चैत्र नवरात्रि शुरु हो रहे हैं, 9 दिन तक देवी मां की आराधना की जाएंगी। माता के भक्‍त 9 दिनों तक व्रत रखकर उपासना करेंगे। इन 9 दिनों तक सिर्फ फल और व्रत में खाई जाने वाली खाद्य सामग्री पर निर्भर रहेंगे। इन दिनों तक खाने में सेंधा नमक का ही इस्‍तेमाल किया जाता है। क्‍या आपने कभी सोचा है कि व्रत में सिर्फ सेंधा नमक का इस्‍तेमाल क्‍यों किया जाता है। इसके पीछे एक खास वजह है Benefits of Rock Salt

चैत्र के नवरात्रों का आगाज़ हो चुका है। माता रानी के पावन दिनों में लगभग सभी लोग व्रत रखते हैं। बहुत से लोग इन दिनों में कई तरह की व्रत वाली डीश खाना पसंद करते हैं। लेकिन सभी डीशों में साधारण नमक की जगह सेंधा नमक का प्रयोग किया जाता है। मगर आपने कभी ये जानने की कोशिश की कि हम व्रत में सादे नमक की जगह सेंधा नमक ही क्यों इस्तेमाल करते हैं?दरअसल सेंधा नमक पोषण के नजरिए से सादे नमक से बेहतर होता है। शुद्ध होने के कारण भी व्रत के दौरान सेंधा नमक खाया जाता है।

व्रत के दौरान शरीर को अधिक पोषण की जरुरत होती है। ऐसे में सेंधा नमक का इस्तेमाल बेहतर होता है। सेंधा नमक अपने शुद्ध रुप में होता है इसे केमिकल प्रोसेस से नहीं गुजरना होता। जबकि सादे नमक को केमिकल प्रोसेस से गुजरना होता है। इसमें सोडियम की मात्रा सादे नमक से कम होती है इसलिए यह हाइपरटेंशन की समस्या को नहीं बढ़ाता। हालांकि इसका सेवन भी नियंत्रित मात्रा में ही उचित होता है। सेंधा नमक मिनरल्स का सेलुलर एब्सोर्प्शन बढ़ाता है जिससे यह शरीर में इलेक्ट्रोसाइट्स और पीएच संतुलन को बनाएं रखता है। सेंधा नमक कई तरह की समस्याओं को ठीक करने के लिए घरेलू उपचारों में किया जाता है। सेंधा नमक में सादे नमक की तुलना में ज्यादा मिनरल पाएं जाते हैं। सेंधा नमक में 94 ट्रेस मिनरल होते हैं। जो शरीर के काफी जरूरी माने जाते हैं।

Benefits of Rock Salt

सेंधा नमक के फायदे –

  • सेंधा नमक आयुर्वेद में त्रिदोषों के वजह से उपजे रोग के उपचार में प्रयोग होता है. सेंधा नमक पित्त दोष दूर करता है.
  • सेंधा नमक ह्रदय के लिए अच्छा होता है. सेंधा नमक का सेवन डायबिटीज और ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) से बचाता है.
  • सेंधा नमक डिप्रेशन (Depression), तनाव (Stress) कम करने में मदद करता है. मांसपेशियों के खिचाव और जकड़न से राहत देता है.
  • सेंधा नमक खाने से ब्लड प्रेशर सामान्य रखता है, यह रक्त वाहिकाओं को लचीली बनाए रखता है.
  • चूँकि यह नमक एसिड-एल्कलाईन को बैलेंस करता है अतः सेंधा नमक पाचन में सहायता करता है.
  • सेंधा नमक (Rock salt) कई तरह के त्वचा रोगों से मुक्ति दिलाता है. सेंधा नमक हाथ-पैर सुन्न होने की समस्या का भी निदान करता है.
  • जिन्हें आर्थराइटिस (Arthritis) की समस्या हो, उन्हें साधारण नमक के बजाय सेंधा नमक ही प्रयोग करना चाहिए, इससे उन्हें काफी राहत मिलेगी.
  • सेंधा नमक हड्डियों और उनसे जुड़े तंतुओं को मजबूत बनाता है. जो लोग किडनी की बिमारियों (Kidney diseases) से ग्रस्त है उनके लिए भी सेंधा नमक फायदेमंद है.

ठंडक बनाए रखता है –

घर में आमतौर पर जिस नमक का इस्तेमाल होता है उसका इस्तेमाल लोग व्रत के दिनों में नहीं करते। अगर गलती से खाने में डल भी जाए तो वो उस चीज को नहीं खाते। सेंधा नमक अपने शीतल गुणों के लिए जाना जाता है क्योंकि ये आंखों के लिए काफी अच्छा होता है। यह आपके ब्लड प्रेशर के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है। इसमें आयरन, जिंक, मैग्नीशियम सहित कई अन्य खनिज शामिल हैं।

व्रत के दौरान शरीर को रखें मजबूत –

सादा नमक को सी -सॉल्ट कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि ये समुद्री नमक होता है और इसे शुद्ध या रिफाइंड करने के ल‍िए कई तरह की प्रक्रिया के बाद वास्तविक रूप यानी खाने लायक बनाया जाता है। नवरात्रि साल में दो बार ऐसे समय आती है, जब मौसम बदलने वाला होता है। इस दौरान व्रत करने से जलवायु परिवर्तन का सामना करने के लिए शरीर की इम्‍यूनि‍टी बनाए रखने में सेंधा नमक से मदद मिलती है।

Rock Salt Benefits

सेंधा नमक का शुद्धतम रूप माना जाता है। सेंधा नमक को पहाड़ी नमक या रॉक साल्ट कहा जाता है। जिस वजह से इसे पूर्ण रूप से शुद्ध माना जाता है। ये न केवल कम खारा होता है बल्कि आयोडीनयुक्त भी होता है।

सामान्‍य नमक की तुलना में फायदेमंद –

व्रत के दौरान हम काफी देर तक खाली पेट रहते हैं, सामान्‍य नमक की तुलना में सेंधा नमक हल्‍का होता है और ये पाचनतंत्र को मजबूत बनाए रखता है। इसके अलावा ये आपके इम्‍यून सिस्‍टम को भी मजबूत रखता है। ये आपके द्वारा खाए गए भोजन से आवश्यक पोषक तत्वों और खनिजों को अवशोषित करने में शरीर की सहायता करता है। शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स को बनाए रखता है जो आपको दिन भर ऊर्जावान बनाए रखने में मदद करता है।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here