तिथि के अनुसार किसका कब होता है पितृ/श्राद्ध पक्ष

0
13

हिंदू धर्म कैलेंडर के अनुसार भाद्रपद की पूर्णिमा से पितृ पक्ष या श्राद्ध पक्ष 2020 की शुरुआत होगी। वहीं अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार पितृपक्ष 1 सितंबर 2020 से शुरू होकर 17 सितंबर सर्वपितृ अमावस्या 2020 तक जारी रहेगा। हर वर्ष 16 दिनों की इस अवधि के दौरान लोग अपने पितृ अर्थात पूर्वजों को याद करते है और उनके लिए पिंडदान करते हैं। वैदिक काल और उसके भी पहले हमारे ऋषि मुनियों ने पितृ और उनकी शांति के लिए पूजा पाठ और अनुष्ठान के नियम तय कर दिए थे। Pitru Paksha Niyam

ये भी पढ़िए : 99% लोग नही जानते हिन्दू धर्म में अगरबत्ती जलाना क्यों है मना, जानिए वजह

पितृ/श्राद्ध पक्ष की तिथियां :

  • प्रथम दिन – पितृ पक्ष पूर्णिमा (1 सितंबर – पूर्णिमा श्राद्ध)
  • दूसरा दिन – प्रतिपदा श्राद्ध (2 सितंबर – प्रतिपदा श्राद्ध)
  • तीसरा दिन – द्वितीया श्राद्ध या दूज श्राद्ध (3 सितंबर – द्वितीया श्राद्ध)
  • चौथा दिन – तृतीया श्राद्ध (5 सितंबर – तृतीया श्राद्ध)
  • पांचवां दिन – चतुर्थी श्राद्ध या चौथा श्राद्ध (6 सितंबर – चतुर्थी श्राद्ध)
  • छठा दिन – पंचमी श्राद्ध या कुंवारी पंचमी (7 सितंबर – पंचमी श्राद्ध)
  • सातवां दिन – षष्ठी श्राद्ध (8 सितंबर – षष्ठी श्राद्ध)
  • आठवां दिन – सप्तमी श्राद्ध (9 सितंबर – सप्तमी श्राद्ध)
  • नौवां दिन – अष्टमी श्राद्ध (10 सितंबर – अष्टमी श्राद्ध)
  • दसवां दिन – नवमी श्राद्ध (11 सितंबर – नवमी या सौभाग्यवतियों का श्राद्ध)
  • ग्यारहवां दिन – दशमी श्राद्ध (12 सितंबर – दशमी श्राद्ध)
  • बारहवां दिन – एकादशी श्राद्ध (13 सितंबर – एकादशी श्राद्ध)
  • तेरहवां दिन – द्वादशी श्राद्ध (14 सितंबर – द्वादशी श्राद्ध)
  • चौदहवां दिन – त्रयोदशी श्राद्ध (15 सितंबर त्रयोदशी श्राद्ध)
  • पंद्रहवा दिन – चतुर्दशी श्राद्ध ( 16 सितंबर – चतुर्दशी श्राद्ध)
  • सोलहवां दिन – अमावस्या श्राद्ध या सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या (17 सितंबर – प्रतिपदा श्राद्ध)
Pitru Paksha 2020
Pitru Paksha Niyam

यह वह समय होता है जब पित्तरों का तर्पण और श्राद्ध कर्म किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार पित्तरों का श्राद्ध उनकी मृत्यु तिथि पर ही करना चाहिए और यदि आप उनकी मृत्यु तिथि नहीं जानते तो आप उनका श्राद्ध किस तिथि को कर सकते हैं। इसके अलावा घर की सुहागन स्त्रियों का श्राद्ध किस तिथि पर करें। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपको अपने पित्तरों का श्राद्ध किस तिथि पर करना चाहिए और किसी तिथि पर नहीं करना चाहिए। अगर नहीं तो आज हम आपको इसके बारे में बताएंगे तो चलिए जानते हैं पितृ पक्ष में कब करें किसका श्राद्ध।

घर पर श्राद्ध कर्म करने की सरल विधि :

  • सुबह स्नान के बाद घर की साफ-सफाई करें। पुरे घर में गंगाजल और गौमूत्र छिड़के।
  • श्राद्ध कर्म में दूध, गंगाजल, शहद, सफेद कपड़े, जौ और तिल मुख्य रूप से महत्वपूर्ण है।
  • दक्षिण दिशा कि तरफ मुंह करे और बांए पैर को मोड़कर कर बैठ जाएं। इसके बाद तांबे के बर्तन में तिल, जौ, दूध, गंगाजल, थोड़े पुष्प और स्वच्छ जल रखे। उस जल को हाथों में भरकर सीधे हाथ के अंगूठे से उसी बर्तन में गिरा दे। पितरों को स्मरण करते हुए ऐसा लगतार 11 बार करें।
  • पितरों के लिए सात्विक भोजन बनाएं। ब्राह्मण, घर की स्वासिनी (बहन बेटी) को न्यौता देकर बुलाएं।
  • पितरों के निमित्त बनी खीर को अग्नि में अर्पण करें। ब्राह्मण भोज से पहले गाय, कुत्ते, कौए, देवता और चींटी के लिए भोजन सामग्री निकाल ले। पितृपक्ष के दौरान जो भी भोजन बनाएं उसमें से एक हिस्स पितरों के नाम से निकालकर गाय या कुत्ते को खिला दें।
  • श्रद्धानुसार एक या तीन ब्राह्मणों को प्रसन्न होकर भोजन कराएं।
  • भोजन के उपरांत वस्त्र, दक्षिणा आदि सामग्री ब्राह्मण को प्रणाम कर दे। ब्राह्मण वैदिक पाठ करें और गृहस्थ एवं पितर के प्रति शुभकामनाएं दें।
  • श्राद्ध कर्म के दिन व्रत रहकर भोजन बनाकर ब्राह्मणों, बहन-बेटी को खिलाने के बाद ही भोजन करें।
  • पितरों की शांति के लिए प्रतिदिन एक माला “ऊं पितृ देवताभ्यो नम:” की करें और “ऊं नमो भगवते वासुदेवाय नम:” का जाप करते रहें। भगवद्गीता या भागवत का पाठ भी कर सकते हैं।

