सरोज खान की बायोग्राफी (हिंदी में) | Saroj khan Biography in Hindi

1
390

वैसे देखा जाये तो ये कोरोना काल सबसे ज्यादा बॉलीवुड के लिए काला साबित हो रहा है, मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान (choreographer saroj khan biography) अब इस दुनिया में नहीं रहीं, सांस लेने में शिकायत के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां शुक्रवार रात 1.52 बजे उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया।

सरोज खान की बेटी सुकैना ने बताया कि सुबह सात बजे के करीब मलाड के कब्रिस्तान में सरोज खान को सुपुर्द-ए-खाक किया गया। उनके प्रति शोक प्रकट करने के लिए प्रार्थना सभा तीन दिन बाद होगी। 

यह भी पढ़ें : मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का 71 वर्ष की उम्र में मुंबई में निधन

सरोज खान ने करीब सैकड़ों गानों को कोरियोग्राफ किया था। कम ही लोगों को पता है कि सरोज खान का असली नाम (saroj khan real name) निर्मला सद्धू था। सरोज के पिता का नाम किशनचंद सद्धू सिंह और मां का नाम नोनी सद्धू सिंह था। विभाजन के बाद सरोज खान का परिवार पाकिस्तान से भारत आ गया था।

सरोज ने बाल कलाकार के रूप में फिल्म तराना में काम किया था उस समय वह केवल दो साल की थीं। आपको उसका नाम कलाकारों में नहीं मिलेगा लेकिन अगर आप फिल्म देखते हैं तो उसने चांद पर बैठकर छोटी श्यामा का किरदार निभाया है।

Saroj khan Biography
Saroj khan Biography

50 के दशक में सरोज ने बतौर बैकग्राउंड डांसर काम करना शुरू कर दिया। उन्होंने कोरियोग्राफर बी.सोहनलाल के साथ ट्रेनिंग ली। 1974 में रिलीज हुई फिल्म गीता मेरा नाम से सरोज एक स्वतंत्र कोरियोग्राफर की तरह जुड़ीं हालांकि उनके काम को काफी समय बाद पहचान मिली। सरोज खान की मुख्य फिल्मों में मिस्टर इंडिया, नगीना, चांदनी, तेजाब, थानेदार और बेटा है।

सरोज खान ने अपने पहले मास्टर बी. सोहनलाल से शादी की थी। दोनों की उम्र में 30 साल का फासला था। शादी के वक्त सरोज की उम्र 13 साल थी। इस्लाम धर्म कबूल कर उन्होंने 43 साल के बी. सोहनलाल से शादी की।

सोहनलाल की ये दूसरी शादी थी। पहली शादी से उनके चार बच्चे थे। सरोज खान ने एक इंटरव्यू में बताया था कि ‘मैं उन दिनों स्कूल में पढ़ती थी तभी एक दिन मेरे डांस मास्टर सोहनलाल ने गले में काला धागा बांध दिया था और मेरे शादी हो गई थी।’ 

यह भी पढ़ें : अभिनेत्री अविका गौर (आनंदी) की बायोग्राफी

सरोज से शादी के वक्त सोहनलाल ने अपनी पहली शादी की बात नहीं बताई थी। 1963 में सरोज खान के बेटे राजू खान का जन्म हुआ तब उन्हें सोहनलाल की शादीशुदा जिंदगी के बारे में बता चला। 1965 में सरोज ने दूसरे बच्चे को जन्म दिया लेकिन 8 महीने बाद ही मौत हो गई।

बच्चों के जन्म के बाद सोहनलाल ने उन्हें अपना नाम देने से इनकार कर दिया। 1965 में वह सोहनलाल से अलग हो गईं, लेकिन उनकी सहायक के रूप में काम करती रहीं। जब सोहनलाल को दिल का दौरा पड़ा तो वे फिर से मिले।

