निर्जला एकादशी का व्रत करने वालों को ध्यान रखनी चाहिए 10 बातें

हिंदू पंचांग के अनुसार वर्ष में 24 एकादशियां आती हैं। लेकिन अधिकमास की एकादशियों को मिलाकर इनकी संख्या 26 हो जाती है। सभी एकादशियों पर हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले भगवान विष्णु की पूजा करते हैं व उपवास रखते हैं। मान्यता है कि इस दिन व्रत रखने, पूजा और दान करने से व्रती जीवन में सुख-समृद्धि का भोग करते हुए अंत समय में मोक्ष को प्राप्त होता है। लेकिन इन सभी एकादशियों में से एक ऐसी एकादशी भी है जिसमें व्रत रखकर साल भर की एकादशियों जितना पुण्य कमाया जा सकता है। यह है ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी। इसे निर्जला एकादशी कहा जाता है। आइये जानते हैं कैसे है यह अन्य एकादशियों से श्रेष्ठ और क्यों कहते हैं इसे निर्जला एकादशी। Nirjala Ekadashi 2019

गुरुवार, 13 जून को साल की सबसे बड़ी निर्जला एकादशी है। हिन्दी पंचांग के अनुसार ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी का काफी अधिक महत्व है। इसे भीमसेनी एकादशी भी कहा जाता है। मान्यता है कि महाभारत काल में पांडव पुत्र भीम ने भी ये व्रत किया था, इसीलिए इसे भीमसेनी एकादशी कहते हैं। इस दिन भगवान विष्णु के लिए विशेष पूजा पाठ की जाती है। व्रत रखा जाता है। इस एकादशी पर व्रत करने वाले भक्त को कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।

निर्जला एकादशी से जुड़ी खास बातें :

Nirjala Ekadashi 2019

1. व्रत करने वाले व्यक्ति को निर्जला एकादशी की तैयारियां एक दिन पहले से ही कर लेनी चाहिए। दशमी तिथि पर सात्विक भोजन करना चाहिए।

2. भक्त को ब्रह्मचर्य का पालन अनिवार्य रूप से करना चाहिए। साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें।

3. स्नान के समय सभी पवित्र नदियों के नामों का जाप करें। ऐसा करने से घर पर ही गंगा स्नान का पुण्य मिल सकता है।

4. स्नान के बाद भगवान विष्णु के सामने व्रत करने का संकल्प करें। भगवान के सामने कहें कि आप ये व्रत करना चाहते हैं और इसे पूरा करने की शक्ति प्रदान करें।

5. भगवान विष्णु को पीले फल, पीले फूल, पीले पकवान का भोग लगाएं। दीपक जलाकर आरती करें। ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप करें। विधिवत पूजा करें।

6. इस एकादशी पर पानी का दान करें। किसी प्याऊ में मटकी का दान करें। अगर संभव हो सके तो किसी गौशाला में धन का दान करें।

7. इस एकादशी की शाम तुलसी की भी विशेष पूजा जरूर करनी चाहिए। शाम को तुलसी के पास दीपक जलाएं और परिक्रमा करें।

8. अगले दिन यानी द्वादशी तिथि पर ब्राह्मण और जरूरतमंद लोगों को खाना खिलाएं। पूजा-पाठ करें। इसके बाद ही भोजन ग्रहण करना चाहिए।

9. निर्जला एकादशी पर व्रत करने वाले अधिकतर लोग पानी भी नहीं पीते हैं। अगर आपके लिए ये संभव न हो तो फलों का रस, पानी, दूध, फलाहार का सेवन कर सकते हैं। अपने शक्ति के अनुसार व्रत किया जा सकता है।

10. भक्त को एकादशी पर धार्मिक आचरण रखना चाहिए। क्रोध न करें। घर में शांति का वातावरण रखें। माता-पिता से आशीर्वाद लें और जीवन साथी का सम्मान करें।

Share
Lovely

Content Writer in Aakrati.in

Recent Posts

अब कोई चाय पीने से आपको रोके तो ये खबर उसे ज़रूर पढ़ाएं

नियमित रूप से चाय पीने वाले लोगों के दिमाग का प्रत्येक हिस्सा चाय नहीं पीने वालों की तुलना में बेहतर… Read More

September 2, 2019

नूर जहानी कोफ्ता बनाने की विधि

नूर जहानी कोफ्ता एक वेजिटेरियन रेसिपी है जो कि अवध की रसोईं से आई है। यह एक बहुत ही क्रीमी… Read More

September 1, 2019

गणेशोत्सव 2019 : ‘बप्पा मोरया’ के घर आगमन पर इन 10 बातों का रखें ध्यान

प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी 2 सितंबर, सोमवार से गौरी-पुत्र श्री गणेश जी हमारे मध्य पूरे दस दिनों के लिए विराजमान… Read More

August 30, 2019

हरतालिका तीज पर डायबिटीज के मरीज व्रत रखने से पहले ये 7 बातें जान लें

हिन्दु धर्म की मान्यताओं में सुहागिन महिलाओं का मुख्य व्रत हरितालिका तीज माना जाता है।हरतालिका तीज व्रत भाद्रपद शुक्ल पक्ष… Read More

August 29, 2019

हरे धनिया की खस्ता मठरी बनाने की विधि

हरे धनिये की खस्ता मसाला मठरी साधारण मठरी के मुकाबले बहुत ही स्वादिष्ट बनती है, साधारण मठरी सिर्फ अजवायन डालकर… Read More

August 28, 2019

आलू के छिलकों में भी छिपे है सेहत और सौंदर्य के गुण, जाने इसे खाने या लगाने के फायदे

आलू ऐसी सब्जी है जिसका इस्‍तेमाल तकरीबन हर सब्‍जी में होता है। आलू से बनी हर चीज खाने में जायकेदार… Read More

August 27, 2019