Purnima ke Upay Totke
Purnima ke Upay Totke
ad2

पूर्णिमा के उपाय टोटके, पूर्णिमा के अचूक उपाय, धन प्राप्ति के अनुभूत टोटके?, Purnima ke Upay Totke, purnima ke din karein ye totke, पूर्णिमा के दिन पीपल की पूजा कैसे की जाती है? purnima ke upay, Purnima ke upay totke,

पूर्णिमा का दिन मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने का बहुत ही शुभ दिन होता है। पूर्णिमा के दिन यदि पूर्ण श्रद्धा और विश्वास से मां लक्ष्मी की आराधना की जाए और कुछ उपायों को अपनाया जाए तो मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है और जीवन से धन संबंधी परेशानियां दूर होती हैं। पूर्णिमा के दिन दान का भी अत्यधिक महत्व होता है और इस दिन दान करने से समस्त पापों का नाश होता है।

आज इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं पूर्णिमा के अचूक उपायों के बारे में जिसको करने से आपको अवश्य ही लाभ मिलेगा। वैसे तो हर महीने आने वाली पूर्णिमा फलदायक होती है किंतु कार्तिक पुर्णिमा, शरद पूर्णिमा, गुरु पूर्णिमा, और बुद्ध पूर्णिमा अति विशेष मानी जाती हैं। तो इस वर्ष आने वाली बुद्ध पूर्णिमा पर यह उपाय अवश्य करें।

यह भी पढ़ें – वैशाख पूर्णिमा पर राशि अनुसार करें इन चीजों का दान, खुल जाएगा बंद किस्मत का ताला

पूर्णिमा के दिन क्या होता है?

purnima tithi mahatva

हर माह आने वाली पूर्णिमा को बहुत ही शुभ फलदायक माना जाता है। पूर्णिमा की तिथि को चंद्रमा संपूर्ण होता है इसलिए इस तिथि पर जल और वातावरण में एक विशेष उर्जा उत्पन्न होती है। शुक्ल पक्ष में पूर्णिमा आखिरी तिथि होती है इसके बाद दूसरे माह का प्रारंभ हो जाता है. पूरे साल में 12 पूर्णिमा होती हैं। पूर्णिमा तिथि के स्वामी चंद्रमा होते हैं अतः चंद्रमा की विशेष पूजा अर्चना करने से मनुष्य की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। इस दिन मानसिक समस्याओं से छुटकारा मिलता है और ध्यान करने के अद्भुत लाभ मिलते हैं। पूर्णिमा के दिन सत्यनारायण और शिवजी की उपासना अवश्य करनी चाहिए।

Purnima ke Upay Totke
Purnima ke Upay Totke

पूर्णिमा के अचूक उपाय/ टोटके

Purnima ke Totke

  • पूर्णिमा के दिन सुबह पीपल के वृक्ष पर जल चढ़ाएं। पीपल के वृक्ष पर मां लक्ष्मी का आगमन होता है इसलिए इस दिन सुबह नित्य कर्मों से निवृत्त होकर पीपल के पेड़ की पूजा करें, मीठा जल अर्पण करें और धूप अगरबत्ती जलाकर माँ लक्ष्मी का आवाहन करें। पीपल के पेड़ के समक्ष घी का दीपक जलाएं और भोग में मिठाई अर्पित करें।
  • सफल दांपत्य जीवन प्राप्त करने के लिए पूर्णिमा की दिन पति पत्नी दोनों को चंद्रमा को दूध का अर्घ्य अवश्य देना चाहिए। यदि दोनों एक साथ चंद्रमा को अर्घ्य नहीं दे सकते तो पति पत्नी में से कोई भी एक चंद्रमा को दूध का अर्घ्य अवश्य दें इससे दांपत्य जीवन में मधुरता आती है।
  • यदि आप अपने जीवन में धन संबंधी समस्याओं का सामना कर रहे हैं तो पूर्णिमा के दिन चंद्रोदय के समय चंद्रमा को कच्चे दूध में चावल और चीनी मिलाकर अर्घ्य देना चाहिए। साथ ही “ओम हीम क्लीम सोमाय नमः’ और “ओम चंद्रमासे नमः” मंत्र का जाप करना चाहिए इससे आर्थिक समस्याओं का निराकरण होता है।
  • पूर्णिमा के दिन भगवान शंकर को सफेद चंदन और सफेद फूल अर्पित करने चाहिए। साथ ही भगवान भोलेनाथ को साबूदाने की खीर का भोग लगाएं इससे परिवार में सुख सौभाग्य प्राप्त होता है और रोग और संकट दूर रहते हैं।
  • यदि आप अपनी कोई मनोकामना की पूर्ति चाहते हैं तो पूर्णिमा के दिन एक पात्र में दूध लेकर उसमें चीनी अथवा शहद एवं अक्षत मिलाकर चंद्रमा को अर्घ्य दें। इससे भाग्योदय होता है और सुख समृद्धि और मान प्रतिष्ठा की प्राप्ति होती है।
  • पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी की मूर्ति या चित्र के समक्ष 11 कौड़ियों को चढ़ाकर उन पर हल्दी का तिलक लगाएं। अगले दिन इन कौड़ियों को लाल कपड़े में बांधकर अपनी तिजोरी में रख ले। इसके बाद प्रत्येक पूर्णिमा के दिन इन कौड़ियों को निकालकर इनका पूजन करें और फिर अगले दिन लाल कपड़े में बांधकर अपनी तिजोरी में रखें। इस उपाय से धन संबंधी परेशानी कभी नहीं होती और धन की कमी भी कभी नहीं होती।
  • पूर्णिमा के दिन मंदिर में जाकर मां लक्ष्मी को इत्र और सुगंधित अगरबत्ती अर्पण करनी चाहिए इससे सुख समृद्धि और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है और मां लक्ष्मी का आशीर्वाद सदा बना रहता है।

