई तरीके से सहायक है। विटामिन डी आपके शरीर से कैल्शियम सोखता है, जिससे हड्डियों को मज़बूती मिलती है। अगर आप भी हड्डियों, और पीठ के दर्द से परेशान रहते हैं तो यह विटामिन डी की कमी के संकेत हो सकता है। विटामिन डी की कमी से पीठ दर्द और अन्य प्रकार के दर्द की सम्भावना अधिक होती है।

बालों के झड़ने से रोकता है :

बालों के झड़ने में विटामिन डी की कमी भी एक कारण हो सकती है। विटामिन डी की कमी के कारण अलोपेसिया अरीटा सर और शरीर के बालों पर प्रभाव डालने वाली एक ऐसी बीमारी है, जिससे बाल कमजोर होकर झड़ने लगते हैं। अपने आहार में विटामिन डी को शामिल कर इस समस्या को दूर किया जा सकता है।

तनाव का कारण :

अगर आप भी तनाव का शिकार हैं तो विटामिन डी की कमी इसका एक कारण हो सकता है। बुजुर्गों में तनाव की समस्या ज्यादा होती है। कुछ अध्ययनों से सामने आया है कि जिन लोगों को तनाव की समस्या थी उनमें विटामिन डी का स्तर काफी कम था। डॉक्टर कहते हैं कि विटामिन डी से तनाव काम करने में मदद मिलती हैं। अगर आप भी किसी बात को लेकर हमेशा तनाव में रहते हैं तो अपनी डाइट में विटामिन डी की मात्रा को बढ़ाएं।

Read : पुरुषों से ज्यादा महिलाओं को होती है ये बीमारी

इम्यून सिस्टम होता है स्ट्रॉन्ग :

विटामिन डी इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने का काम करता है, जिससे संक्रमण से लड़ने में मदद मिलती है और सर्दी, फ्लू और निमोनिया जैसी बीमारियों से सुरक्षा मिलती है। विटामिन डी मांसपेशीयों को मजबूत बनाने का भी काम करता है। इसके अलावा यह कैंसर को कम करने में भी सहायक है। विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा कैंसर, तपेदिक, मोटापा, बालों के झड़ने और अवसाद जैसे रोगों के खतरे को कम करने में भी सहायक है।

अस्वीकरण : आकृति.इन साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।

ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए कृप्या आप हमारे फेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम और यूट्यूब चैनल से जुड़िये ! इसके साथ ही गूगल न्यूज़ पर भी फॉलो करें !

Previous articleपुदीने की चाय के अद्भुत स्वास्थ्य लाभ
Next articleसावधान ! भूलकर भी खाली पेट न खाएं ये चीजें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here