शिशु के कमरे में एसी चलाने से पहले इन ज़रूरी बातों का रखें ध्यान

0
722

गर्मी का मौसम दस्तक दे चुका है और लोग इस भीषण गर्मी से बचने के लिए कूलर और एसी का सहारा लेना शुरू कर चुके हैं। जब मौसम में बदलाव होता है तो सबसे ज़्यादा जो किसी को परेशानी होती है वो है छोटे बच्चे। ठंडी से गर्मी और गर्मी से ठंडी होने पर सबसे ज़्यादा मुसीबत नवजात शिशुओं को होती है क्यूंकि इससे उनके सेहत पर भी बहुत प्रभाव पड़ता है क्यूंकि ज़्यादा ठंड हो या ज़्यादा गर्मी हो वो अपनी बात को बोलकर व्यक्त नहीं कर पाते। Navjaat Shishu Ke Liye AC Ka Prayog

यह भी पढ़ें : ये लक्षण बताएंगे की आपके शिशु को निकलने वाले हैं दांत

ऐसे में अगर गर्मी के दिन में आप अपने शिशु को गर्मी से आराम दिलाने के लिए एसी का इस्तेमाल करती हैं और सोचती है की यह आपके शिशु को आराम दिलाएगा तो हो सकता है आप ग़लत भी हो सकते हैं क्यूंकि आराम दिलाने के साथ-साथ यह आपके शिशु को बीमार भी कर दे। इसलिए आज इस ब्लॉग के ज़रिये हम आपको कुछ ज़रूरी बातें बता रहे हैं जिनका अपने शिशु के कमरे में एसी चलाते वक़्त आपको ध्यान रखना ज़रूरी है।

Navjaat Shishu Ke Liye AC Ka Prayog

तापमान का रखें ध्यान :

जब कभी भी आप अपने शिशु के कमरे में एसी चलाएं तो एक बात का ध्यान ज़रूर रखें की कमरे का तापमान ज़्यादा ठंडा ना हो। अगर कमरे का तापमान अधिक ठंडा होगा तो हो सकता है आपके शिशु को ठंड के वजह से कंपकपी हो और इससे आपके शिशु के जान को भी खतरा हो सकता है।

ठंडी-गर्मी से बचाएं :

जब भी आप शिशु को एसी कमरे में रखें तो तुरंत शिशु को कमरे से बाहर निकालकर बहार खुले में या किसी गर्म कमरे में ना ले जाएं, इससे उन्हें ठंडी-गर्मी हो सकती है और वो बीमार भी हो सकते हैं। इसलिए बेहतर यह होगा की जब आप शिशु को बाहर ले जाना चाहें तो कमरे का एसी थोड़े देर के लिए बंद कर दें ताकि वो धीरे-धीरे बाहर के तापमान के हिसाब से खुद को ढाल सकें।

यह भी पढ़ें : शिशुओं में डायपर रैशेस के लिए घरेलू उपचार

गर्म कपड़े हैं ज़रूरी :

हमेशा याद रखें की शिशु के कमरे का एसी चलाने से पहले शिशु को या तो गर्म कपड़े या तो पुरे कपड़े पहना दें, इसके अलावा आप उन्हें चादर भी ओढ़ा सकती हैं और साथ ही साथ शिशु के सर को टोपी या किसी कपड़े से भी ढक सकती हैं ताकि उन्हें ठंड ना लगे।

Navjaat Shishu Ke Liye AC Ka Prayog

सर्दी-ज़ुखाम का रखें ख्याल :

हमेशा याद रखें की एसी चलाने से पहले आप ध्यान रखें की कहीं आपके शिशु को सर्दी-ज़ुखाम तो नहीं है और साथ ही साथ एसी के तापमान का भी ख्याल रखें ताकि आपका शिशु बीमार ना हो। क्यूंकि शिशु का इम्युनिटी पावर बहुत कम होता है और ऐसे में अगर तापमान में थोड़ी भी गड़बड़ी हुई तो आपका शिशु बीमार हो सकता है या उसे इन्फेक्शन भी हो सकता है।

यह भी पढ़ें : बच्चों के आम रोगों में उपयोगी घरेलू नुस्ख़े

एसी को ज़रूर बंद करें –

हमेशा याद रखें एसी में टाइमर ज़रूर लगा दें ताकि कमरा ठंडा होने के बाद आपका एसी अपने आप बंद हो जाए। अगर आपका एसी टाइमर वाला नहीं है तो एक नियमित वक़्त के बाद एसी बंद करना ना भूलें।

एसी का उपयोग करना बुरा नहीं परन्तु अगर आप अपने शिशु को एसी वाले कमरे में रख रही हैं तो आपको इन बातों का ध्यान ज़रूर रखना चाहिए।

अस्वीकरण : आकृति.इन साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here