Dev Diwali Mahatva 2022: हर साल कार्तिक मास की पूर्णिमा को देव दिवाली का त्योहार मनाया जाता है. इस साल यह पर्व सोमवार, 07 नवंबर को मनाया जा रहा है. ऐसी मान्यता है कि इस दिन देवी-देवता काशी के गंगा घाट पर दिवाली मनाने उतरते हैं. इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने और दीपदान करने का विशेष महत्व है. इस दिन छह कृत्तिकाओं का पूजन भी किया जाता है. आइए जानते हैं कि देव दिवाली के त्योहार पर दीपदान करने का क्या महत्व और इस दिन कृत्तिकाओं की पूजा कैसे की जाती है

यह भी पढ़ें – राशि के अनुसार जानिए कैसा होगा आपके लिए नवंबर 2022 का महीना ?

देव दीपावली तिथि 2022

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, इस साल कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि का प्रारंभ 07 नवंबर दिन सोमवार को शाम 04 बजकर 15 मिनट से हो रहा है और यह तिथि अगले दिन 08 नवंबर को शाम 04 बजकर 31 मिनट तक मान्य रहेगी. देव दीपावली के लिए कार्तिक पूर्णिमा तिथि को प्रदोष काल में मुहूर्त 07 नवंबर को प्राप्त हो रहा है, इसलिए देव दीपावली 07 नवंबर को मनाई जाएगी.

देव दीपावली मुहूर्त 2022

07 नवंबर को देव दीपावली का शुभ मुहूर्त शाम 05 बजकर 14 मिनट से लेकर शाम 07 बजकर 49 मिनट तक है. इस दिन देव दीपावली के लिए ढाई घंटे से अधिक का शुभ समय प्राप्त हो रहा है.

Dev Diwali Mahatva
Dev Diwali Mahatva

सिद्ध और रवि योग

देव दीपावली के अवसर पर रवि योग और सिद्ध योग बन रहा है. 07 नवंबर को प्रात:काल से लेकर रात 10 बजकर 37 मिनट तक सिद्ध योग है. वहीं इस दिन रवि योग प्रात: 06 बजकर 37 मिनट से देर रात 12 बजकर 37 मिनट तक है. ये दोनों ही योग मांगलिक कार्यों के लिए बेहद शुभ माने जाते हैं.

देव दिवाली पर दीपदान का महत्व

कार्तिक पूर्णिमा के दिन पवित्र नदी के जल से स्नान करके दीपदान करना चाहिए. पर ये दीपदान नदी के किनारे किया जाता है. ऐसा कहा जाता है कि देव दिवाली के दिन दीपदान करने से जीवन में सुख-संपन्नता बढ़ती है और देवी-देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त होता है. लोकाचार की परंपरा होने के कारण वाराणसी में इस दिन गंगा किनारे दीपदान किया जाता है. वाराणसी में इसे देव दीपावली कहा जाता है, पर ये शास्त्रगत नहीं है.

यह भी पढ़ें – जानिए कर्पूरगौरं मंत्र का अर्थ और आरती के बाद क्यों बोलते हैं कर्पूरगौरं मंत्र ?

क्यों मनाई जाती है देव दिवाली?

भगवान शिव ने त्रिपुरासुर राक्षस का वध किया था. यह घटना कार्तिक मास की पूर्णिमा को हुई थी. त्रिपुरासुर के वध की खुशी में देवताओं ने काशी में अनेकों दीए जलाए. यही कारण है कि हर साल कार्तिक मास की पूर्णिमा पर आज भी काशी में दिवाली मनाई जाती है. चूंकि ये दीवाली देवों ने मनाई थी, इसीलिए इसे देव दिवाली कहा जाता है.

कृत्तिकाओं का पूजन

इस दिन छह कृत्तिकाओं का रात्रि में पूजन करना चाहिए. इस पूजा से संतान का शीघ्र वरदान मिलता है. ये छह कृत्तिकाएं हैं- शिवा, सम्भूति, संतति, प्रीति, अनुसूया और क्षमा. इनका पूजन करने के बाद गाय, भेंड़, घोड़ा और घी आदि का दान करना चाहिए. कृत्तिकाओं से संतान और सम्पन्नता प्राप्ति की प्रार्थना करनी चाहिए.

Dev Diwali Mahatva
Dev Diwali Mahatva

शिवजी की पूजा का महत्व

भगवान शिव ने इस दिन त्रिपुरासुर का वध किया था. इसलिए इस दिन को “त्रिपुरी पूर्णिमा” भी कहा जाता है. शिव जी की विशेष पूजा से इस दिन तमाम मनोकामनाएं पूरी होती हैं. इस दिन उपवास रखकर शिव जी की पूजा करके बैल का दान करने से शिव पद प्राप्त होता है. शिव ही आदि गुरू हैं, इसलिए इस दिन रात्रि जागरण करके शिव जी की उपासना करने से गुरू की कृपा प्राप्त होती है. गलतियों के प्रायश्चित के लिए भी इस दिन शिव जी की पूजा की जाती है.

ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए कृप्या आप हमारे फेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम और यूट्यूब चैनल से जुड़िये ! इसके साथ ही गूगल न्यूज़ पर भी फॉलो करें !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here