ये भी पढ़िए : भूलकर भी तुलसी के पौधे के पास ना रखें ये चीज़ें, होगा भरी नुक्सान

यदि आप भी इसके बारे में जानना चाहते हैं तो हम आपको श्राद्ध पक्ष की प्रत्येक तिथि का महत्व बताएंगे और साथ ही यह भी बताएंगे कि आप पितृ पक्ष में आप कौन सी तिथि पर किसका श्राद्ध कर सकते हैं।

पितृ पक्ष में कब करें किसका श्राद्ध :

हर साल पितृपक्ष मे हमारे पितर धरती पर आते हैं और उनकी सेवा की जाती है। आमतौर पर किसी व्यक्ति की मृत्यु जिस तिथि पर होती है, पितृ पक्ष में उसी तिथि पर श्राद्ध कर्म किए जाते हैं। पर कुछ स्थिति में पितृ पक्ष में किस तिथि पर किसका श्राद्ध होता है, आइए विस्तार से उनके बारे में जानते हैं-

Pitru Paksha 2020
Pitru Paksha Niyam

पूर्णिमा का श्राद्ध :

किसी व्यक्ति की मृत्यु पूर्णिमा को हो तो उसका श्राद्ध भाद्र पूर्णिमा को करना चाहिए। दादा-दादी, परदादी का श्राद्ध भी भाद्र पूर्णिमा को करना चाहिए। अगर आप अपने दिवंगत लोगो की मृत्यु तिथि के बारे में नहीं जानते तो आप उनका श्राद्ध सर्वपितृ अमावस्या के दिन कर सकते हैं।

भरणी का श्राद्ध :

कई लोग अपने जीवन में कोई भी तीर्थयात्रा नहीं कर पाते है। ऐसे लोगों की मृत्यु होने पर उन्हें मातृगया, पितृगया, पुष्कर तीर्थ और बद्रीकेदार आदि तीर्थों पर किए गए श्राद्ध का फल मिले, इसके लिए भरणी श्राद्ध किया जाता है। यह श्राद्ध करने से गया श्राद्ध करने जितना महत्व है। भरणी श्राद्ध पितृपक्ष मे भरणी नक्षत्र के दिन किया जाता है।

ये भी पढ़िए : रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के आसान उपाय

अविवाहित व्यक्ति का श्राद्ध :

अगर किसी अविवाहित व्यक्ति की मृत्यु हो गई है तो उसका श्राद्ध पंचमी तिथि पर करना चाहिए। इस साल 07 सितंबर दिन सोमवार को अविवाहित व्यक्ति का श्राद्ध किया जाएगा।

नवमी का श्राद्ध :

घर की सौभाग्यवती स्त्रियों यानी पति के जीवित रहते ही मरने वाली सुहागन स्त्रियों का श्राद्ध केवल पितृ पक्ष की नवमी तिथि को ही करना चाहिए।चाहें उनकी मृत्यु किसी भी तिथि को क्यों न हुई हो। इसके अलावा नाना या नानी का श्राद्ध भी केवल पितृ पक्ष की प्रतिपदा तिथि को ही करना चाहिए। और संन्यासियों का श्राद्ध पार्वण पद्धति से द्वादशी में किया जाता है, भले ही इनकी मृत्यु तिथि कोई भी क्यों न हो।

Pitru Paksha 2020
Pitru Paksha 2020

मघा का श्राद्ध :

जिनके जन्म कुंडली में पितृदोष के कारण घर परिवार में और पति पत्नी में क्लेश अशांति हो, मघा नक्षत्र मे श्राद्ध करने से वह शांत हो जाती है। घर में सुख शांति बन जाती हैं।

अकाल मृत्यु वालों का श्राद्ध :

जिन लोगों की अकाल मृत्यु (वाहन दुर्घटना, सांप के काटने से, जहर के खाने से) हुई हो उसका श्राद्ध मृत्यु तिथि वाले दिन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। आपको इन लोगों को श्राद्ध सिर्फ चतुर्दशी तिथि को ही करना चाहिए। चाहें उनकी मृत्यु किसी भी दिन हुई हो।

वहीँ चतुर्दशी तिथि में मरने वालों का श्राद्ध चतुर्दशी में नहीं करना चाहिए, इनका श्राद्ध त्रयोदशी या अमावस्या को करना चाहिए। जिसे किसी की मृत्यु की तिथि का ज्ञान न हो उसका श्राद्ध अमावस्या को करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here