शिव योग में मनाई जाएगी महाशिवरात्रि, राशि अनुसार ऐसे करें शिवरात्रि पूजन

0
82

हेल्लो दोस्तों इस बार महाशिवरात्रि 11 मार्च को विशेष संयोग में मनाई जावेगी इसी दिन शिव और शक्ति का मिलन हुआ था अबकी बार बेहद खास योग बन रहा है. इस दिन घनिस्ता नक्षत्र व शिव योग के साथ ही चंद्रमा मकर राशि का संयोग बन रहा है। इसी दिन हरिद्वार कुंभ में प्रथम शाही स्नान होगा। यह योग कई बरसों बाद आया है। महाशिवरात्रि कुंभ के साथ पड़ रही है, इसलिए इस वर्ष महाशिवरात्रि का विशेष महत्व रहेगा। हर राशि वालों के लिए अलग अलग मंत्रों, विधि से पूजा करने का विधान है जिससे मनोकुल फल की प्राप्ति होती है। Maha Shivratri 2021

ये भी पढ़िए : 11 मार्च को है महाशिवरात्रि, जानें इस दिन क्या करें और क्या न करें

महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त

  • महानिशीथ काल – 11 मर्च रात 11 बजकर 44 मिनट से रात 12 बजकर 33 मिनट तक
  • निशीथ काल पूजा मुहूर्त : 11 मार्च देर रात 12 बजकर 06 मिनट से 12 बजकर 55 मिनट तक
  • महाशिवरात्रि पारणा मुहूर्त : 12 मार्च सुबह 6 बजकर 36 मिनट 6 सेकंड से दोपहर 3 बजकर 4 मिनट 32 सेकंड तक।
Maha Shivratri 2021
Maha Shivratri 2021

पूजा विधि :-

  • इस दिन प्रात: काल स्नान ध्यान से निव्रत होकर व्रत रखना चाहिए।
  • इसके बाद पत्र-पुष्प और सुंदर वस्त्रों से मण्डप तैयार कर वेदी पर कलश की स्थापना के साथ-साथ गौरी-शंकर और नंदी की मूर्ति रखनी चाहिए।
  • कलश में जल भरकर रोली, मौली, चावल, पान, सुपारी, लौंग, इलायची, चन्दन, दूध, दही, घी, शहद, कमलगट्टा, धतूरा, बिल्बपत्र शिवजी को अर्पित कर पूजा करनी चहिए।
  • बिल्बपत्र की महिमा अत्याधिक है। बिल्बपत्र को उलटा कर चढ़ाना चाहिए।
  • इसी दिन शाम या रात्रि को काले तिलों से स्नानकर रात्रि को जागरण करके शिवजी की स्तुति का पाठ कराना अथवा रुद्राभिषेक कराना चाहिए।
  • इस जागरण में शिवजी की चार आरती का विधान जरूरी है। इस अवसर पर शिवपुराण का पाठ मंगलकारी है।

ये भी पढ़िए : भगवान शिव के उपवास में भूलकर भी न करें इन व्यंजनों का सेवन

राशि के अनुसार ऐसे करें शिव आराधना :

  • मेष राशि : शिव की पूजा के न बाद ‘ह्रीं ओम नमः शिवाय ह्रीं’ इस मंत्र का 108 बार जप करें. शहद, गु़ड़, गन्ने का रस, लाल पुष्प चढ़ाएं.
  • वृष राशि : इस राशि के व्यक्ति मल्लिकार्जुन का ध्यान करते हुए ‘ओम नमः शिवाय’ मंत्र का जप करें और कच्चे दूध, दही, श्वेत पुष्प चढ़ाएं.
  • मिथुन राशि : महाकालेश्वर का ध्यान करते हुए ‘ओम नमो भगवते रूद्राय’ मंत्र का यथासंभव जप करें. हरे फलों का रस, मूंग, बेलपत्र आदि चढाएं.
  • कर्क राशि : शिव की कृपा प्राप्त करने के लिए ‘ओम हौं जूं सः’ मंत्र का जितना संभव हो जप करें और शिवलिंग पर कच्चा दूध, मक्खन, मूंग, बेलपत्र आदि चढाएं.
  • सिंह राशि : ‘ओम त्र्यंबकं यजामहे सुगंधि पुष्टिवर्धनम, उर्वारूकमिव बन्ध्नान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्.’ इस मंत्र का कम से कम 51 बार जप करें. इसके साथ ही ज्योतिर्लिंग पर शहद, गु़ड़, शुद्ध घी, लाल पुष्प आदि चढाएं.
  • कन्या राशि : ‘ओम नमो भगवते रूद्राय’ मंत्र का यथासंभव जप करें. हरे फलों का रस, बिल्वपत्र, मूंग, हरे व नीले पुष्प चढाएं.
Maha Shivratri 2021
Maha Shivratri 2021
  • तुला राशि : शिव पंचाक्षरी मंत्र ‘ओम नमः शिवाय’ का 108 बार जप करें और दूध, दही, घी, मक्खन, मिश्री चढ़ाएं.
  • वृश्चिक राशि : ‘ह्रीं ओम नमः शिवाय ह्रीं’ मंत्र का जप करें और शहद, शुद्ध घी, गु़ड़, बेलपत्र, लाल पुष्प शिवलिंग पर अर्पित करें.
  • धनु राशि : इस राशि वाले ‘ओम तत्पुरूषाय विद्महे महादेवाय धीमहि। तन्नो रूद्रः प्रचोदयात।।’ इस मंत्र से शिव की पूजा करें. धनु राशि वाले मंत्र जाप के अलावा शिवलिंग पर शुद्ध घी, शहद, मिश्री, बादाम, पीले पुष्प, पीले फल चढ़ाएं.
  • मकर राशि : त्रयम्बकेश्वर का ध्यान करते हुए ‘ओम नमः शिवाय’ मंत्र का 5 माला जप करें. इसके अलावा भगवान शिव का सरसों का तेल, तिल का तेल, कच्चा दूध, जामुन, नीले पुष्प से अभिषेक करें.
  • कुंभ राशि : कुंभ राशि के स्वामी भी शनि देव हैं इसलिए इस राशि के व्यक्ति भी मकर राशि की तरह ‘ओम नमः शिवाय’ का जप करें. जप के समय केदरनाथ का ध्यान करें. कच्चा दूध, सरसों का तेल, तिल का तेल, नीले पुष्प चढाएं.
  • मीन राशि : ओम तत्पुरूषाय विद्महे महादेवाय धीमहि। तन्नो रूद्र प्रचोदयात।। इस मंत्र का जितना अधिक हो सके जप करें. गन्ने का रस, शहद, बादाम, बेलपत्र, पीले पुष्प, पीले फल चढाएं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here