Bada Mangal Vrat
Bada Mangal Vrat

कब है दूसरा बड़ा मंगल, ज्येष्ठ माह का दूसरा बड़ा मंगल, बुढ़वा मंगल, Bada Mangal Vrat 2022, Second Bada Mangal Vrat, Second Bada Mangal 2022, Bada Mangal Kyu Manaya Jata Hai, Bada Mangalwar 2022, Bada Mangalwar Vrat, Jyestha Bada Mangal 2022, Budhwa Mangal 2022,

हेल्लो दोस्तों ज्येष्ठ माह में पड़ने वाले मंगलवार को बड़ा मंगल कहा जाता है. इस साल ज्येष्ठ में कुल पांच बड़े मंगल पड़ रहे हैं, जिनमे से दूसरा बड़ा मंगल 24 मई को है. शास्त्रों में इस महीने (ज्येष्ठ माह) में हनुमान जी की पूजा का विशेष महत्व बताया गया है. बड़ा मंगल के दिन हनुमान की पूजा-अर्चना से व्यक्ति के जीवन की तमाम मुश्किलें और कष्ट दूर हो जाते हैं. इसे बुढ़वा मंगल के के नाम से भी जाना जाता है. इस दिन भगवान हनुमान जी से जो कुछ भी मांगा जाए वह उसे अवश्य पूरा करते हैं। भगवान शिव के 11वें अवतार हनुमान जी को अमर रहने का वरदान मिला था।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार हनुमान जी कलयुग का देवता माना गया है क्योंकि हनुमान जी अपने भक्तों को शीघ्र फल प्रदान करते हैं। मान्यता के अनुसार हनुमान जी की आराधना करते समय नियम, संयम का पालन करना बहुत जरूरी है। इनकी अराधना करने में किसी भी प्रकार की लापरवाही नहीं करनी चाहिए। भगवान राम को सभी संकट से दूर रखने के लिए इन्हें संकटमोचक भी कहा जाता है। हनुमान के अनेक रूप है उनमें से एक ‘वज्र रूप’ है। वज्र रूप वाले हनुमान जी को बजरंगबली कहा जाता है। आज बड़े मंगलवार पर हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए बजरंग बाण का पाठ करना चाहिए। इस दिन भक्तों के लिए लंगर और भंडारे की भी व्यवस्था की जाती है।

यह भी पढ़ें – आखिर क्यों ज्येष्ठ मास के हर मंगलवार को कहा जाता है बड़ा मंगल

दूसरे बड़े मंगल पर ऐसे करें पूजन :

इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान कर सूर्य को अर्घ्य देकर स्वच्छ वस्त्र धारण कर लें।
इसके बाद पूजा स्थान पर हनुमान जी की मूर्ति या तस्वीर को स्थापित कर दें।
अब उनको लाल पुष्प, सिंदूर, रोली, अक्षत्, धूप, दीप आदि अर्पित करें और लड्डू का भोग लगाएं।
इसके बाद पवित्र और शांत वातावरण में बजरंग बाण का पाठ करें।
इसके बाद हनुमान जी की आरती पूरी श्रद्धा कर साथ करें। हनुमान जी के अनुष्ठान में दीपदान का विशेष महत्व होता है।

क्यों कहते हैं बड़ा मंगल :

ज्येष्ठ मास के इस मंगलवार को हनुमान जी को अमरत्व का वरदान मिला था, इसी कारण ज्येष्ठ के मंगल को बड़ा मंगल और बूढ़वा मंगल कहते हैं। उत्तरप्रदेश में ज्येष्ठ मास में आने वाले हर मंगलवार को बहुत ही शुभ माना जाता है उनमें भी पहले आने वाले मंगलवार को विशेष मान कर पूजा-अर्चना की जाती है। वैसे तो पूरे ज्येष्ठ मास में हनुमान मंदिर सजे रहते हैं और हर मंगलवार को जगह-जगह पर भंडारे लगते हैं पर बड़ा मंगलवार की बात खास है। यह दिन केवल एक ही धर्म का परिचायक नहीं है बल्कि सर्वधर्म एकता का प्रतीक है। ज्योतिषियों के मुताबिक, बड़े मंगल पर इन गलतियां का होना बड़ा ही अशुभ होता है.

Second Bada Mangal Vrat

बड़े मंगल पर भूलकर भी ना करें ये काम, होता है अशुभ

  1. बड़े मंगल के दिन रुपया-पैसा उधार देने से बचना चाहिए. ऐसा कहा जाता है कि बड़े मंगल के दिन उधार में दिया धन अनेक मुश्किलों का सामना करने के बाद बड़ी मुश्किल से वापस आता है. 
  2. बड़े मंगलवार पर उत्तर और पश्चिम दिशा में यात्रा करना अशुभ माना जाता है अर्थात इस दिन इन दिशाओं में यात्रा करने से भी बचना चाहिए. इसके बावजूद यदि यात्रा करना बहुत ही आवश्यक है तो यात्रा पर जाने से पहले गुड़ अवश्य खाएं.
  3. बड़े मंगल के दिन शुक्र और शनि ग्रह से संबंधित रंग के वस्त्र पहनने से बचना चाहिए.
  4. इस दिन क्रोध करने या किसी व्यक्ति को अपशब्द भी नहीं कहने चाहिए.
  5. बड़े मंगल पर नमक, अंडा या मांस-मदिरा के सेवन की मनाही होती है. ऐसा करने से हनुमान जी नाराज होते हैं.

बड़े मंगलवार के दिन क्या करें :

  1. इस दिन बजरंग बाण का पाठ करने से ह्रदय और ब्लड प्रेशर रोगियों को स्वास्थ्य लाभ मिलता है।
  2. बड़े मंगलवार पर हनुमान मंदिर में रसीला पान चढ़ाएं।
  3. बड़े मंगलवार के दिन लाल परिधान छोटे बच्चों को दें और स्वयं भी खरीदें।
  4. लाल अनाज लाल वस्त्र में दक्षिणा के साथ लपेटकर हनुमान मंदिर में चढ़ाएं।
  5. बड़े मंगलवार पर लाल शर्बत बंटवाएं।
  6. बच्चों में लाल रंग के फल बांटें।
  7. नियमित रूप से बजरंग बाण का पाठ करने से आत्म-विश्वास और साहस में वृद्धि होती है।
  8. अगर कार्य में बाधा उत्पन्न हो रही है, तो शनिवार के दिन 21 बार बजरंग बाण का पाठ करें।

रिलेटेड पोस्ट :

ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए कृप्या आप हमारे फेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम और यूट्यूब चैनल से जुड़िये ! इसके साथ ही गूगल न्यूज़ पर भी फॉलो करें !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here