How To Increase Platelets In Dengue
How To Increase Platelets In Dengue
ad2

डेंगू बुखार, डेंगू को दूर करने के उपाय, प्लेटलेट्स बढ़ाने के कुछ घरेलू उपाय, एडिज मच्छर, How To Increase Platelets In Dengue, Dengue Fever in Hindi, Symptoms of Dengue, Foods To Increase Platelets Count, Prevention of Dengue Fever in Hindi

हेल्लो दोस्तों डेंगू उन बिमारियों में से एक है जो मच्छर के काटने से होती है। बरसात का मौसम आते ही मच्छरों के बढ़ने से इस बीमारी के फैलने की संभावना बढ़ जाती है। कुछ मामलों में डेंगू (Dengue) जानलेवा साबित हो सकता है, क्योंकि कई गंभीर मामलों में ब्लड वेसल्स डैमेज हो सकते हैं, साथ ही प्लेटलेट्स की कमी हो सकती है. ऐसे में सांस लेने में समस्या आ सकती है और बेचैनी, लगातार उल्टी, यूरिन में ब्लीडिंग और अत्यधिक पेट दर्द हो सकता है. ऐसे में आप प्लेटलेट्स बढ़ाने के कुछ घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

डेंगू मादा एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से फैलता है और अधिकांश लोगों को यह सुबह के समय काटते हैं. एडिज मच्छर के काटने पर पता ही नहीं चलता है और लगभग 3 से 5 दिन बाद डेंगू के लक्षण दिखने शुरू हो जाते हैं. ऐसे में जरूरी है कि इस समय आप सभी डेंगू (Dengue) के प्रति सतर्क रहें. प्लेटलेट में सुधार भी डेंगू के उपचार का महत्वपूर्ण हिस्सा है और खून में प्लेटलेट की संख्या बढ़ाने के लिए आहार मुख्य भूमिका निभाता हैं। आइयें जानें कुछ ऐसे आहार (Best Foods To Increase Platelets Count) जो खून में प्लेट्लेट्स की संख्या बढ़ाते हैं।

डेंगू क्‍या होता है ? (Dengue Fever in Hindi)

डेंगू एक ऐसी बीमारी हैं जो सामान्य तौर पर एडीज इजिप्टी मच्छरों के काटने से होता है। इस बीमारी में मरीज को तेज बुखार के साथ शरीर पर चकत्‍ते बनने लग जाते हैं। जिस भी स्थान पर यह महामारी के रूप मे फैलता है उस स्थान पर अनेक प्रकार के विषाणु सक्रिय हो सकते है। डेंगू बुखार बहुत ही दर्दनाक और खतरनाक बीमारी है। इसे हड्डीतोड़ बुखार भी कहा जाता है क्योंकि इसमें रोगी के शरीर में हड्डी टूटने जैसा बहुत ज्‍यादा दर्द होता है, इसलिए इसे हड्डी तोड़ बुखार कहना गलत नहीं होगा।

एक तंदुरूस्त मनुष्य के शरीर के खून में डेढ़ लाख से लेकर चार लाख तक प्लेटलेट होते हैं लेकिन डेंगू जैसे रोग में प्लेटलेट कम होने के कारण इनकी संख्या डेढ़ लाख से कम हो जाती है। डेंगू का अभी कोई उचित उपचार या दवाई उपलब्ध नहीं है इसलिए डॉक्टर रोगी को ग्लूकोस देने, एंटीबायोटिक इंजैक्शन आदि लगाने के साथ-साथ उसे अपने आहार में सावधानी बरतने की सलाह देते हैं।

डेंगू के लक्षण (Symptoms of Dengue)

