Sawan Me Na Kare Ye Galtiya
Sawan Me Na Kare Ye Galtiya
ad2

Sawan Me Na Kare Ye Galtiya – हेलो फ्रेंड्स , सावन का महीना भगवान भोलेनाथ को बहुत ही प्रिय होता है। शास्त्रों में कहा गया है कि अन्य दिनों की अपेक्षा सावन के महीने में भगवान शिव जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं। वैसे तो प्रत्येक सोमवार भगवान शिव की उपासना के लिये उपयुक्त माना जाता है लेकिन सावन के सोमवार का अलग ही महत्त्व होता है।

यह भी पढ़े – कब है गुरु पूर्णिमा? जानिए शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, कथा और महत्व

इस साल सावन का महीना 14 जुलाई से शुरू होगा और 12 अगस्त तक चलेगा. सावन के महीने में भोलेनाथ की पूजा का विशेष महत्व बताया गया है. ऐसा कहते हैं इस महीने शिवजी की पूजा करने से जीवन की हर बाधा दूर हो सकती है.

इस महीने में शिवलिंग पर जल अभिषेक करने से कई गुणा फायदा मिलता है। पूजा के दौरान कई बार कुछ गलतियां कर बैठते हैं ऐसे में भगवान शिव की आराधना करते समय विशेष सावधानी बरतनी चाहिए।

Sawan Me Na Kare Ye Galtiya
Sawan Me Na Kare Ye Galtiya

1. सावन के महीने में सात्विक भोजन करना चाहिए। सावन का महीना भगवान शिव को बहुत ही प्रिय होता है। इस कारण मांस, मदिरा, प्याज और लहसुन का सेवन बंद कर देना चाहिए। 

2. इस महीने में हरी पत्तेदार सब्जियों को नहीं खाना चाहिए। क्योंकि सावन में हरी सब्जियों में पित्त बढ़ाने वाले तत्व की मात्रा बढ़ जाती है। इसके अलावा सावन के महीने में कीट-पतंगों की संख्या बढ़ जाती है जो सेहत के लिए हानिकारक होते हैं।

यह भी पढ़ें – कब से शुरू हो रहे हैं चातुर्मास 2022, जानिए चार माह की अवधि में क्या करें और क्या न करें

3. पूजा के वक्त शिवलिंग पर कुछ खास चीजें चढ़ाने से बचना चाहिए. शिवलिंग पुरुष तत्व से संबंधित है तो उस पर हल्दी नहीं चढ़ानी चाहिए. भोलेनाथ को बेलपत्र, भांग और धतूरा बहुत पसंद है.

4. सावन के महीनों में दूध का सेवन कम करना चाहिए। सावन में शिव जी का दूध से अभिषेक करने की परंपरा शुरू हुई। वैज्ञानिक मत के अनुसार इन दिनों दूध पित्त बढ़ाने का काम करता है।

Sawan Me Na Kare Ye Galtiya
Sawan Me Na Kare Ye Galtiya

5. इस माह में बैंगन खाना अच्छा नहीं माना गया है। बैंगन को शास्त्रों में अशुद्ध कहा गया है। सावन में बैंगन में कीड़े अधिक लगते हैं। ऐसे में बैंगन का स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

6. श्रावण मास में गलती से भी शरीर पर तेल न लगाएं. सावन में तेल का दान किया जाता है. इसलिए इसे शरीर में लगाना अशुभ माना जाता है. ऐसा करने से भगवान शिव नाराज हो जाते हैं.

7. इस पवित्र महीने में किसी का अपमान न करें और बुरे विचार मन में ना लाएं. खासतौर से गुरु, जीवनसाथी, माता-पिता, मित्र और द्वार पर आए लोगों का अपमान नहीं करना चाहिए. 

यह भी पढ़े – सावन में सोमवार को ही क्यों रखा जाता है व्रत? जानिये व्रत की कथा और विधि

8. इस महीने अगर घर के दरवाजे पर सांड या गाय आ आए तो उसे मार कर भगाने की बजाय कुछ खाने को दें। सांड को मारना शिवजी की सवारी नंदी का अपमान माना जाता है।

9. इस महीने भगवान शिव या शिवलिंग को केतकी अर्पित ना करें. इस महीने दिन के वक्त सोने से बचना चाहिए.

ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए कृप्या आप हमारे फेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम और यूट्यूब चैनल से जुड़िये ! इसके साथ ही गूगल न्यूज़ पर भी फॉलो करें !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here