यह भी पढ़ें – वैशाख पूर्णिमा को क्यों कहते हैं बुद्ध पूर्णिमा?, जानिये महत्त्व, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

  • पूर्णिमा के दिन आप अपने घर या दफ्तर में धन लाभ के लिए श्री यंत्र, व्यापार वृद्धि यंत्र, कुबेर यंत्र, एकाक्षी नारियल, दक्षिणावर्ती शंख, आदि चीजों को नियमानुसार रख सकते हैं। यह सभी चीजें मां लक्ष्मी को अत्यंत प्रिय है और इन दिव्य वस्तुओं को अपने घर या दफ्तर में स्थान देने से सुख समृद्धि बढ़ती है।
  • पूर्णिमा के दिन आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए भी एक बहुत ही बेहतरीन उपाय है। पूर्णिमा की रात में चंद्रोदय के बाद 15 से 20 मिनट तक चंद्रमा को लगातार दीजिए इससे नेत्रों की ज्योति बढ़ती है। साथ ही पूर्णिमा की रात चंद्रमा की रोशनी में सुई में धागा पिरोने का अभ्यास करें इससे भी आंखों की रोशनी तेज होती है।
  • पूर्णिमा के दिन चंद्रमा की चांदनी सभी मनुष्यों के लिए फलदायक होती है। यदि पूर्णिमा के दिन गर्भवती महिला की नाभि पर चंद्रमा का प्रकाश पड़े तो गर्भ पुष्ट होता है। गर्भवती स्त्रियों को चंद्रमा की चांदनी का शुभ फल प्राप्त होता है।
  • पूर्णिमा के दिन तुलसी पूजा करने का बहुत अधिक फल मिलता है। ऐसा कहा जाता है कि पूरे महीने की गई तुलसी पूजा से कई गुना ज्यादा फल पूर्णिमा के दिन की गई तुलसी पूजा का मिलता है। इस दिन तुलसी माता से अपनी मनोकामना कहें और घी का दीपक उनके समक्ष जलाएं।
  • पूर्णिमा के दिन दीप दान करना भी बेहद शुभ माना जाता है। यदि दीपदान गंगा तट पर हो तो अति फलदायक होता है। यदि गंगा घाट जाना संभव ना हो तो आसपास के किसी भी नदी में दीपदान कर सकते हैं। ऐसा कहा जाता है कि गंगा तट या किसी भी नदी या तालाब में दीपदान करने से संकट और कर्ज से छुटकारा मिलता है।

रिलेटेड पोस्ट

Astrology post

ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए कृप्या आप हमारे फेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम और यूट्यूब चैनल से जुड़िये ! इसके साथ ही गूगल न्यूज़ पर भी फॉलो करें !

Previous articleगर्मियों में लू से बचाएगा प्याज का शरबत, जानिये बनाने का आसान तरीका | Pyaz ka sharbat recipe
Next articleआखिर क्यों ज्येष्ठ मास के हर मंगलवार को कहा जाता है बड़ा मंगल, जानिए इसका इतिहास, कथा और महत्व | Bada Mangal Vrat 2022
Avatar
I am a freelance content writer. I write articles related to women's lifestyle, health, beauty, and wellness in both English and Hindi language. It is my pleasure and I love to share my thoughts with you through writing.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here