अगर आपको डेंगू का मच्छर काट लेता है तो इसका इन्क्युबेशन पीरियड 3 से 13 दिनों तक रहता है। डेंगू के इन्क्युबेशन पीरियड के दौरान कोई भी लक्षण नहीं दिखाई देते। इस रोग के शुरुआत में आपको तेज बुखार, सिरदर्द और पीठ में दर्द होना शुरू हो जाता है। जोड़ों में भी दर्द होना इसका एक आम लक्षण है। रोगी के शरीर का तापमान अचानक से 104 डिग्री हो जाता है। और ब्लड प्रेशर पर भी इसका असर देखने को मिलता है। आंखें लाल हो जाती हैं, स्किन का रंग गुलाबी होने लगता है। बुखार 2 से 3 दिन तक रहता है और फिर धीरे धीरे तापमान नार्मल हो जाता है। मरीज ठीक होने लगता है और फिर से तापमान बढ़ने लगता है। पूरे शरीर में दर्द होता है। हथेली और पैर भी लाल होने लगते है। तापमान बढ़ने से कई बार बेचैनी भी होने लगती है।

जैसे सिर में तेज दर्द, मसल पेन, जोड़ों में दर्द, तेज बुखार, ठंड लगना, ज्यादा पसीना आना, कमजोरी, थकान, भूख में कमी, मसूड़ों से खून आना, उल्टी, आंखों के पास दर्द, ग्रंथियों में सूजन, रैशेज जैसी दिक्कत

How To Increase Platelets In Dengue

डेंगू में प्लेट्लेट्स तेजी से बढ़ाने के घरेलू उपाय (Foods To Increase Platelets Count)

1. चुकंदर (Beetroot) :

चुकंदर प्लेटलेट को बढ़ाने का सबसे बेहतरीन उपाय हैं। चुकंदर एंटीऑक्‍सीडेंट हैं और इसके साथ ही इसे खाने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैं। चुकंदर का नियमित सेवन करने या इसका रस पीने से खून में प्लेटलेट्स की संख्या में बहुत कम दिनों में ही वृद्धि हो जाती है। बिना किसी रोग के भी चुकंदर का रस पीना या चुकंदर सलाद के रूप में खाना बेहद फायदेमंद होता हैं। कुछ चम्मच चुकंदर के रस को गाजर के जूस में मिला कर पीने से भी प्लेटलेट्स बहुत जल्दी बढ़ते हैं या एक-दो चम्मच चुकंदर के रस को दिन में तीन बार पीने से फायदा होता है।

2. तिल का तेल (Sesame oil) :

प्लेटलेट्स को बढ़ाने के लिए तिल के तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। दिन में दो या तीन चम्मच तिल के तेल का सेवन करें या खाने में इसका इस्तेमाल करें। लसीका ग्रंथि के बाहर इस तेल से मालिश करने से भी इस रोग में लाभ होता है।

3. बकरी का दूध (Goat’s Milk) :

डेंगू में प्लेटलेट की संख्या को बढ़ाने के लिए बकरी के दूध में सभी गुण होते हैं। डेंगू में फायदे के लिए बकरी के कच्चे दूध को थोड़ा-थोड़ा रोगी को पिलायें। बकरी का दूध (Goat’s Milk) पीने में भले ही स्वादिष्ट न हो लेकिन अपने लाखों गुणों के कारण डेंगू में यह सर्वोत्तम औषधि से कम नहीं है।

4. गिलोय (Giloy) :

गिलोय के सेवन से भी खून में प्लेटलेट बढ़ते हैं और साथ ही इम्यूनिटी भी बढ़ती है। डेंगू होने पर रोजाना गिलोय का सेवन करने से प्लेटलेट में बढ़ोतरी होने लगती है। प्लेटलेट बढ़ाने के लिए गिलोय से बेहतर और कोई उपाय नहीं है। गिलोय के पत्तों का काढ़ा बना कर रोगी को पिलायें या गिलोय को पानी में भिगो कर रख कर सुबह उस पानी को रोगी को पिलायें। हर स्थिति में रोगी को फायदा होगा। गिलोय की बेल न मिलने की स्थिति में बाजार में मिलने वाली गिलोय घनवटी भी रोगी को दी जा सकती है।

5. पपीता (Papaya) :

खून में प्लेटलेट की संख्या बढ़ाने में पपीते के साथ साथ इसकी पत्तियां भी उपयोगी हैं। पपीते या इसके पत्तों का जूस बना कर रोगी को पिलायें। पपीते की पत्तियों का काढ़ा बना कर भी प्रयोग किया जा सकता है। पपीते का फल ऐसे ही रोगी को खाने के लिए दिया जा सकता है।

