शुरू हो रहे है श्राद्ध पक्ष, जानिए पिंड दान की विधि और महत्व

0
807

हेलो फ्रेंड्स , हिंदू धर्म में कई तरह के परंपराओं और रीति रिवाजों का अनुसरण किया जाता है। वैदिक परंपरा में अनुष्ठान, पूजा पद्धति, धार्मिक क्रिया कलाप और व्रत-त्योहार जैसे कई आयोजन किए जाते हैं। सनातन धर्म में किसी जातक के जन्म से पहले यानी गर्भधारण और मृत्यु के बाद भी कई तरह के संस्कार और कर्म कांड किए जाते हैं। इन्हीं में से श्राद्ध कर्म और पितृपक्ष एक प्रमुख तिथि और संस्कार है। Pitru Paksha 2020

हर वर्ष भाद्रपद महीने की पूर्णिमा तिथि से लेकर आश्विन माह की अमावस्या की तिथि तक माना जाता है। इसमें 15 या 16 दिन पितरों को समर्पित होता है। वैसे तो हर महीने की अमावस्या तिथि पर पितरों का श्राद्ध और तर्पण किया जाता है। लेकिन पितृपक्ष में पितरों का तर्पण करना बहुत ही अच्छा और शुभफलदायक होता है। मान्यता है पितृ पक्ष में पितर देव स्वर्गलोक से धरती पर अपने-अपने परिजनों से मिलने के लिए आते हैं।

यह भी पढ़ें : तो इस वजह से किया जाता है श्राद्ध, जानें श्राद्ध पक्ष में क्या करें और क्या न करें?

पिंड दान की विधि :

श्राद्ध में पिंडदान, तर्पण और ब्राह्मण भोज कराया जाता है. इसमें चावल, गाय का दूध, घी, शक्कर और शहद को मिलाकर बने पिंडों को पितरों को अर्पित किया जाता है. जल में काले तिल, जौ, कुशा यानि हरी घास और सफेद फूल मिलाकर उससे विधिपूर्वक तर्पण किया जाता है. इसके बाद ब्राह्मण भोज कराया जाता है. कहा जाता है कि इन दिनों में आपके पूर्वज किसी भी रूप में आपके द्वार पर आ सकते हैं इसलिए घर आए किसी भी व्यक्ति का निरादर नहीं करना चाहिए.

Pitru Paksha 2020
Pitru Paksha 2020

पितृ पक्ष का महत्व :

हिंदू धर्म में देवी-देवताओं की आराधना के साथ ही स्वर्ग को प्राप्ति होने वाले पूर्वजों की भी श्रद्धा और भाव के साथ पूजा और तर्पण किया जाता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार पितरों के प्रसन्न होने पर ही देवी-देवता प्रस्नन होते हैं। पितरों को भी देवतुल्य माना गया है। इसलिए किसी जातक की मृत्यु के बाद भी उनको उतना ही सम्मान मिलता है जितना भगवान को। पितरों के लिए समर्पित श्राद्धपक्ष भादों पूर्णिमा से आश्विन अमावस्या तक मनाया जाता है। परमपिता ब्रह्मा ने यह पक्ष पितरों के लिए ही बनाया है।

यह भी पढ़ें – पितृ पक्ष में इन कामों को करना बताया गया है वर्जित, इनसे दूरी बनाने में ही भलाई

हिंदू धर्म में ऐसी मान्यता है जिन प्राणियों की मृत्यु के बाद उनका विधिनुसार तर्पण नहीं किया जाता है। उनकी आत्मा को मुक्ति नहीं मिलती है। पितृपक्ष में पितरों का तर्पण और श्राद्ध करने का विशेष महत्व होता है। क्योंकि यह पक्ष उन्ही पितर देवता को समर्पित होता है।

जो भी अपने पितरों का तर्पण नहीं करता है उन्हें पितृदोष का सामना करना पड़ता है। पितृदोष होने पर जातकों के जीवन में धन और सेहत संबंधी कई तरह की बाधाओं का सामना करना पड़ता है। इसी कारण से पितरों का तर्पण करना जरूरी होता है। पितरों का तर्पण करने से उन्हें मृत्युलोक से स्वर्गलोक में स्थान मिलता है।

कब से आरंभ है पितृ पक्ष :

हिंदू कैलेंडर के अनुसार हर वर्ष भाद्रपद महीने की पूर्णिमा तिथि से लेकर आश्विन माह की अमावस्या तिथि तक पितृपक्ष रहता है। ऐसे में इस बार श्राद्ध पक्ष का आरंभ भाद्रपद पूर्णिमा 2 सितंबर से हो रहा है। वहीं 17 सितंबर को सर्वपितृ अमावस्या रहेगी। इसी दिन पितृ पक्ष का अंतिम दिन होगा।

यह भी पढ़ें : दाम्पत्य सुख के लिए किया जाता है रवि प्रदोष व्रत, जानिये पूजन विधि

किस तिथि को किसका श्राद्ध :

पितृपक्ष में श्राद्ध करने का विशेष महत्व होता है। हालांकि हर महीने की अमावस्या तिथि पर पितरों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण किया जाता है, लेकिन पितृपक्ष के 15 दिनों में श्राद्धकर्म, पिण्डदान और तर्पण करने का अधिक महत्व माना जाता है। इन 15 दिनों में पितर धरती पर किसी न किसी रूप में अपने परिजनों के बीच में रहने के लिए आते हैं। पितृपक्ष में श्राद्ध करने के कुछ खास तिथियां भी होती हैं।

Pitru Paksha 2020
Pitru Paksha 2020

श्राद्ध से जुड़ी हर वो बात जिसे आपको जानना चाहिए –

  • जिन लोगों के सगे सबंधियों और परिवार के सदस्यों की मृत्यु जिस तिथि पर हुई है पितृपक्ष में पड़ने वाली उस तिथि में ही उनका श्राद्ध करना चाहिए।
  •  जिस महिला की मृत्यु पति के रहते ही हो गयी हो उन नारियों का श्राद्ध नवमी तिथि में किया जाता है। 
  • ऐसी स्त्री जो मृत्यु को तो प्राप्त हो चुकी किन्तु उनकी तिथि नहीं पता हो तो उनका भी श्राद्ध मातृ नवमी को ही करने का विधान है। 
  • आत्महत्या, विष और दुर्घटना आदि से मृत्यु होने पर मृत पितरों का श्राद्ध चतुर्दशी को किया जाता है। 
  • पिता के लिये अष्टमी तो माता के लिये नवमी की तिथि श्राद्ध करने के लिये उपयुक्त मानी जाती है।
  • अगर किसी कारणवश अपने परिजनों की मृत्यु की तिथि याद न हो तो सर्वपितृ अमावस्या के दिन श्राद्ध करना उचित होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here