जन्माष्टमी पर गलती से भी ना करें ये काम वरना नहीं मिलेगा पूजा का फल

0
151

Janmashtami Par Na Kare Ye Kaam : देश भर में कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जा रही है. ये त्योहार 11 और 12 अगस्त दोनों ही दिन है. इस दिन भक्त व्रत रखते हैं और पूरे दिन श्रीकृष्ण के भजन-कीर्तन करते हैं. इस दिन भगवान् श्री कृष्ण बाल स्वरूप में पूजे जाते हैं. देश के हर मंदिरों की खास सजावट की जाती है. श्री कृष्णावतार के मौके पर हर जगह झाकियां सजाई जाती हैं. घर में भी भगवान श्रीकृष्ण का श्रृंगार कर उन्हें झूले में बिठाया जाता है.

यह भी पढ़ें : जानिये जन्माष्टमी व्रत शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, क​था और महत्व

कृष्ण जन्माष्टमी का दिन बहुत शुभ होता है और मान्यता है कि इस दिन भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. हालांकि इस दिन कुछ खास बातों का भी ध्यान रखना जरूरी होता है. आइए जानते हैं कि कृष्ण पूजा के दौरान कौन से काम शुभ नहीं माने जाते हैं.

  • जन्माष्टमी के दिन भूल कर भी तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ने चाहिए. भगवान विष्णु को श्रीकृष्ण का अवतार माना जाता है. मान्यता के अनुसार तुलसी भगवान विष्णु को अत्यंत प्रिय हैं. इसलिए इस दिन तुलसी के पत्ते तोड़ना शुभ नहीं माना जाता है.
Janmashtami 2020
Janmashtami Par Na Kare Ye Kaam
  • आज के दिन लहसुन, प्याज या कोई भी अन्य तामसिक भोजन नहीं करना चाहिए. इस दिन घर में मांस और शराब नहीं लाना चाहिए.
  • कृष्ण जन्माष्टमी के दिन भूलकर भी किसी का अनादर ना करें. भगवान कृष्ण के लिए अमीर या गरीब सभी भक्त एक समान ही हैं. किसी भी गरीब का अपमान करने से श्री कृष्ण अप्रसन्न हो सकते हैं.
  • जो लोग जन्माष्टमी का व्रत नहीं रखते हैं, उन्हें भी इस दिन चावल नहीं खाना चाहिए. एकादशी और जन्माष्टमी के दिन चावल और जौ से बने भोज्य पदार्थ खाना वर्जित माना जाता है.

यह भी पढ़ें : कृष्ण जन्माष्टमी पर करें ये अचूक उपाय

  • जन्माष्टमी के दिन ब्रह्मचर्य का पालन करना अनिवार्य होता है. इस दिन पूरे पवित्र मन-तन से भगवान की पूजा करनी चाहिए.
  • जन्माष्टमी के दिन पेड़ों को काटना भी अशुभ माना जाता है. श्री कृष्ण हर चीज में बसते हैं और हर चीज उनमें बसती है. बल्कि हो सके तो इस दिन ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने चाहिए. इससे घर और परिवार में सुख और शांति बनी रहती है.
Janmashtami 2020
Janmashtami Par Na Kare Ye Kaam
  • इस दिन भूल कर भी गायों का अपमान नहीं करना चाहिए. भगवान कृष्ण को गायों से बहुत प्रेम था. कान्हा बचपन गायों के साथ ही खेलते थे. ऐसी मान्यता है कि जो भी गाय की पूजा करता है उसे श्री कृष्ण का आशीर्वाद जरूर मिलता है.
  • जो लोग इस दिन व्रत रखते हुए उन्हें रात में बारह बजे से पहले अपना व्रत नहीं खोलना चाहिए. उससे पहले व्रत खोलने से पूजा का फल नहीं मिलता है और व्रत भी अधूरा माना जाता है.

अस्वीकरण : आकृति.इन साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here