6. मेथी के पत्ते (Fenugreek Leaves) :

मेथी के पत्ते न केवल शरीर से हानिकारक तत्वों को बाहर निकालते हैं बल्कि डेंगू के वायरस को ख़त्म करने में भी सहायक हैं। मेथी की पत्तियों को पानी में कुछ देर भिगो कर रखें और उसके बाद इसके बाद उसका पानी रोगी को पीने को दें या इसके पत्तों को चाय के रूप में भी पिया जा सकता है। इससे डेंगू में प्लेटलेट बढ़ेगी और बीमार व्यक्ति को कुछ राहत मिलेगी।

7. पालक (Spinach) :

पालक विटामिन-के (Vitamin K) से भरपूर होता है और प्लेटलेट कम होने पर पालक का सेवन करना बेहतरीन माना जाता है। पालक के पत्तों को पानी में भिगो कर रखें और उसके बाद उस पानी को रोगी को पीने को दें। डेंगू में रोगी के खून में प्लेटलेट बढ़ाने के लिए पालक का प्रयोग सूप, सलाद या सब्जी के रूप में भी किया जा सकता है।

8. नारियल पानी (Coconut Water) :

नारियल पानी एक ऐसा पेय है जो स्वादिष्ट होने के साथ साथ कई गुणों का खजाना है। नारियल पानी इलेक्ट्रोलाइट्स (Electrolytes) से भरपूर होता है और इससे शरीर में पानी की कमी नहीं होती। इसके अलावा यह ब्लड प्लेटलेट्स को बढ़ाने में भी सहायक है।

How To Increase Platelets In Dengue

9. कीवी, ड्रैगन फ्रूट और अनार (Kiwi, Dragon Fruit and Pomegranate) :

कीवी विटामिन सी, विटामिन ई और पॉलीफेनोल (Polyphenols) से भरपूर होती है। डेंगू होने पर रोजाना कीवी खाने प्लेटलेट की संख्या जल्दी बढ़ती है। ऐसे ही अनार भी आयरन से भरपूर होता है जिससे हीमोग्लोबिन (Haemoglobin) और प्लेटलेट की संख्या बढ़ती है। अनार को जूस के रूप में भी लिया जा सकता है लेकिन रोगी को देने के लिए जूस उसी समय ताज़ा निकालना चाहिए और डिब्बाबंद अनार का जूस न दें। ड्रैगन फ्रूट का सेवन भी डेंगू में प्लेटलेट की संख्या बढ़ाने में लाभदायक है।

10. पानी (Water) :

पानी की कमी होने से कई रोगों की संभावना होती है और पानी उचित मात्रा में पीने से शरीर कई बीमारियों से मुक्त रहता है और साथ ही शरीर के दूषित और हानिकारक तत्व भी बाहर निकल जाते हैं। डेंगू होने पर पानी अधिक पीने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे मरीज़ के शरीर में पानी की कमी नहीं होगी। रोगी के लिए रोजाना कम से कम दस गिलास पानी पीना आवश्यक है।

11. कद्दू (Pumpkin) :

कद्दू प्लेटलेट की संख्या में सुधार करने वाली उपयोगी सब्जी है। यह कोशिकाओं में पैदा की गयी प्रोटीन को नियंत्रित करता है, जो प्‍लेटलेट के स्‍तर को बढ़ाने के लिए लाभकारी है। कद्दू का जूस रोगी को पिलायें या कद्दू की सब्जी बना कर रोगी को खाने को दें। इससे डेंगू में लाभ होगा और प्लेटलेट बढ़ेंगे।

12. आंवला (Gooseberry) :

प्लेटलेट को बढ़ाने के लिए आंवला उचित आहार है। आंवला विटामिन सी का उपयुक्त स्रोत है इससे प्लेटलेट तो बढ़ते ही हैं साथ ही इम्यूनिटी भी बढ़ती है। रोगी को आंवला खाने को दें या उसका जूस भी दिया जा सकता है। बाजार में भी आयुर्वेदिक आंवला जूस उपलब्ध है।

13. एलोवेरा (Alovera) :

