अपने माथे की लकीरों से जानिए, अपने भविष्य के बारे में

आपको बता दें कि जिस प्रकार हस्तरेखा भविष्य वाणी के द्वारा व्यक्ति की हथेलियों पर बनी हुई रेखाओं के माध्यम से उसके आने वाले समय के बारे में जानकारी पता लगाया जा सकता है ठीक उसी प्रकार ही सामुद्रिक शास्त्र विशेषज्ञ भी भविष्यवाणी करते थे उनका यह मानना है कि वह कुछ ग्रहों से जुड़े हुए हैं व्यक्ति के माथे की रेखाओं के द्वारा व्यक्ति की उम्र का अनुमान लगा सकते हैं व्यक्ति के सिर के आकार रंग इत्यादि से भी इसके बारे में पता लगाया जा सकता है आज हम आपको इस लेख के माध्यम से माथे की रेखाओ से कैसे आप भविष्य के बारे में पता लगा सकते हैं इसके विषय में जानकारी देने जा रहे हैं। Forehead Lines Revealing Future

अपने हाथों की लकीरों को देखकर तो आपने कई बार अपने भाग्य को जानने समझने की कोशिश की होगी पर क्या कभी अपने माथे की लकीरों पर गौर किया है? .. जी हां, जिस तरह हाथ की बनावट और उसकी लकीरें व्यक्ति के स्वभाव, व्यक्तित्व और भाग्य के बारे में बताती हैं वैसे ही व्यक्ति का माथा और बल पड़ने पर उस उभरने वाली लकीरें भी इंसान के बारे में बहुत कुछ बताता हैं। ज्योतिष और शास्त्रो में माथे की बनावट और उस पर पड़ने वाली रेखाओं से व्यक्ति के भविष्य के बारे में बहुत सारी सम्भावनाएं व्यक्त की गई हैं। तो चलिए जानते हैं क्या कहती है माथें की लकीरें..

आइए जानते हैं इसके बारे में:-

शनि रेखा :-

आपको बता दें कि यह रेखा माथे के शीर्ष पर स्थित होती है यह रेखा इतनी लंबी नहीं होती है यह सिर्फ माथे के केंद्र पर दिखाई पड़ती है यदि यह रेखा स्पष्ट रुप से स्पष्ट होती है तो व्यक्ति की प्रकृति गंभीर होती है यदि माथे पर बनी हुई शनि रेखा सिर पर ऊपर की ओर है तो व्यक्ति रहस्यमय गंभीर और थोड़ा अहंकारी हो सकता है बहुत कम व्यक्तियों के माथे पर स्पष्ट शनि रेखा के साथ होती है।

बृहस्पति रेखा :-

आपको बता दें कि बृहस्पति रेखा माथे पर शनि रेखा के नीचे स्थित होती है देखा जाए तो यह शनि रेखा से थोड़ी बड़ी होती है यह रेखा अध्ययन विचार अध्यात्मिकता और व्यक्ति के अन्य हितों को दर्शाती है यदि यह रेखा किसी व्यक्ति के माथे पर साफ दिखाई पड़ती है तो वह आत्मविश्वास और उसके कर्मों के लिए बहुत निश्चित होती है इस प्रकार के व्यक्ति आमतौर पर सरकारी संगठन या शिक्षण क्षेत्र में कार्यरत होते हैं।

मंगल ग्रह :-

आपको बता दें कि माथे पर और बृहस्पति रेखा से नीचे आप मंगल रेखा देख सकते हैं यदि आपको किसी भी व्यक्ति के माथे पर स्पष्ट मंगल रेखा दिखाई देती है तो इस प्रकार का व्यक्ति उच्च कवरेज गर्व दूरदर्शी वीर समझदार और रचनात्मक किस्म का होता है इस प्रकार के लोग प्रशासनिक सेवा पुलिस अधिकारी या राजदूत में कार्यरत होते हैं परंतु अगर आपको माथे पर छोटी सी मंगल रेखा दिखाई देती है तो ऐसे लोग जल्दी नाराज होने वाले होते हैं और वह कुछ भी कर देते हैं।

