अगर आप पर भी है भगवान शनि देव की साढ़ेसाती, तो करें ये उपाय

0
105

हेल्लो दोस्तों शनि हर राशि पर भ्रमण के दौरान एक विशेष तरह का प्रभाव डालता है. जब यह प्रभाव किसी राशि के ऊपर शनि की विशेष स्थितियों के कारण पड़ता है तो इसको साढ़ेसाती कहते हैं. शनि जब भी किसी राशि से बारहवें रहता है, उसी राशि में रहता है या उस राशि से दूसरे रहता है तो उस राशि पर साढ़ेसाती चलने लगती है. शनि एक राशि पर ढाई वर्ष रहता है और एक साथ तीन बार किसी राशि को प्रभावित करता है. ढाई-ढाई वर्षों का तीन चरण साढ़ेसात साल तक साढ़ेसाती के रूप में चलता है. Shani Sadesati Ke Upay

शनिवार को लोहा या लोहे से बनी वास्तु घर में लेकर न आएं इससे शनि का अशुभ प्रभाव पड़ता है इसका उदाहरण राजा विक्रमादित्य से लिया जा सकता है जिन्होंने शनिवार के दिन शनि भगवान को लोहे का आसन दिया था जिसके चलते शनि देव राजा से बहुत ज्यादा क्रोधित हुए थे।

ये भी पढ़िए : साल 2020 में किन राशियों पर रहेगी शनि की मेहरबानी और किन पर होगी…

क्या है शनि की ढैया?

राशियों पर भ्रमण के दौरान जब शनि किसी राशि से चतुर्थ भाव या अष्टम भाव में आता है तो इसको शनि की ढैया कहा जाता है. यह शनि के एक राशि पर भ्रमण के दौरान ही रहता है यानि कि ढाई साल तक इसीलिए इसको ढैया कहा जाता है.

शनिवार का दिन भगवान शनि देव जी को अर्पित होता है। माना जाता के भगवान शनि देव जी इस दिन अपने भक्तों पर कृपा दृष्टि करते है और उनकी सभी मनोकामना पूरी करते है। शनिवार के दिन अगर भगवान शनि देव जी के साथ साथ भगवान हनुमान जी की पूजा की जाये तो अधिक लाभ प्राप्त होता है। भगवान शनि देव जी कृपा से व्यक्ति धनवान हो जाता है और भगवान हनुमान जी की कृपा से व्यक्ति के सभी दुश्मन ख़त्म हो जाते है। भगवान शनि देव जी की लाभकारी दृष्टि और उनका आशीर्वाद पाने के लिए शनिवार के दिन आप भी करे ये कुछ सरल उपाए।

Shani Sade Sati 2020
Shani Sade Sati 2020

पीपल की परिक्रमा :

  • भगवान शनि देव बड़े ही दयालु हैं। जो भी भक्त उनको सच्चे मन से याद करता है शनिदेव उनको अपना आशीर्वाद प्रदान करते हैं। अगर आपको शनि देव की साढ़ेसाती और ढैय्या या कोई अन्य दोष हो तो शनिवार को पीपल के पेड़ के नीचे दोनों हाथों से स्पर्श करके पीपल के पेड़ की सात परिक्रमा करें। यह आप हर शनिवार करेंगे तो ज्यादा अच्छा रहेगा। याद रहें कि पीपल की परिक्रमा के दौरान आप “ॐ शं शनैश्चराय नमः” का जप अवश्य करें।

नौकरी के लिए :

शनिवार को शनि देव के साथ ही भगवान हनुमानजी की भी पूजा करें। शनिवार की शाम को मछलियों को दाना डालें तथा चीटियों को आटा खिलाए। इससे शनि देव व हनुमानजी की कृपा से आपके भाग्य खुल जाएंगे। अगर आप पर कोई कर्ज हो या नौकरी में उन्नति नही हो रही हैं तो हर शनिवार को यह टोटका जरूर करें। इसका असर आपको जल्द ही देखने को मिलेगा।

ये भी पढ़िए : शनिवार को किए ये 8 काम, घर में बनाए रखते हैं सुख-शांति

बनेंगे बिगड़े काम :

इस दिन शनि देव के साथ ही हनुमानजी के नाम पर भी रहता हैं। शनिवार के दिन आप दोनों भगवान के नाम का एकासना करें। शनिवार शाम को आप एकासना तोड़ने से पहले एक रोटी लें और उसे अपने सामने रखकर अपनी इच्छा और मनोकामना करें। जब आप यह करें तब रोटी साफ बर्तन में आपके सामने रखें। अपनी मनोकामना कहने के बाद उस रोटी को किसी भी काले कुत्ते या काली गाय को खिला दें। यह टोटका करने से आपके सारे बिगड़े काम सवरने लग जाएंगे और अटका हुआ धन आने लगेगा।

