11 मार्च को है महाशिवरात्रि, जानें इस दिन क्या करें और क्या न करें

0
64

हिंदू कैलेंडर के अनुसार प्रत्येक वर्ष फाल्गुन मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। इस वर्ष महाशिवरात्रि 11 मार्च 2021 दिन गुरूवार को मनाई जाएगी। भगवान भोलेनाथ के भक्तों को पूरे साल महाशिवरात्रि के दिन का इंतजार रहता है। इस दिन को लोग बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हुआ था, इसलिए शिवभक्तों के लिए यह दिन बहुत ही खास होता है। Maha Shivratri Pr Kare Ye Upaye

यह भी पढ़ें – इस दिन है भौम प्रदोष व्रत, जानिए शुभ मुहूर्त, विधि, महत्व और कथा

इस दिन भगवान शिव की विधि-विधान से पूजा करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इस दिन महादेव और माता पार्वती की शुभ मुहूर्त में पूजा करना उत्तम माना जाता है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, महाशिवरात्रि के दिन महादेव की पूजा करते समय बिल्वपत्र, शहद, दूध, दही, शक्कर और गंगाजल से अभिषेक करना चाहिए। कहते हैं कि ऐसा करने से भगवान शिव की कृपा हमेशा बनी रहती है।

महाशिवरात्रि पर भगवान शिव के साथ माता पार्वती का पूजन भी किया जाता है। जगह-जगह पर भांग का प्रसाद बांटा जाता है। भगवान शिव की कृपा पाने के लिए यह पर्व बहुत ही शुभ माना गया है। इस दिन शिव जी को उनकी प्रिय चीजें अर्पित करके आप अपने जीवन की समस्याओं से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं। महाशिवरात्रि पर कुछ बातों को ध्यान में रखना अति आवश्यक होता है। जानिए महाशिवरात्रि के दिन क्या करना चाहिए और क्या नहीं-

Maha Shivratri Pr Kare Ye Upaye
Maha Shivratri Pr Kare Ye Upaye

महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त :

  • महाशिवरात्रि 11 मार्च 2021 दिन गुरूवार को मनाई जाएगी।
  • फाल्गुन मास कृष्ण पक्ष चतुर्दशी आरंभ- 11 मार्च 2021 दिन बृहस्पतिवार 02 बजकर 39 मिनट से।

महाशिवरात्रि पर क्या करें :

  • महाशिवरात्रि पर शिवलिंग का पूजन अवश्य करना चाहिए। इस दिन शिवलिंग का पूजन बहुत ही शुभफलदायी रहता है।
    भगवान शिव की पूजा में सफेद फूलों का प्रयोग करना चाहिए। यदि आक के फूल हो तो और भी श्रेष्ठ रहता है।
  • शिवरात्रि के दिन शिव जी के साथ माता पार्वती की पूजा भी करनी चाहिए। इससे आपका वैवाहिक जीवन सुखमय रहता है। जिन लोगों का विवाह नहीं हुआ हैै, उनकी विवाह की बाधाएं दूर होती हैं।
  • महाशिवरात्रि पर नंदी का पूजन अवश्य करना चाहिए। नंदी पूजन के बिना शिव जी की पूजा अधूरी मानी जाती है।
    भगवान शिव की कृपा पाने के लिए शिवरात्रि पर बैल को हरा चारा खिलाना चाहिए।
  • बिल्वपत्र भगवान शिव को बहुत प्रिय है। बिल्वपत्र पर चंदन से ”ऊं नमः शिवाय” लिखकर शिवलिंग पर अर्पित करना चाहिए।
  • महाशिवरात्रि पर प्रदोष काल में भगवान शिव की पूजा करने के साथ रात्रि जागरण कर चारों प्रहर की पूजा करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें – जानिए मासिक शिवरात्रि पूजन विधि, व्रत कथा और महत्त्व

महाशिवरात्रि पर क्या न करें :

  • महाशिवरात्रि के दिन बिलकुल भी देर तक न सोएं। यदि व्रत नहीं भी है तो बिना स्नान और पूजन के भोजन न करें।
  • शिवरात्रि के दिन भूलकर भी काले रंग के वस्त्र धारण न करें। 
    शिवलिंग की परिक्रमा करते समय जल स्थान को भूलकर भी न लांघे।
  • शिव जी की पूजा में हल्दी, तुलसी और कुमकुम का प्रयोग न करें।
  • भगवान शिव जी को भूलकर भी शंख से जल न चढ़ाएं।
  • शिव जी की पूजा में केतकी का फूल वर्जित है इसके अलावा चंपा के फूल का प्रयोग भी न करें।
  • भगवान शिव पशुपतिनाथ कहलाते हैं, महाशिवरात्रि पर भूलकर भी किसी पशु-पक्षी को न सताएं।
  • महाशिवरात्रि पर घर में या आस-पास किसी से भी कलह करने से बचें। किसी को अपशब्द न कहें और न ही निंदा करें।
  • शिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर चढ़ाई गई चीजों को बिल्कुल भी ग्रहण नहीं करना चाहिए। शिवलिंग पर चढ़ाई गई चीजों को ग्रहण करना शुभ नहीं माना जाता है।
  • महाशिवरात्रि पर सात्विकता बनाएं रखें। इस दिन भूलकर भी मांस-मदिरा का सेवन न करें।

अस्वीकरण : आकृति.इन साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here