ad2

हेलो फ्रेंड्स, ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक जब सूर्यदेव मकर राशि में प्रवेश करते हैं तो इसे मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2022) कहा जाता है. मकर संक्रांति का पर्व देश के हर कोने में अलग-अलग रूपों में मनाया जाता है. पंजाब में इसे लोहड़ी, केरल में पोंगल, गुजरात में उत्तरायण, उत्तराखंड में उत्तरायणी और कई स्थानों खिचड़ी के नाम में मनाया जाता है. 2022 में मकर संक्रांति कब है, मकर संक्रांति का शुभ मुहूर्त क्या है और इस दिन दान का क्या महत्व है.

सनातन धर्म में मकर संक्रांति (Makar Sankranti) का बहुत ही महत्व है. पौष मास में जब सूर्य अपने पुत्र शनि की राशि मकर में प्रवेश करते हैं, तभी इस पर्व को मनाया जाता है. लेकिन तमाम मान्यताओं के बाद इस त्योहार को मनाने के पीछे का तर्क एक ही रहता है और वह है सूर्य की उपासना व दान. इस बार यह शुभ तिथि 14 जनवरी दिन शुक्रवार को है.

यह भी पढ़ें – धर्मभगवान शिव का विश्वेश्वर व्रत आज, जानिए पूजन विधि और व्रत कथा

बता दें कि सूर्य जब मकर राशि में प्रवेश करेंगे, तब पांच ग्रहों का संयोग बनेगा, जिसमें सूर्य, बुध, गुरु, चंद्रमा और शनि भी शामिल रहेंगे. खास बात ये है कि इस मकर संक्राति पर कई विशेष संयोग बन रहे हैं, जो इस पर्व को और भी शुभ बना रहे हैं. जानिए नए साल में आने वाली मकर संक्रांति का शुभ मुहूर्त.

2022 में कब है मकर संक्रांति :

2022 में मकर संक्राति 14 जनवरी को मनाई जाएगी. हिंदीं पंचांग के मुताबिक इस दिन पौष मास की द्वादशी तिथि है. 14 जनवरी 2022 को सूर्य धनु से मकर राशि में प्रवेश करेंगे. जब सूर्य मकर राशि में गोचर करता है तो मकर संक्रांति कहा जाता है. यह संक्रांति सबसे खास होती है क्योंकि इस अवसर पर सूर्यदेव दक्षिणायण से उत्तरायण होते हैं.

Makar Sankranti 2022
Makar Sankranti 2022

सूर्य का मकर राशि में गोचर :

14 जनवरी 2022 को सूर्य धनु राशि से निकल कर मकर राशि में गोचर करेंगे. सूर्य जब एक राशि से दूसरी राशि में जाते हैं तो इस प्रक्रिया को संक्रांति कहा जाता है. मकर संक्रांति को सभी संक्रांति में अति महत्वपूर्ण माना गया है.

मकर संक्रांति 2022 शुभ मुहूर्त :

मकर संक्रांति के दिन पुण्य काल- दोपहर 02.43 से शाम 05.45 तक

पुण्य काल की कुल अवधि- 03 घंटे 02 मिनट

मकर संक्रांति के दिन महा पुण्यकाल – दोपहर 02.43 से 04:28 तक

कुल अवधि – 01 घण्टा 45 मिनट

यह भी पढ़ें – मकर संक्रांति पर क्यों बनाई जाती है खिचड़ी, जानें बनाने का तरीका

मकर संक्रांति: दान का महत्व

सूर्यदेव की उपासना के लिए मकर संक्रांति का दिन उत्तम होता है. शास्त्रों में सूर्य को संसार का आत्मा माना गया है. धार्मिक मान्यता है कि इस दिन सूर्यदेव अपने पुत्र शनि से मिलने उनके घर जाते हैं. दरअसल शनि मकर राशि के स्वामी ग्रह है. इसलिए इस दिन को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है. इसके अलावा मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन उत्तरायण के वक्त किया गया दान सौ गुना अधिक फल देता है.

मकर संक्रांति का महत्व

हिंदू धर्म में मकर संक्रांति के पर्व को महत्वपूर्ण माना गया है. इस दिन पवित्र नदी में स्नान और दान का विशेष पुण्य बताया गया है. मकर संक्रांति पर सूर्य देव उत्तरायण होते है. मान्यता के अनुसार इस दिन से ही ऋतु में परिवर्तन आरंभ हो जाता है. मकर संक्रांति से सर्दी में कमी आने लगती है यानि शरद ऋतु के जाने का समय आरंभ हो जाता है और बसंत ऋतु का आगमन शुरू हो जाता है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मकर संक्रांति के बाद से ही दिन लंबे रातें छोटी होने लगती हैं. पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन भगवान आशुतोष ने भगवान विष्णु को आत्मज्ञान का दान दिया था. महाभारत की कथा के मुताबिक भीष्म पितामह ने अपनी देह का त्याग मकर संक्रांति पर किया था.

Previous articleस्वाद के साथ सेहत के लिए भी फायदेमंद है ‘चिरौंजी दाल’, ये है विधि
Next articleघर पर ऐसे बनाएं टेस्टी और डिलिशियस चिल्ली चना, ये है बनाने की विधि
Nidhi
I am a freelancer content writer, and I am writing contents for many websites since very long time.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here