दान करें :

शनिवार के दिन भगवान शनि देव को तेल चढ़ाना चाहिए और हनुमानजी के समक्ष तेल का दीपक करना चाहिए। शनिवार के दिन यह दोनों काम करने के बाद आप एक टोटका यह करें कि आप काली चीजों का दान करें। जैसे कि उड़द की दाल, काला कपड़ा, काले तिल और काले चने किसी भी गरीब व्यक्ति को दान में दें। यह टोटका करने से आप पर शनि देव व हनुमानजी की कृपा बनी रहेगी। फिर आपका कितना भी बड़ा दुश्मन क्यों ना हो वह अपने आप ही आपसे दुश्मनी खत्म कर लेगा।

Shani Sadesati Ke Upay

शनिवार को ना करें इन चीजों की खरीदारी :

  • तेल : शनिवार के दिन तेल की खरीदारी नहीं करनी चाहिए. इस दिन तेल की खरीदारी घर में शारीरिक कष्ट और बीमारियां आती हैं.
  • लोहा : शनिवार को भूलकर भी लोहे की चीजें ना खरीदें. इससे शनिदेव नाराज होते हैं और साढ़ेसाती या ढैय्या का समय शुरू हो सकता है.
  • कोयला : इन दिन कोयले की खरीदारी भी मना है. घर में इस दिन किसी भी प्रकार का इंधन नहीं लाना चाहिए. क्योंकि इससे बुरा समय शुरू हो जाता है.
  • चमड़ा : शनिवार को चमड़ा या चमड़े की कोई भी बनी हुई वस्तु जैसे जूते, बेल्ट, पर्स, इत्यादि नहीं खरीदनी चाहिए. यह खरीदने पर, आपकी सफलता मे रुकावट आ सकती है.
  • झाडू : शनिवार के दिन झाड़ू खरीदने से घर मेंं आर्थिक हानि होती है.
  • काला तिल : शनिवार को काले तिल का खरीदना भी वर्जित किया गया है. शनि दशा में काले तिल का दान विशेष महत्व रखता है, किंतु शनिवार को घर में काले तिल का आगमन शनि देव के आगमन के समान हो सकता है.
  • नमक : शनिवार को नमक खरीदने से भी परहेज करना चाहिए.शनिवार को खरीदा गया नमक, घर में बीमारी ला सकता है. इससे कर्ज भी बढ़ता है.
  • स्याही : शनिवार को स्याही नहीं खरीदनी चाहिए.यह आपको अपयश या कलंक दिला सकती है. स्याही किसी प्रकार की भी हो ना खरीदें. पेन, पेंसिल, कलर आदि की खरीदारी इस दिन ना करें.

ये भी पढ़िए : जानिए आखिर क्या है इंसुलिन और कैसे किया जाता है इसका सही उपयोग ?

ये काम करना होता है शुभ :

  1. शनिवार के दिन झाड़ू खरीदना शुभ माना जाता है। इस दिन नया झाड़ू घर में लाने से शनि दोष दूर हो जाता है।
  2. इस दिन जूतों का दान जरूर करें। इस दिन जूतों का दान करने से शनि ग्रह शांत रहता है।
  3. इस दिन गरीब लोगों को तला हुआ भोजन करवाएं।
  4. शनिवार के दिन सरसों के तेल का दान करें और शनिदेव की पूजा करते हुए तिल के तेल का दीपक भी जरूर जलाएं।
  5. इस दिन काले रंग के कपड़े पहनें। हालांकि इस रंग के कपड़े इस दिन न खरीदें।
  6. शनिवार को शनिदेव के साथ-साथ हनुमान जी की पूजा भी करें। एक कथा के अनुसार इस दिन हनुमान जी की पूजा करने से और उन्हें सरसों का तेल अर्पित करने से शनिदेव प्रसन्न हो जाते हैं। यहीं वजह है कि शनिदेव के मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति भी होती है।
  7. लाहे की धातु शनिदेव से जुड़ी होती है। ऐसा माना जाता है कि अगर शनिवार को लोहे की धातु का दान किया जाता है, तो शनि दोष दूर हो जाता है। वहीं शनिदेव को अगर लोहे की धातु अर्पित की जाए तो शनिदेव प्रसन्न हो जाते हैं।

अस्वीकरण : आकृति.इन साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here