हेल्लो दोस्तों फूलों में गुलाब की खूबसूरती और खुशबू का हर कोई कायल है। इसलिए ज्यादातर लोग अपने घरों में गुलाब का पौधा (Gulab Lagane Ki Vidhi) जरूर लगाते हैं। लेकिन समस्या ये होती है कि कई बार गुलाब के पौधे घर पर बड़ी मेहनत से लगाने के बाद भी फूल नहीं देते और न ही ये पनप पाते हैं। अगर आपके घर में गुलाब का पौधा है जो सूख रहा है या उसमें अच्छे से फूल नहीं खिल रहे हैं तो आप कुछ खास टिप्स (Gardening Tips) को आजमा सकते हैं।

ये भी पढ़िए : बारिश के मौसम में अनाज को बचाएं कीड़ों से, जानिए आसान तरीके

पहले पौधे को परख लीजिए :

सबसे पहले ये ध्यान दें कि आपके पास किस तरह का प्लांट है। इंगलिश रोज़ या फिर देसी रोज़ प्लांट। देसी गुलाब में महक बहुत अच्छी होती है, लेकिन उसमें बहुत वेराइटी नहीं होती है वो गुलाबी, सफेद, लाल रंगों में तो होता है, लेकिन साइज में काफी छोटा होता है।

इंग्लिश रोज़ प्लांट्स कई तरह के होते हैं। कई रंग, शेप, साइज में मिलेंगे, लेकिन इनमें महक नहीं होती है। अगर आपका देसी प्लांट है तो बहुत ज्यादा केयर के बिना भी वो खिलेगा, लेकिन इंग्लिश रोज़ की केयर करने की थोड़ी टिप्स आपको पता होनी चाहिए।

Gulab Lagane Ki Vidhi
Gulab Lagane Ki Vidhi

गुलाब के पौधे की मिट्टी पर दें ध्यान – Rose Gardening Tips :

अगर पौधे की मिट्टी बहुत कड़क है और सिर्फ ब्लैक सॉइल का इस्तेमाल आप कर रहे हैं तो कभी भी अच्छे फूल नहीं आएंगे। गुलाब के पौधे को रीपॉट करना जरूरी है, इसे दो-तीन दिन के अंदर रीपॉट करें जिससे ये सेटल हो जाए। इसे शुरुआत में बहुत तेज़ धूप में न रखें। नर्सरी से जब भी आप पौधा खरीद कर लाएं उसे रीपॉट करें यानि नए गमले में लगाएं और उसकी मिट्टी बनाते समय इन बातों का ध्यान रखें-

पौधा लगाने से पहले जांच लें मिट्टी हमेशा बालू वाली होनी चाहिए, सिर्फ ब्लैक सॉइल का इस्तेमाल न करें।

मिट्टी में खाद जरूर मिली होनी चाहिए। गुलाब के पौधे के लिए किचन वाले कॉम्पोस्ट से ज्यादा बेहतर गोबर की खाद हो सकती है।

मिट्टी को कड़क होने न दें। उसकी बीच-बीच में खुदाई करते रहें ताकि पानी आसानी से पौधे में भी जा सके और एक्स्ट्रा पानी निकल सके। लेकिन ऐसा करते समय गुलाब की जड़ों का ध्यान जरूर रखिएगा।

आप इसमें कोको पीट, बोन मील आदि भी मिला सकते हैं जिससे पूरे साल तक मिट्टी में सही न्यूट्रिएंट्स बने रहेंगे

ये भी पढ़िए : घर में जरूर लगाएं ये पौधे, मच्छर नहीं भटकेंगे आसपास

अगर सूख रहा है पौधा तो ये तकनीक काम आयेगी :

गुलाब का पौधा वैसे तो बहुत ही आसानी से उग जाता है, लेकिन ऐसा भी हो सकता है कि ये सूखने लगे और इसकी पत्तियां काली पड़ जाएं। ऐसे में आप एक DIY फर्टिलाइजर बना सकते हैं जिसे पौधों पर डाला जा सकता है।

कैसे बनाएं DIY Fertilizer (फर्टिलाइजर ) –

सूखा गोबर और थोड़े से सिट्रस फ्रूट्स के छिलके जैसे संतरे आदि के छिलके लेकर इसे 1 बाल्टी पानी में दो-तीन दिन के लिए रख दें। इसके बाद आप उस पानी को थोड़े और साफ पानी में मिलाकर अपने गुलाब के पौधों में डालें और आप स्प्रे बॉटल की मदद से इसे पत्तियों में भी छिड़क सकते हैं। इसे आप हफ्ते में 1 बार कर सकते हैं और आप देखेंगे कि गुलाब के पौधे बेहतर खिलने लगेंगे।

इसके अलावा आप किचन में दाल-चावल धोने के बाद बचा पानी, आलू उबालने के बाद बचा पानी या सब्जियों को धोने के बाद बचा पानी एक जगह इकट्ठा कर लें और उसे अपने गुलाब के पौधों में डालें। इस पानी में भरपूर मात्रा में न्यूट्रिएंट्स होते हैं जिससे गुलाब के पौधे सड़ते नहीं हैं और उनकी मिट्टी भी नम बनी रहती है वो कड़क नहीं होती।

Gulab Lagane Ki Vidhi
Gulab Lagane Ki Vidhi

गुलाब को पसंद है ठंडा मौसम :

गुलाब का पौधा ठंडों में बहुत अच्छे से फूल दे सकता है। गर्मियों में तो इसे धूप से बचाने की नौबत आ सकती है। ऐसे में आप 50% ग्रीन शेड वाली नेट के नीचे गुलाब का पौधा लगाएं ताकि इसे सीधे दोपहर की धूप से बचाया भी जा सके और पर्याप्त हवा-पानी भी इसे मिले। अगर आप नेट नहीं इंस्टॉल कर पा रहे हैं तो इसे ऐसी जगह पर रखें जहां सुबह की धूप आती हो और दोपहर की धूप न हो। ये सबसे अच्छा तरीका है गुलाब के पौधों को जलने से और उसकी पत्तियों को खराब होने से बचाने का। 

इस पौधे में पानी हमेशा ऊपर से डालना चाहिए ताकि उसके तने जल्दी से निकले और जल्दी से विकसित हो और गुलाब के पौधे में पानी डालने का सही समय सुबह 9:00 बजे से शाम 3:00 बजे तक होता है।

कीट पतंगों से सावधान – Fertilizer For Roses in Pots :

गुलाब के पौधे के लिए एफीड नाम की एक कीट की प्रजाति द्वारा हमला किया जाता है, तथा यह हरे रंग के होते हैं इसके अलावा ने भी मकड़ी रोजवेफर अन्य प्रकार के कई कीट होते हैं जो उसको हानि पहुंचा सकता है इसके लिए आप किसी भी कीटनाशक का उपयोग करके अपने पौधे का बचाव कर सकते हैं। आप उसकी निश्चित जगह चुन कर वहां पर गुलाब के पौधे को लगाने और उसको रोजाना समय-समय पर पानी देते रहें और गर्मियों के समय अधिक देखभाल करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here