Karwa Chauth Shubh Sanyog

करवा चौथ का व्रत हर साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को रखा जाता है. इस दिन महिलाएं पति की लंबी उम्र के लिए निर्जला उपवास करती हैं और रात को चंद्र दर्शन करने के बाद ही कुछ खाती हैं. इस साल 2022 में करवा चौथ का व्रत 13 अक्टूबर दिन गुरुवार को रखा जाएगा. Karwa Chauth Shubh Sanyog

करवा चौथ व्रत तिथि

(Karwa Chauth 2022 date)

करवा चौथ का व्रत कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है. इस साल करवा चौथ की तिथि 13 अक्टूबर को रात 01 बजकर 59 मिनट पर शुरू होगी और अगले दिन 14 अक्टूबर को सुबह 03 बजकर 08 मिनट पर समाप्त होगी. उदयातिथि के अनुसार करवा चौथ का उपवास 13 अक्टूबर को ही रखा जाएगा.

यह भी पढ़ें – जानिये करवा चौथ 2022 पूजन में किन-किन सामग्रियों की होती है ज़रुरत

करवा चौथ का शुभ मुहूर्त

(Karwa Chauth 2022 Shubh Muhurt)

अमृत काल मुहूर्त- शाम 04 बजकर 08 मिनट से लेकर शाम 05 बजकर 50 मिनट तक
अभिजीत मुहूर्त- सुबह 11 बजकर 21 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 07 मिनट तक
ब्रह्म मुहूर्त- शाम 04 बजकर 17 मिनट से लेकर अगले दिन सुबह 05 बजकर 06 मिनट तक

Karwa Chauth Vrat Muhurat
Karwa Chauth Shubh Sanyog

करवा चौथ शुभ संयोग

इस साल करवा चौथ पर 46 साल बाद एक दुर्लभ संयोग बनने जा रहा है. करवा चौथ का व्रत सर्वार्थ सिद्धि, बुधादित्य और महालक्ष्मी योग में रखा जाएगा. व्रत गुरुवार को पड़ रहा है और गुरुदेव बृहस्पति अपनी ही राशि मीन में विराजमान हैं. ज्योतिषियों का कहना है कि करवा चौथ पर ऐसा दुर्लभ संयोग 46 साल बाद बना है. इससे पहले करवा चौथ पर ग्रहों की ऐसी स्थिति 23 अक्टूबर 1975 को देखी गई थी.

करवा चौथ पर चंद्रोदय

करवा चौथ पर चांद निकलने का समय 13 अक्टूबर को रात 08 बजकर 09 मिनट बताया जा रहा है. हालांकि, देश के अलग-अलग राज्यों और शहरों में चांद दिखने का समय इससे थोड़ा अलग हो सकता है. अपने शहर के हिसाब से चांद निकलने का सही समय एक बार जरूर देख लें.

यह भी पढ़ें – इस दिशा में बैठकर पूजन करने से मिलता है करवा चौथ का पूरा फल

करवा चौथ की पूजन विधि

(Karwa Chauth 2022 Pujan Vidhi)

सुबह सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करें और पूजा घर की सफ़ाई करें. फिर सास द्वारा दिया हुआ भोजन करें और भगवान की पूजा करके निर्जला व्रत का संकल्प लें. यह व्रत सूर्य अस्त होने के बाद चन्द्रमा के दर्शन करके ही खोलना चाहिए और बीच में जल भी नहीं पीना चाहिए. संध्या के समय एक मिट्टी की वेदी पर सभी देवताओं की स्थापना करें. इसमें 10 से 13 करवे (करवा चौथ के लिए ख़ास मिट्टी के कलश) रखें.

पूजन-सामग्री में धूप, दीप, चन्दन, रोली, सिन्दूर आदि थाली में रखें. दीपक में पर्याप्त मात्रा में घी रहना चाहिए, जिससे वह पूरे समय तक जलता रहे. चन्द्रमा निकलने से लगभग एक घंटे पहले पूजा शुरू की जानी चाहिए. अच्छा हो कि परिवार की सभी महिलाएं साथ पूजा करें. पूजा के दौरान करवा चौथ कथा सुनें या सुनाएं.

Karwa Chauth Shubh Sanyog
Karwa Chauth Shubh Sanyog

चन्द्र दर्शन छलनी के द्वारा किया जाना चाहिए और साथ ही दर्शन के समय अर्घ्य के साथ चन्द्रमा की पूजा करनी चाहिए. चन्द्र-दर्शन के बाद बहू अपनी सास को थाली में सजाकर मिष्ठान, फल, मेवे, रूपये आदि देकर उनका आशीर्वाद ले और सास उसे अखंड सौभाग्यवती होने का आशीर्वाद दे.

करवा चौथ की कथा

(karwa chauth 2022 katha)

करवा चौथ व्रत कथा के अनुसार एक साहूकार के सात बेटे थे और करवा नाम की एक बेटी थी. एक बार करवा चौथ के दिन उनके घर में व्रत रखा गया. रात्रि को जब सब भोजन करने लगे तो करवा के भाइयों ने उससे भी भोजन करने का आग्रह किया. उसने यह कहकर मना कर दिया कि अभी चांद नहीं निकला है और वह चन्द्रमा को अर्घ्य देकर ही भोजन करेगी.

यह भी पढ़ें – करवा चौथ के दिन भूलकर भी न करें ये गलतियाँ

अपनी सुबह से भूखी-प्यासी बहन की हालत भाइयों से नहीं देखी गयी. सबसे छोटा भाई एक दीपक दूर एक पीपल के पेड़ में प्रज्वलित कर आया और अपनी बहन से बोला – व्रत तोड़ लो; चांद निकल आया है. बहन को भाई की चतुराई समझ में नहीं आई और उसने खाने का निवाला खा लिया. निवाला खाते ही उसे अपने पति की मृत्यु का समाचार मिला.

शोकातुर होकर वह अपने पति के शव को लेकर एक वर्ष तक बैठी रही और उसके ऊपर उगने वाली घास को इकट्ठा करती रही. अगले साल कार्तिक कृष्ण चतुर्थी फिर से आने पर उसने पूरे विधि-विधान से करवा चौथ व्रत किया, जिसके फलस्वरूप उसका पति पुनः जीवित हो गया.

Karwa Chauth Vrat
Karwa Chauth Vrat

करवा चौथ का महत्व

(Karwa Chauth 2022 Importance)

करवा चौथ का व्रत विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए रखती है. करवा चौथ का व्रत उत्तर भारत में ज्यादा मनाया जाता है. इस दिन वह पूरे चांद को देखने के बाद ही अपना व्रत खोलती हैं. यदि महिलाओं ने चांद देखने से पहले इस व्रत को तोड़ दिया, तो यह व्रत खंडित हो जाता है. यह व्रत सूर्योदय से पहले ही 4 बजे शुरू हो जाता है. इसमें भगवान गणेश, भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा की जाती है.

ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए कृप्या आप हमारे फेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम और यूट्यूब चैनल से जुड़िये ! इसके साथ ही गूगल न्यूज़ पर भी फॉलो करें !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here