Putra Prapti Ke Upay
Putra Prapti Ke Upay
ata

क्या आप सफलता पूर्वक एक पुत्र को जन्म देने की कोशिश कर रहे है ? यदि हां, तो यह लेख आपको एक पुत्र को कैसे गर्भ धारण करने के बारे में कुछ प्रभावी सुझाव देगा कोई भी तरीका नहीं है जो एक सौ प्रतिशत सफलता दर की गारंटी दे सकता है, लेकिन कुछ ने एक नर बच्चे को जन्म देने की संभावना बढ़ाने के लिए साबित किया है। Putra Prapti Ke Upay

बेटा हो या बेटी दोनों हीं एक समान हैं, आज के समय में बेटियाँ भी बेटों से कम नहीं हैं। संस्कार और माहौल इस बात का निर्धारण करते हैं कि आपका बेटा या आपकी बेटी कैसी होगी। लेकिन आज भी लोगों की सोच संकीर्ण ही है कि अगर उनके पुत्र नहीं हुआ तो उनका वंश आगे कैसे बढेगा।

यह भी पढ़ें – गर्भकालीन मधुमेह के लक्षण, कारण, और उपचार

aia

उन्हें अपना वंश बढ़ाने के लिए पुत्र की आवश्यकता होती है। इसी चाहत में लोग कई बच्चे पैदा कर लेते हैं। उन लोगों का मानना यह है कि 3 बच्चों के बाद मां की कोख बदल जाती है और 3 बच्चों के बाद पुत्र की प्राप्ति होती है। और माना जाता हैं कि 3 बच्चों के बाद चौथा पुत्र होगा।

वैसे अब ये सोच धीरे धीरे बदलती जा रही है खासकर पढ़े लिखे लोग और बड़े शहरो में रहने वाले अब पुत्र-पुत्री में भेद नहीं करते। आज हम आपको बताने जा रहे हैं लड़का पैदा करने के उपाय। देखा जाये तो साइंस के अनुसार इन तरीको को पुत्र संतान पाने की गारंटी नहीं माना जा सकता। पर फिर भी इन उपाय को करने में कोई बुराई नहीं है। तो आइए जानते हैं इन उपायों के बारे में।

Putra Prapti Ke Upay
Putra Prapti Ke Upay

1. पुत्र पैदा करने के लिए स्री और पुरुष को लगभग 6 महीने पहले ही तैयारी करनी पड़ती है। पति को दूध से बनी हुई चीजें जैसे पनीर, दूध, मक्खन, मावा, रबड़ी आदि का सेवन करना चाहिए।

2. गर्भाधान ऋतुकाल की आठवीं, दसवी और बारहवीं रात्रि को ही किया जाना चाहिए। जिस दिन मासिक ऋतुस्राव शुरू हो उस दिन व रात को प्रथम मानकर गिनती करना चाहिए। छठी, आठवीं आदि सम रात्रियाँ पुत्र उत्पत्ति के लिए और सातवीं, नौवीं आदि विषम रात्रियाँ पुत्री की उत्पत्ति के लिए होती हैं। इस संबंध में ध्यान रखें कि इन रात्रियों के समय शुक्ल पक्ष यानी चांदनी रात वाला पखवाड़ा भी हो, यह अनिवार्य है, यानी कृष्ण पक्ष की रातें हों।

यह भी पढ़ें – गर्भावस्था में पानी की कमी के कारण, लक्षण और उपाय

3. सूरजमुखी के बीज खाने से भी पुत्र प्राप्ति की जा सकती है। इसके बीज में विटामिन E काफी मात्रा में पाया जाता है जो स्पर्म काउंट बढाने के साथ लड़का बनाने वाले शुक्राणु बनाता है। इस घरेलु उपाय को करने का तरीका सरल है। आप सूरजमुखी के बीज रोजाना खाना शुरू करे या फिर इन बीजो को बादाम, दही या जामुन के साथ भी खा सकते है।

4. लड़का पैदा करने के लिए पुरुष को अपनी पत्नी के साथ संभोग करने से 6 महीने पहले ही खटाई खाना छोड़ देना चाहिए। इस दौरान पति को संभोग करते समय कंडोम आदि का प्रयोग करना चाहिए।

5. पुत्र सन्तान योग के लिएCalabash नाम का फल खाना एक असरदार घरेलू उपाय है 50 से 60 ग्राम कच्चा Calabash रोजाना 2-3 महीने तक खाए। जिन्हें इसका स्वाद पसंद नहीं है वो उसमे कुछ मीठा मिलकर खाए।

Putra Prapti Ke Upay

6. अश्वगंधा आयुर्वेदिक घरेलू नुस्खा है जो पुत्र प्राप्ति की एक असरदार दवा है। इसके लिए 25 ग्राम अश्वगंधा जड़ो का चूरन आधा लीटर पानी में डालकर तब तक उबले जब तक वो 1/4 न रह जाए। उसके बाद उसमे उबला हुआ 100 मिलीलीटर दूध डाले और आधा रहने तक उबाले। इस मिश्रण का 30 मिलीलीटर में आधा चमच्च घी डालकर सुबह के समय 2-3 महीने तक सेवन करे।

