Papmochani ekadashi par na kare ye kaam
Papmochani ekadashi par na kare ye kaam
ad2

पापमोचनी एकादशी चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को मनाई जाती है। इस वर्ष पापमोचनी एकादशी 28 मार्च दिन सोमवार को है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार पापमोचनी एकादशी पर (papmochani ekadashi par na kare ye kaam) भगवान विष्णु के चित्र व स्वरूप की विधि विधान से पूजन की जाती है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन व्रत करने और भगवान विष्णु की आराधना करने से जीवन काल में किए गए समस्त पापों का नाश होता है।

यह भी पढ़ें : कब है पापमोचनी एकादशी 2022, जानें कथा, महत्व और व्रत पूजा विधि

आइए जानते हैं वह कौन सी विशेष बातें हैं जिनका पापमोचनी एकादशी के दिन ध्यान रखना चाहिए और भूलकर भी यह काम (papmochani ekadashi par kya nahi karna chahiye) नहीं करना चाहिए।

  • पापमोचनी एकादशी के दिन चावल खाना वर्जित है। धार्मिक शास्त्रों के अनुसार एकादशी की तिथि में चावल खाने से मनुष्य रेंगने वाले जीव की योनि में जन्म लेता है। एकादशी तिथि के दिन चावल खाने से पाप लगता है इसलिए इस दिन भूलकर भी चावल नहीं खाने चाहिए।
  • एकादशी के दिन मांस मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए बल्कि सात्विक भोजन ग्रहण करना चाहिए। पापमोचनी एकादशी भगवान विष्णु की आराधना का शुभ दिन होता है, इस दिन यदि आप व्रत कर रहे हैं तो व्यवहार में संयम और सात्विकता का पालन करें।
  • इस दिन पति पत्नी को ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए और शारीरिक संबंध नहीं बनाने चाहिए। यदि आप पापमोचनी एकादशी का व्रत नहीं कर रहे हैं तो भी इस बात का विशेष ध्यान रखें और ब्रह्मचर्य का पालन करें। यह दिन भगवान विष्णु को समर्पित करें और विष्णु का ही गुणगान करते रहे।
  • पापमोचनी एकादशी वाले दिन बाल और नाखून नहीं कटवाने चाहिए अथवा दाढ़ी नहीं बनानी चाहिए। इस बात का पालन घर के सभी सदस्यों को करना चाहिए, चाहे वे एकादशी का व्रत कर रहे हो या नहीं कर रहे हो।
Papmochani ekadashi par na kare ye kaam
Papmochani ekadashi par na kare ye kaam
  • एकादशी वाले दिन घर की साफ सफाई ना करें (papmochani ekadashi par kya nahi karna chahiye) क्योंकि झाड़ू या पोंछा लगाने से सूक्ष्मजीव मर जाते हैं जिससे व्यक्ति को जीव हत्या का पाप लगता है। इसलिए एक दिन पहले ही घर की साफ सफाई कर ले।
  • पापमोचनी एकादशी वाले दिन साबुन शैंपू या सर्फ़ का उपयोग करने की मनाही होती है। यदि आप व्रत कर रहे हैं तो इस बात का विशेष ध्यान रखें कि इन चीजों का उपयोग बिल्कुल ना करें।
  • एकादशी वाले दिन जो व्यक्ति व्रत रखते हैं उन्हें तामसिक भोजन नहीं खाना चाहिए। इसके अलावा बैंगन, मूली, सेम, मसूर की दाल, और पान नहीं खाना चाहिए।
  • एकादशी की तिथि बहुत ही शुभ मानी जाती है और पापमोचनी एकादशी साल भर की 24 एकादशीओं में सबसे शुभ होती है। इस दिन कठोर शब्द नहीं कहना चाहिए और लड़ाई झगड़ा करने से भी बचना चाहिए। दूसरों के बारे में गलत विचार मन में नहीं आने दे, अपने मन को प्रसन्न रखें और भगवान विष्णु की भक्ति में लीन रहे।

यह भी पढ़ें – कब है शीतला अष्टमी 2022, जानिए शुभ मुहूर्त पूजन विधि, कथा और महत्त्व

  • पापमोचनी एकादशी का व्रत करने वाले भक्तों को सुबह जल्दी उठकर स्नानादि करने के पश्चात भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए। एकादशी वाले दिन सुबह देर तक नहीं सोना चाहिए (papmochani ekadashi par na kare ye kaam) और शाम के वक्त भी नहीं सोना चाहिए। इसके अलावा क्रोध करने और झूठ बोलने से भी बचना चाहिए।
  • जो व्यक्ति पापमोचनी एकादशी का व्रत रखने वाले हैं उन्हें इस दिन दातून नहीं करनी चाहिए। शास्त्रों में एकादशी के दिन किसी पेड़ की टहनी से पत्ता तोड़ना वर्जित है। इसलिए इस दिन ना तो किसी पेड़ से पत्ता तोड़ें और ना ही दातून का इस्तेमाल करें।

ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए कृप्या आप हमारे फेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम और यूट्यूब चैनल से जुड़िये ! इसके साथ ही गूगल न्यूज़ पर भी फॉलो करें !

Previous articleमोबाइल चार्जर की केबल से पति ने पत्नी का गला घोंटा, फिर की ख़ुदकुशी, वजह जानकर चौंक जायेंगे
Next articleमसाला काजू नमकपारा बनाने की विधि | Kaju Namakpara Recipe
Avatar
I am a freelance content writer. I write articles related to women's lifestyle, health, beauty, and wellness in both English and Hindi language. It is my pleasure and I love to share my thoughts with you through writing.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here