खून में प्लेटलेट की संख्या बढ़ाने में एलोवेरा भी उपयोगी हैं। एलोवेरा कई बीमारियों से छुटकारा दिलाने में रामबाण है। यह डेंगू के बुखार को भी आसानी से खत्म कर सकता है। इसके लिए एलोवीरा पल्प को मिक्सी में डालकर पीस लें और रोजाना इस जूस का खाली पेट सेवन करे।

14. हल्दी (Turmaric) :

खून में प्लेटलेट की संख्या बढ़ाने में हल्दी भी उपयोगी हैं। हल्दी में एंटीसेप्टिक के साथ-साथ एंटीऑक्सीडेंट जैसे कई गुण पाए जाते हैं। जो आपकी इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के साथ प्लेटलेट्स बढ़ाने में मदद करते हैं। इसके लिए रोजाना रात को सोने से पहले दूध में हल्दी डालकर इसका सेवन करे।

उपरोक्त फल और आहार डेंगू के बुखार के दौरान प्लेटलेट्स बढ़ाने (Best Foods To Increase Platelets Count) में सहायक होते हैं। इसके साथ ही डेंगू में रोगी को हल्का और ताज़ा बना हुआ भोजन देना चाहिए। डेंगू में तेल, मिर्च-मसाले या नमक वाली चीज़ों से भी दूर रहना चाहिए। अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन करना रोगी को जल्दी स्वस्थ करने में सहायक है। उपरोक्त आहारों को आप बच्चों को भी दे सकती हैं लेकिन याद रखें अगर बच्चे तीन साल से छोटे हैं तो कोई भी चीज खाने के लिए देने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

डेंगू से बचाव के तरीके (Prevention of Dengue Fever in Hindi)

किसी भी रोग से बचने के लिए उसकी रोकथाम जरुरी है। उसी प्रकार डेंगू की रोकथाम के लिए डेंगू के मच्‍छरों के काटने से बचे। आपको यह तो जरूर पता होगा की एडीज इजिप्टी नामक मच्छर के काटने से डेंगू रोग फैलता है। डेंगू का मच्छर अधिकतर सुबह के समय काटता है। डेंगू के मच्‍छरों को कंट्रोल करने के लिए अपने घर में कहीं भी गन्दा पानी न रुकने दे। एक निश्चित समय पर अपने मटको, कूलर और अन्य चीजो में भरे हुए पानी हो बदलते रहे अगर आपको की इस जगह पर पानी भर सकता है तो वहां कीटनाशक का उपयोग करें।

घर में मच्छरदानी का उपयोग करे और पूरे बदन को ढककर रखे। आप चाहे तो क्रीम लगाकर भी अपना बचाव कर सकते है। अपने घर और आसपास साफ-सफाई रखें। क्योंकि गंदगी में डेंगू के मच्छरों के पनपने की आशंका ज्यादा होती है। जब भी आपको किसी तरह किन परेशानी महसूस हो तो तुरंत डॉक्टर की सलाह ले और उनके द्वारा दी गयी जानकारी को उपयोग में लाये।

रिलेटेड पोस्ट (Other Post)

डेंगू से प्लेटलेट्स काउंट कम होने पर डाइट में शामिल करें ये 7 सुपरफूड्स,…
डेंगू में पपीते के पत्तों का जूस पीना बहुत फायदेमंद, अन्‍य समस्‍याओं में भी…
गिलोय का काढ़ा बनाने का तरीका और इसे पीने के फायदे
घर में जरूर लगाएं ये पौधे, मच्छर नहीं भटकेंगे आसपास

अस्वीकरण : आकृति.इन साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।

Previous articleघर पर ऐसे बनाएं प्याज की सब्जी, स्वाद ऐसा कि बाकी सब्जी खाना भूल जाएंगे
Next articleइस बार डोली पर सवार होकर आई हैं माता रानी की सवारी, जानिए क्या है इसका संकेत
Akanksha
मेरा नाम आकांक्षा है, मुझे नए नए टॉपिक पर आर्टिकल्स लिखने का शौक पहले से ही था इसलिए मैंने आकृति वेबसाइट पर लिखने का फैसला लिया !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here