ओव्यूलेशन और XY क्रोमोजोम

मादा और पुरुष दोनों के गुणसूत्र होते हैं और ये बच्चे के लिंग का निर्धारण करते हैं। एक पुरुष बच्चा पैदा होता है जब महिला का एक्स गुणसूत्र पुरुष के गुणसूत्र के साथ जुड़ता है। इस बिंदु पर आप सोच सकते हैं कि निषेचन के समय केवल Y गुणसूत्र मौजूद है कि कैसे यह सुनिश्चित करेगा। ठीक है, ऐसा करने का सबसे आसान तरीका आपके ओव्यूलेशन समय की गणना करेगा।

यह भी पढ़ें – आखिर क्यों होता है वाइट डिस्चार्ज, जानिए इसके कारण, लक्षण और घरेलू उपाय

गर्भ धारण करने के लिए किसी के गर्भधारण की गणना करना हमेशा महत्वपूर्ण होता है, लेकिन अगर आप किसी विशेष यौन संबंध के बच्चे के साथ गर्भवती होने की कोशिश कर रहे हैं तो इससे भी अधिक महत्वपूर्ण है। वाई गुणसूत्र शुक्राणु सामान्यतः एक्स गुणसूत्र से तेज तैरते हैं, लेकिन वे खुद से बच नहीं पा रहे हैं और बहुत तेज़ी से जला देंगे यदि अंडे अच्छी तरह से तैयार है और तेजी से तैराकों द्वारा प्रवेश किया जाता है तो आप गर्भवती हो सकते हैं दूसरी ओर, Y गुणसूत्र शुक्राणु जीवित नहीं रहेगा और यदि अंडा तैयार होने पर अंडे तैयार न हो जाए तो वे मर जाएंगे।

इसका अर्थ यह है कि जब आप अंडाकार होते हैं तो आपको सही समय पता होना चाहिए। एक बार जब आप यह जानते हैं, तो आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आप उस दिन यौन संबंध रखते हैं या एक लड़के के साथ गर्भवती होने की संभावना बढ़ाने के बाद।

Putra Prapti Ke Upay
Putra Prapti Ke Upay

यौन संभोग के तरीके

अपने ओवुलेशन चक्र को जानकर और सही समय पर यौन संबंध रखने के अलावा, आपको यह समझना चाहिए कि कुछ यौन स्थितियां और पैठ की तकनीक है कि आप एक लड़के के बच्चे की कोशिश कर सकते हैं। ऐसा कहा जाता है कि सेक्स के दौरान गहरी पैठ अंडे के करीब शुक्राणु को छोड़ देगा। जब ऐसा होता है, तो वाई शुक्राणु तेजी से तैरने जा रहे हैं और तैयार अंडे के पास जाते हैं।

लोअर एसिडिक शर्तें

एक महिला का योनि वातावरण बहुत अम्लीय है और यह कमजोर शुक्राणुओं को नष्ट कर सकता है। जब आप एक पुत्र की कामना करते है तब आप अपने योनि के पीएच स्तर और पीएच स्ट्रिप्स के साथ परीक्षण एसिड सामग्री प्राप्त कर सकते हैं यह जानने के लिए कि क्या यह बहुत अधिक है।

यह भी पढ़ें – गाय के दूध और नींबू रस से पायें बवासीर से मुक्ति

यदि परीक्षण से पता चलता है कि यह अत्यधिक अम्लीय है, तो आप इसे कम करने में मदद करने के लिए कुछ विधियों का उपयोग कर सकते हैं और शुक्राणुओं को लंबे समय तक जीवित रहने के लिए सक्षम कर सकते हैं। ऐसा करने के तरीके में से एक यह है कि आपके आहार में कुछ परिवर्तन करने के लिए इसे कम अम्लीय बनाने के लिए।

आहार और पोषण

यह एक सबसे महत्वपूर्ण युक्तियों में से एक है कि कैसे एक पुत्र के लिये गर्भ धारण करना है क्योंकि आहार और पोषण बच्चे के लिंग का निर्धारण करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अध्ययन बताते हैं कि जो महिलाएं स्वस्थ नाश्ते खाने और गर्भवती होने की कोशिश करते समय दैनिक 2000 कैलोरी का उपभोग करती हैं, उन्हें लड़के को जन्म देने की अधिक संभावनाएं होंगी। इसके अलावा, सोडियम और पोटेशियम की बड़ी मात्रा में आहार आपको पुत्र बनाने में मदद करेगा आप केले, स्ट्रॉबेरी, और कई अन्य उच्च सोडियम खाद्य पदार्थों से पोषक तत्व प्राप्त कर सकते हैं।

अगर आप अपना खान पान सही रखेंगे और हमारे बताये गये नियमो का पालन करेंगे तो आप पुत्र प्राप्ति के चांस को बढ़ा सकते है।

ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए कृप्या आप हमारे फेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम और यूट्यूब चैनल से जुड़िये ! इसके साथ ही गूगल न्यूज़ पर भी फॉलो करें !

aba

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here