बुध रेखा :-

यह रेखा ज्यादातर माथे के केंद्र में स्थित होती है और यह रेखा काफी लंबी भी होती है कभी-कभी यह रेखा कान के किनारों को भी छूती है यदि आप इस प्रकार की रेखा किसी व्यक्ति के माथे पर देखते हैं तो ऐसा व्यक्ति अच्छी याददाश्त वाला होता है और उस व्यक्ति को कलात्मक कार्य में ज्यादा दिलचस्पी रहती है।

शुक्र रेखा :-

शुक्र रेखा बुध और माथे के केंद्रीय भाग पर स्थित होती है यह रेखा आमतौर पर छोटी होती है और यह स्वास्थ्य यात्रा प्रवृत्ति अनुसंधान रूचि और व्यक्ति की आकर्षकता को दर्शाती है यदि इस प्रकार की रेखा किसी व्यक्ति के माथे पर स्पष्ट रूप से दिखाई देती है तो वह आशा और उत्साह से भरा हुआ होता है इस प्रकार का व्यक्ति उच्च जीवन शैली सौंदर्य प्रेमी और गंभीर किस्म का होता है।

सूर्य रेखा :-

आपको बता दें कि सूर्य रेखा दाहिनी आंखों पर होती है और यह रेखा ज्यादा लंबी नहीं होती है यह रेखा ऊपर की आंख तक सीमित रहती है यह रेखा प्रतिभा मौलिकता सफलता और प्रसिद्धि को दर्शाती है यदि इस प्रकार की रेखा किसी व्यक्ति के सिर पर होती है तो ऐसा व्यक्ति अद्भुत दृष्टि वाला होता है और ऐसे व्यक्ति अनुशासन में रहना पसंद ज्यादा करते है।

चंद्रमा रेखा :-

आपको बता दें कि चंद्रमा रेखा बाई तरफ झुकाव पर होती है अगर इस रेखा से सरल सीधे और स्पष्ट रेखा होती है तो इससे व्यक्ति को महान कल्पना के साथ कलात्मक अकेला होना चाहिए उस व्यक्ति को पेंटिंग गायन और संगीत में ज्यादा दिलचस्पी रहती है कभी-कभी ऐसे व्यक्ति आध्यात्मिक नेता और दूरदर्शी भी पाए जाते हैं।

Share
Leave a Comment

Recent Posts

5 जून को लगने वाला है चंद्र ग्रहण, जानिये क्या करें और क्या न करें

हेलो फ्रेंड्स , क्या आपको पता है की इस साल का दूसरा चंद्र ग्रहण 5… Read More

June 3, 2020

लॉकडाउन स्पेशल: बिना ओवन तवा पर इस तरह बनाइये मलाईदार पिज्जा

हेल्लो दोस्तों आज कोरोना वायरस के कारण सभी जगह लॉकडाउन के कारण कामकाज, दूकान और… Read More

June 3, 2020

बुध प्रदोष व्रत रखने से होंगे सभी संकट दूर

हेलो दोस्तों , हम आपको प्रदोष व्रत के बारे में बताने जा रहे है। यह… Read More

June 2, 2020

आखिर निर्जला एकादशी को क्यों कहते हैं भीमसेन एकादशी, जानें वजह

शास्त्रों के अनुसार ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी कहते है… Read More

June 2, 2020

आलू-सूजी के कटलेट बनाने की विधि

हेलो फ्रेंड्स , आज हम आपके लिए लाये है आलू सूजी कटलेट की रेसिपी। जो… Read More

June 2, 2020

संगीतकार वाजिद खान का निधन, कोरोना वायरस से पीड़ित थे

हेल्लो दोस्तों मशहूर संगीतकार जोड़ी साजिद वाजिद में से वाजिद खान का निधन हो गया… Read More

June 1, 2020