बर्थडे स्पेशल : आईसीसी महिला टीम में शामिल होने वाली एकमात्र भारतीय महिला खिलाड़ी हैं स्मृति

0
26

हेल्लो दोस्तों आज बायोग्राफी संस्करण में हम आपको एक ऐसी हस्ती के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने अपने दम पर खेल में एक नया आसमान को छू लिया। भारत में पुरुष क्रिकेटरों को जीतना पब्लिसिटी और मान सम्मान मिलता है उतना महिला क्रिकेटरों को नहीं मिल पाता है लेकिन महिला क्रिकेट ने भी कुछ सालों में अच्छी खासी पहचान बना ली हैं। आज हम आपको भारतीय महिला क्रिकेट टीम की ऐसी खिलाड़ी के बारे में बताने जा रहे हैं। Smriti Mandhana Biography

ये भी पढ़िए : सरोज खान की बायोग्राफी (हिंदी में)

जी हाँ हम किसी और की नहीं बल्कि बाएं हाथ से खेलने वाली बल्लेबाज खिलाड़ी स्मृति मंधाना की ही बात कर रहे हैं जिन्होंने अपने अच्छे प्रदर्शन से न केवल भारत में बल्कि पुरे विश्व में अपने राष्ट्र भारत का नाम रौशन किया है। और महिला क्रिकेट की यह छवि बदलने में काफी अहम् भूमिका निभाई है तो आइये आज उनके जन्मदिन पर जानें उनसे जुड़ी बातें।

जन्म और पारिवारिक विवरण :

स्मृति का जन्म 18 जुलाई 1996 को मुंबई महाराष्ट्र में हुआ. इनके पिता श्रीनिवास मंधाना (फॉर्मर डिस्ट्रिक्ट-लेवरल क्रिकेटर) और माता स्मिता मंधाना हैं। इनका एक भाई भी है जिसका नाम श्रवण मंधना (फॉर्मर डिस्ट्रिक्ट-लेवरल क्रिकेटर) है। जब ये मात्र दो वर्ष की थी तब इनके माता पिता माधवनगर, सांगली में हमेशा के लिए आ कर बस गए जिसके बाद इनकी पूरी शिक्षा और परवरिश माधवनगर, सांगली में ही हुई।

इनका पूरा परिवार एक क्रिकेट प्रेमी और क्रिकेट से जुड़ा हुआ है। इनका क्रिकेट में आने का मन तब हुआ जब इन्होने अपने भाई को राज्य स्तर के लिए अंडर 16 क्रिकेट खेलते हुए देखा। स्मृति मंधाना केवल 9 वर्ष की उम्र में महाराष्ट्र अंडर 15 की टीम में चुन ली गयी थी। 11 साल की आयु में उनका चयन महाराष्ट्र की अंडर-19 टीम हो गया था।

Smriti Mandhana Biography

भाई से प्रेरणा मिली :

स्मृति मंधाना जब दो साल की थी तभी से अपने भाई श्रवण को देखकर बाएं हाथ से प्लास्टिक का बैट पकड़ना शुरू कर दिया था । स्मृति से चार साल बड़े भाई को उनके पिता बैटिंग की प्रैक्टिस कराते थे। स्मृति की मां चाहती थीं कि स्मृति टेनिस खेले। बचपन से अपने भाई को क्रिकेट खेलते देखकर एवं लोकल न्यूजपेपर्स में श्रवण के मैच की खबरें सुनकर स्मृति ने क्रिकेटर बनने का निश्चय किया । उनके पिता ने स्मृति में छिपे टैलेंट को पहचानते हुए उन्हें क्रिकेट पर फोकस करने की सलाह दी।

घरेलु मैच में दोहरा शतक :

स्मृति जब 9 साल की थीं तो महाराष्ट्र अंडर 15 टीम के लिए उनका चयन हो गया था। इसके बाद 11 साल की उम्र में वे महाराष्ट्र अंडर 19 टीम का हिस्सा बनीं। स्मृति ने डोमेस्टिक मैच में नाम तब कमाया । जब ये अक्टूबर 2013 में वेस्ट जोन अंडर 19 टूर्नामेंट के दौरान महाराष्ट्र की तरफ से एकदिवसीय मैचों में दोहरा शतक लगाया। ऐसा करने वाली वह पहली भारतीय महिला खिलाड़ी थीं। इन्होंने 150 गेंदों में 224 रन बनाए थे।