Saroj khan Biography
Saroj khan Biography

सरोज खान की एक और संतान थी सोहन लाल, उनकी बेटी हिना खान, फिर सोहनलाल सरोज और दो बच्चों को छोड़कर मद्रास चले गए। बाद में उन्होंने सरदार रोशन खान के साथ शादी की और उन्होंने सुकैना खान नाम की एक बेटी को जन्म दिया, जो अब दुबई में एक नृत्य संस्थान चलाती है।

हाल ही में सरोज खान ने खुलासा किया कि कटरीना कैफ की वजह से उन्हें फिल्म ठग्स ऑफ हिंदोस्तान से हटा दिया था। रिपोर्ट्स की मानें तो सरोज खान की फिल्म इंडस्ट्री से शिकायत है कि उन्हें अब कोई काम नहीं दे रहा।

एक टीवी चैनल के साथ इंटरव्यू में सरोज खान ने बताया था कि ‘मैंने अपनी मर्जी से इस्लाम धर्म ग्रहण किया था। उस वक्त मुझसे कई लोगों ने पूछा कि मुझ पर कोई दबाव तो नहीं है लेकिन ऐसा नहीं था। मुझे इस्लाम धर्म से प्रेरणा मिलती है।’

यह भी पढ़ें : 62 साल की हुईं किरण खेर, जानें उनकी जिंदगी के उतार-चढाव

विवादों में रही :

वर्ष 1989 में आई फिल्म ‘थानेदार’ और इसके दो साल बाद 1991 में आई फिल्म ‘हम’ में एक समानता है। और वह है इन दोनों के गीत क्रमशः ‘तम्मा तम्मा लोगे’ और ‘जुम्मा चुम्मा दे दे’। यह समानता किसी इत्तेफाक के चलते नहीं बल्कि कोरियोग्राफर सरोज खान की एक गलती की वजह से हुई।

जब हम के निर्देशक मुकुल एस आनंद को इसका पता चला था तो फिल्म हम तो उनके हाथ से गई ही, जिस फिल्म की शूटिंग के दौरान उन्होंने ये गाना सुना, उस फिल्म ‘खुदा गवाह’ से भी सरोज खान को बाहर कर दिया गया। सरोज खान को माधुरी दीक्षित के गानों एक दो तीन, धक धक करने लगा और श्रीदेवी के हिट डांस नंबर मेरे हाथों में नौ नौ चूड़ियां है के लिए जाना जाता है।

Saroj khan Biography

मुकुल ने बताया कि फिल्म ‘हम’ के गीत ‘जुम्मा चुम्मा दे दे’ को कोरियोग्राफ करने के लिए सरोज खान को चुना गया था। वह उन कुछ लोगों में शामिल थीं जिसके सामने उस गीत की चर्चा हुई थी। बाद में सरोज खान जाकर बप्पी लाहिड़ी से मिलीं और उन्होंने गीत की पूरी जानकारी उन्हें दे दी। 

बप्पी ने आव देखा ना ताव और इसकी एक नकल ‘तम्मा तम्मा लोगे’ तैयार कर दिया। सरोज खान की इस हरकत का पता जब ‘हम’ के मेकर्स को लगा तो उन्होंने सरोज को फौरन फिल्म से बाहर कर दिया। इस गीत को लक्ष्मीकांत प्यारेलाल के संगीत में कविता कृष्णमूर्ति और सुदेश भोसले ने गाया है।

Real NameNirmala Sadhu
Other NameSaroj Khan
Birth22nd November 1948
Died03 July 2020
First Film (actress)Tarana
First Film (choreographer)Geeta Mera Naam (1974)
Father NameKishanchand Sadhu Singh
Mother NameNoni Sadhu Singh
Husband Name (First Marriage)B. Sohanlal
Son (from her first marriage)Raju Khan
Daughter (from her first marriage)Hina Khan (cuckoo)
Husband (Second Marriage)Sardar Roshan Khan
Daughter (from her second marriage)Sukaina khan

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here