ये भी पढ़िए : बर्थडे स्पेशल : पहली फिल्म में ही बदल दिया था कैटरीना का असली नाम,…

राहुल द्रविड़ के बैट से ही बनाए शुरुआती शतक :

सितंबर 2016 में वूमेन बिग बैस लीग में के लिए इन्होंने ब्रिस्बेन हीट के साथ एक साल का करार किया। 2016 में आईसीसी वूमेन टीम ऑफ द ईयर में चुनी जाने वाली वह एकलौती भारतीय खिलाड़ी थीं। स्मृति क्रिकेट के तीनो फॉर्मेट में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं ।

स्मृति ने अप्रैल 2013 में वनडे क्रिकेट मैच से इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था। जिसके बाद उन्होंने टेस्ट में अपना करियर अगस्त 2014 को इंग्लैंड के खिलाफ वोर्म्स्ली पार्क में की थी. इस टेस्ट की दोनों परियों में स्मृति ने 22 और 51 का योगदान दिया था. उन्होंने अपने क्रिकेट कॅरिअर में शुरुआती शतक राहुल द्रविड़ के बैट से ही बनाए हैं। राहुल द्रविड़ ने अपना बैट उनके भाई श्रवण को साइन करके दिया था।

आईसीसी टीम में शामिल होने वाली एकमात्र भारतीय :

वर्ल्डकप 2017 में जब स्मृति ने क्वालीफ़ायर मुकाबले में इंग्लैंड के खिलाफ 90 रनों की बहुमूल्य पारी खेली थी तब से स्मृति को सभी लोग जानने लगे . इसके बाद उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ उन्होंने 106 रन की आतिशी पारी भी खेली. मंधाना वुमन टीम की उन अहम् खिलाडियों में शामिल थी जिन्होंने टीम को फाइनल तक पहुँचाने में योगदान दिया था. स्मृति 2016 में आईसीसी महिला टीम में शामिल होने वाली एकमात्र भारतीय महिला खिलाड़ी थी।

Smriti Mandhana Biography
Smriti Mandhana Biography

स्मृति मंधाना अंतर्राष्ट्रीय करियर :

स्मृति अपने अच्छे प्रदर्शन से क्रिकेट में अपनी जगह बना चुकी हैं जिसके कारण इन्हे तीनो फार्म में भारत का तिनिधित्व करने का अवसर प्राप्त हुआ. इन्होने अपना पहला अंतर्राष्ट्रीय खेल बांग्लादेश के खिलाफ 10 अप्रैल 2013 वनडे में खेला था. इसके बाद इन्होने अपने टेस्ट मैच में करियर की शुरुआत 2014 को इंग्लैंड के खिलाफ वोर्म्स्ली पार्क में खेल के शुरू किया था। जिसमे इन्होने दो पारियों में 22 और 51 रन का योगदान दिया. अब इनको इनके प्रदर्शन के लिए पूरा विश्व जान चूका है.

नामस्मृति मंधाना
जन्म तिथि18 जुलाई 1996
जन्म स्थानमुंबई, महाराष्ट्र (भारत)
पिता: श्रीनिवास मंधाना (फॉर्मर डिस्ट्रिक्ट-लेवरल क्रिकेटर)
माता: स्मिता मंधाना
भाई: श्रवण मंधना (फॉर्मर डिस्ट्रिक्ट-लेवरल क्रिकेटर)
बल्लेबाजी शैली: बाएं हाथ के बल्लेबाज
गेंदबाजी शैली: राइट-आर्म मध्यम-तेज़
उपलब्धिआईसीसी वूमेंस टीम ऑफ द ईयर में शामिल होने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी
राशि: कर्क
शौक: गाने सुनना
इंटरनेशनल डेब्यू टेस्ट: 13 अगस्त 2014 बनाम इंग्लैंड महिला वर्म्सले में
ओडीआई: अहमदाबाद में 10 अप्रैल 2013 बनाम बांग्लादेश महिलाएं
टी 20: 5 अप्रैल 2013 बनाम बांग्लादेश महिला वडोदरा में
विकिपीडिया : @wiki/Smriti_Mandhana
ट्विटर : @mandhana_smriti
फेसबुक : @circleofcricket.smritimandhana
इंस्टाग्राम : @smritimandhana
जर्सी नंबर : #18

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here